सर्पदंश के बच्ची की मौत

सिंहेश्वर प्रखंड प्रमुख चुनाव

मंजू देवी फिर जिप अध्यक्षा

DIG से मांगी रंगदारी

मनीष बने पुलिस अध्यक्ष

बस रूकवा कर लूटा

भूमि विवाद में 4 घायल

दो पक्षों ने झड़प,सड़क जाम

ये बने आज प्रखंड प्रमुख

नेता प्रतिपक्ष और आपदा मंत्री

अभिनव: मारी निफ्ट में बाजी

लाश मिलने से सनसनी

सहरसा जिला परिषद् चुनाव

विभिन्न प्रखंडों के प्रमुख

मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई जल्द

प्रेम कुमार मधेपुरा में

पर्चाधारी को दखल नहीं

सेविका के घर चोरी

महिषी प्रखंड प्रमुख चुनाव

18 बार गया है जेल

बाढ़ का खतरा

सांसद निधि से सौन्दर्यीकरण!

जानकी एक्सप्रेस से असंतोष

युवकों की धुनाई

284 बोतल कोरेक्स बरामद

दो शराबी गिरफ्तार

कॉंग्रेस नेता नजीर नहीं रहे

एफआईआर के आदेश

दुर्घटना में घायल

नप में सूअरों का आतंक

कैसे करें NIFT की तैयारी?

बस गड्ढे में पलटी

शहर में 7 लाख की चोरी

वज्रपात से मौत

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

सोमवार, 27 जून 2016

अभी-अभी: सांप काटने से बच्ची की मौत

झाड़-फूंक ने एक और जिन्दगी ले ली और जबतक में कुछ लोगों के कहने पर दस वर्षीया अंजलि को अस्पताल लाया गया, डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया.
       घटना मधेपुरा जिला के चौसा प्रखंड के लौआलगान की है. सच्चिदानंद सिंह की दस वर्षीय पुत्री अंजली कुमारी की मौत आज सोमवार को साँप काटने से हो गई. घटना उस समय घटी जब वह अपने साथियों के साथ संध्या में खेल रही थी. साँप काटने की सूचना जैसे ही परिजनों को मिली वे उनका झाड़ फूंक कराने लगे. जब नही हो पाया तब उसे चौसा अस्पताल लाया गया जहाँ डा. अमित कुमार ने देखा और मृत घोषित कर दिया. चिकित्सक ने बताया कि लड़की को अस्पताल लाने में काफी विलंब हो गया. जिस कारण जहर पूरे शरीर में फैल गया और मौत हो गई. मृतक के घर में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है.

सिंहेश्वर से प्रमुख पद पर चंद्रकला देवी की जीत तो शंकरपुर से जीती अनीता देवी

मधेपुरा जिला मुख्यालय के झल्लू बाबू सभागार मे हो रहे सिंहेश्वर प्रखंड प्रमुख के चुनाव में कई रंग दिखे पर आखिरकार कड़े मुकाबले मे चंद्रकला देवी ने एक मत से मो इस्तियाक आलम को हरा दिया.
      एसडीओ संजय कुमार निराला के चंद्र कला देवी की जीत की घोषणा करते ही महागठबंघन के समर्थको मे ख़ुशी की लहर दौड गई. जदयू के दीपक यादव ने महा गठबंघन के साथ साथ इसे जनता की जीत बताया.
    जानकारी के अनुसार  बुलंद हौसले के साथ नौ समर्थको को लेकर हॉल मे प्रवेश करने वाले सिंहेश्वर के पंचायत समिति सदस्य राजद नेता जय प्रकाश यादव की पत्नी चंद्र कला देवी जीत के प्रति आस्वस्त थी, लेकिन भीतर जाते ही सारे समिकरण फेल होते दिख रहे थे. लेकिन तीन उम्मीदवारो की दावेदारी ने चंद्र कला देवी की राह असान कर दी.
      मतदान के बाद चंद्र कला देवी को सात मत मिले जबकि मो इस्तियाक को छ: मत और तीसरे युवा उम्मीदवार मुकेश यादव को सिर्फ अपने प्रस्तावक और समर्थक का साथ मिला. उसे तीन मत मिले. वहीं प्रमुख के साथ उप प्रमुख के दावेदार शंभू मंडल और कृष्णा यादव को आठ-आठ बराबर मत मिलने के बाद लॉटरी से शंभू मंडल को विजय घोषित किया गया.
    जीत के बाद सिंहेश्वर में पूजा के बाद संवादाता को संबोघित करते हुऐ प्रमुख ने कहा यह समाजवाद की जीत है और अब प्रखंड मे विकास की नई बयार बहेगी. मौके पर सियाराम यादव, दुलार पीपराही के मुखिया पप्पू यादव, हरेन्द्र मंडल, मनोज यादव, राजेन्द्र यादव, दानी मंडल, खगेश यादव, सिकन्दर यादव, भूषन यादव, बबलू ऋषिदेव, राम लखन मंडल, नरेश यादव, आदि मौजूद थे.     
   उधर शंकरपुर प्रखंड प्रमुख के लिए हुए चुनाव में अनीता देवी प्रमुख पद के लिए और राय बहादुर यादव उप प्रमुख पद के लिए चुने गए.

मधेपुरा जिला परिषद् अध्यक्ष का ताज फिर सजा मंजू देवी के सर

 “मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है
वही होता है जो मंजूर-ए-खुदा होता है.”
मधेपुरा में पंचायत चुनाव के परिणाम के बाद बहुप्रतीक्षित जिला परिषद् अध्यक्ष का ताज इस बार किसके सर सजेगा, ये सबसे अधिक चर्चा का विषय रहा. पर आज मधेपुरा जिला समाहरणालय में हुए चुनाव में सारे अटकलों पर विराम लगाती हुई निवर्तमान जिप अध्यक्षा मंजू देवी ने इस बात को साबित कर दिया कि परिस्थितियां कितनी भी प्रतिकूल क्यों न हो, परिणाम अपने पक्ष में किया जा  सकता है. बताते हैं कि मधेपुरा के कई दिग्गज माने जाने वाले राजनीति के महारथी इस बार मंजू देवी को हारने के लिए एकजुट थे.
    मधेपुरा के समाहरणालय में सुबह से भी भारी मात्रा में तैनात सुरक्षा बलों के बीच नौ बजे से जिला परिषद् के कुल 23 सदस्यों का पहले शपथ ग्रहण कार्यक्रम हुआ और फिर शुरू हुआ अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए वोटिंग का दौर. मुरलीगंज के वार्ड पार्षद श्वेत कमल उर्फ़ बौआ अपनी मां निवर्तमान जिला परिषद् अध्यक्ष मंजू देवी के समर्थन में भले ही बाहर ही थे, पर समर्थक इस आत्मविश्वास से भरे थे कि कुल 12 जिला परिषद् का समर्थन उनके साथ है. हालांकि चर्चा इस बात की भी थी कि अध्यक्ष पद के लिए दोनों पक्षों के द्वारा सारे साम-दाम-दंड-भेद अपनाए जा चुके हैं और विरोधियों का तो अंत तक दावा था कि वोटिंग के वक्त हालात बिलकुल उलटे होंगे. पर चुनाव परिणाम सामने आया और मंजू देवी के समर्थन में पड़े 12 वोट जबकि प्रतिद्वंदी डिम्पल देवी (पति-मनोज यादव, ग्वालपाड़ा) को 11 वोट मिले और इस तरह एक वोट से जीत का ताज लगातार दूसरी बार मंजू देवी के सर सज गया.
    पार्षद श्वेत कमल बौआ समेत सभी समर्थकों ने अबीर-गुलाल से जश्न मनाया. मौके पर पुनर्निर्वाचित जिप अध्यक्षा मंजू देवी ने कहा कि वे जनता का फिर से  आभार व्यक्त करती हैं और विकास के कार्य को सही दिशा देने के लिए हमेशा तत्पर रहेंगी.
    उधर रघुनन्दन दास मधेपुरा जिला परिषद् के उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए. इन्होने अपने प्रतिद्वंदी अभिलाषा कुमारी को 7 मतों से पराजित किया. रघुनन्दन को कुल 15 मत मिले जबकि अभिलाषा कुमारी को 8 मतों से ही संतोष करना पड़ा.

सहरसा डी.आई.जी चन्द्रिका राय से 20 लाख रंगदारी की मांग

बिहार में अपराधियों के निशाने व्यवसायी तो हैं ही, हाल में मोतिहारी कोर्ट के जज निशांत कुमार प्रियदर्शी से जब फोन पर 25 लाख रूपये की रंगदारी मांगी गई थी तो आम लोगों ने मन में यह भय समाना स्वाभाविक था कि जब न्यायाधीश सुरक्षित नहीं हैं तो फिर हमारा क्या? और अब बिहार के बदले निजाम में जिनके जिम्मे अपराधियों को दबोचने की कमान है, अपराधी अब उनसे ही रंगदारी मांगने लगे हैं, तो अब अंदाजा करना मुश्किल है कि आम लोग कैसे सुरक्षित होंगे.
    मिली जानकारी के अनुसार डीआईजी चन्द्रिका राय से अपराधी ने 20 लाख रूपये बतौर रंगदारी की मांग की और रंगदारी नहीं देने पर उन्हें जान से मारने की बात कही. डीआईजी चन्द्रिका राय से रंगदारी 24 जून को ही अपराधी के द्वारा फोन कर मांगी गयी थी. हालांकि सदर थाने में काण्ड अंकित कर इस मामले का अनुसंधान प्रारम्भ किया गया, लेकिन इस मामले की भनक किसी को नहीं लगी. पुलिस ने अभी तक जो जानकारी इकट्ठी की है, वह किसी से शेयर करना नहीं चाह रही है.
      लेकिन हमें जो सूत्रों के हवाले से जानकारी मिल रही है वह यह है कि  सीडीआर के मुताबिक़ दिल्ली के शेष नारायण यादव नाम के अपराधी ने डीआईजी से रंगदारी की मांग की है. अब बड़ा सवाल यह है की जब पुलिस के पास साक्ष्य उपलब्ध हैं तो फिर पुलिस शेष नारायण को गिरफ्तार क्यों नहीं कर रही है.
    डीआईजी ने हमसे बात करते रंगदारी मांगे जाने की बात की पुष्टि की लेकिन अनुसंधान कहाँ तक पहुंचा है, इसपर चुप्पी साध ली. जो भी हो, घटना बहुत बड़ी है और बिहार की इस रंगदारी की गूँज पूरे देश में यहाँ की ध्वस्त होती क़ानून-व्यवस्था से जोड़कर होगी, इसमें शायद ही किसी को शक होगा.

बिहार पुलिस एसोसिएशन के मधेपुरा अध्यक्ष बने सदर थानाध्यक्ष इन्स्पेक्टर मनीष कुमार

मधेपुरा जिला बिहार पुलिस एसोसिएशन के चुनाव संपन्न हो चुके हैं और अध्यक्ष पद पर पुलिस इन्स्पेक्टर सह मधेपुरा सदर थानाध्यक्ष मनीष कुमार को निर्विरोध चुन लिया गया है.
    सदर थाना में कराये गए चुनाव के लिए कटिहार से आये पर्यवेक्षकों की टीम जिनमे पुलिस अधिकारी महाशंकर चौधरी, राजेन्द्र प्रसाद यादव, योग नारायण झा, हरेन्द्र कुमार मांझी शामिल थे, ने चुनावी प्रक्रिया की शुरुआत कराई. चुनाव में भाग लेने जिले भर से इन्स्पेक्टर, एसआई और एएसआई के अलावे अन्य पुलिसकर्मी भी मौजोद थे. लेकिन पहले से मन बना चुके मधेपुरा के पुलिस अधिकारियों में से किसी और ने अध्यक्ष पद की दावेदारी प्रस्तुत नहीं की और न ही नामंकन दाखिल किया. नामांकन सिर्फ पुलिस इन्स्पेक्टर सह मधेपुरा सदर थानाध्यक्ष मनीष कुमार के द्वारा दाखिल किया गया और पर्यवेक्षकों ने इन्हें निर्विरोध अध्यक्ष चुन लिया.
    अध्यक्ष बनने के बाद जहाँ सबों ने पुलिस इन्स्पेक्टर मनीष कुमार को फूल-मालाओं से लाद दिया वहीँ मधेपुरा एसपी विकास कुमार ने भी इन्हें शुभकामनाएं दी है. पुलिस एसोसिएशन के अध्यक्ष के रूप में मनीष कुमार ने कहा कि वे दिए गए पद को जिम्मेवारी पूर्वक निर्वहन करेंगे और सबों के विश्वास पर खरा उतरने का हर संभव प्रयास करेंगे.

रविवार, 26 जून 2016

बस रूकवा कर दो व्यवसायियों को लूटा

मधेपुरा जिले के मुरलीगंज थानाक्षेत्र के जीतापुर के निकट बीती रात एक बस लूट का मामला सामने आया है. बस में सवार सिर्फ दो व्यवसायी से रूपये लूटे गए हैं.  
       मिली जानकारी के अनुसार शनिवार की देर शाम दो मोटरसायकिल पर सवार चार अपराधियों ने राम जानकी रथ नाम के बस को रूकवा घटना को अंजाम दिया. बताया गया कि जूता व्यवसाई मुरलीगंज से तगादा कर सहरसा लौट रहे थे जिससे अपराधियों ने ढाई लाख रूपये और एक नगर पंचायत कर्मी से पचास हजार रुपये छीन लिए और फरार हो गए.
     बस के ड्राइवर के मुताबिक़ दोनो बाइक स्वर मुरलीगंज से बस का पीछा करते आ रहे थे और जीतपुर के पास सामने मोटरसायकिल लाकर गाड़ी को रुकवाया और लूट की घटना को अंजाम दिया. मुरलीगंज थानाध्यक्ष राजेश कुमार ने बताया कि  अभी तक थाना में किसी की तरफ से कोई आवेदन नही दिया गया है पर तहकीकात  जारी है, अपराधी जल्द गिरफ्तार होंगे.

मुरलीगंज में भूमि विवाद में चार जख्मी, नौ गिरफ्तार

मधेपुरा जिले के मुरलीगंज के मीरगंज के वार्ड नं. 11 में भूमि  विवाद मे चार लोग बुरी  तरह जख्मी हो  गये.
     घटना के बारे में नागेश्वर साह उम्र (64 वर्ष) पिता  स्वर्गीय बुधु साह ने बताया कि वह जब अपने खेत से लौट रहे थे तो राजीव  कुमार  पिता  माहेश्वरी साह अपने सहयोगियों के साथ मुझे रेलवे लाइन  के  पास घेर लिया और  विवादित जमीन के मामले को लेकर उनलोगों ने इन पर धारदार हथियार से हमला कर घायल कर दिया. इन्हें बचाने आये बिजेन्द्र  साह का भी पैर उन्होंने तोड़ डाला.
      जबकि इस भूमि विवाद में दूसरे पक्ष से संजय साह पिता बिन्देश्वरी साह ने बताया कि वह चार बजे दुकान से लौटे रहा था कि रास्ते मे रेलवे लाइन के पास पूर्व से ही घात लगाकर रामेश्वर साह, रामजतन साह और  रमेश साह  तीनों पिता स्व० बुधु साह ने मुझे  पकड़ लिया तथा हम पर धारदार चीज प्रहार  किया. बचाने  के लिए मेरा चचेरा भाई राजीव  साह को भी उनलोगों ने लाठी और ईट से मार कर जख्मी कर दिया.
 दोनों पक्षों के कई लोग बुरी तरह घायल है और कुछ को बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल मधेपुरा रेफर किया गया है. दोनों पक्षों की ओर से थाने में आवेदन दिया है. इस बाबत पर मुरलीगंज थानाध्यक्ष ने बताया कि  इस मारपीट में  नौ (9) लोगों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत मे भेज दिया  गया है.

मधेपुरा: दो पक्षों में जम कर चली तीर और गोलियां

मधेपुरा जिला के चौसा थाना के कलासन में जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों के बीच जमकर गोलियां एवं तीर चलाई गयी. जिससे आधे दर्जन से अधिक लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए. घटना को लेकर एक पक्ष द्वारा चौसा उदाकिशुनगंज राजकीय उच्च पथ 58 को घंटो जाम कर आवागमन को प्रभावित किया गया.. बाद में चौसा पुलिस द्वारा काफी समझाने बुझाने के बाद जाम को हटाया गया.
          बताया जाता है कि राजेश्वर यादव, जयकृष्ण यादव, नोखेलाल यादव, अर्जुन यादव और अनंत जायसवाल के बीच वर्षो से जमीन विवाद चल रहा है. जमीन विवाद के कारण ही बीते शनिवार को अचानक अनंत जायसवाल, मोनू जायसवाल और रौशन जायसवाल अपने दर्जनों समर्थको के साथ हरवे हथियार को लेकर दूसरे पक्ष के लोगों के घर पर पहुंच कर घर को तोड़ने लगे. घर के तोड़-फोड़ करने को लेकर दूसरे पक्ष के लोगों द्वारा विरोध करने पर मामला काफी गंभीर हो गया और एक पक्ष के समर्थकों द्वारा अंधाधुंध तीर फायरिंग किया जाने लगा. जिससे मुन्ना यादव और जयकृष्ण यादव गंभीर रूप से जख्मी हो गए. घटना की जानकारी मिलते ही चौसा पुलिस मौके पर पहुंच कर घटना स्थल एक दबिया, एक तीर और एक मोबाइल बरामद किया है.
       पुलिस ने बताया कि बरामद किये गये मोबाईल से कॉल्स डिटेल्स भी निकाला जायेगा. घटना को लेकर आक्रोशित लोगों ने चौसा उदाकिशुनगंज राजकीय उच्च पथ 58 को घंटो जाम कर आवागमन को बाधित किया. जिससे आवागमन पूरी तरह बाधित रहा. सड़क पर वाहनों का काफिला लगा रहा.
   इस बावत अनंत जायसवाल बताते हैं कि उनके पास डेढ़ बीघे जमीन का केवाला है जिसे दूसरे पक्ष के लोग इसे जबरदस्ती दखल करना चाहते हैं जबकि दूसरे पक्ष के राजेश्वर यादव, जयकृष्ण यादव, नोखेलाल यादव, अर्जुन यादव का कहना है कि मेरे पास उक्त जमीन का खतियान है.
    घटना को लेकर मालती देवी ने चौसा थाना में एक आवेदन देकर आधे दर्जन लोगों को नामजद और 50 लोगों को अज्ञात अभियुक्त बनाया है. जिसमें पुलिस ने तक्षण कार्रवाई करते हुए मोनू कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. बहरहाल जो भी हो, जमीन का साक्ष्य दोनों पक्ष के लोगों के पास होना बताया जाता है. घटना को लेकर गांव में तनाव व्याप्त है और कभी भी दोनों पक्षों के बीच एक बार फिर खून-खराबा हाने की आशंका व्यक्त की जा रही है.

प्रखंड प्रमुख चुनाव: चौसा से शम्भू, पुरैनी से सविता, गम्हरिया से शशि और घैलाढ से सुमन देवी के सर जीत का ताज

मधेपुरा जिला मुख्यालय के कला भवन और झल्लू बाबू सभागार में आज भी गहमागहमी रही. प्रखंड प्रमुख की कुर्सी पर काबिज होने के लिए जहाँ प्रत्याशियों के दिल की धड़कन बढ़ी हुई थी वहीं समर्थकों का भी उत्साह चरम पर था. सबों ने जीत की प्रत्याशा में अबीर-गुलाल की तैयारी रखी थी, पर कुछ के सपने पूरे हुए तो कई अधूरे ख्वाब लेकर वापस हो लिए.
    चौसा प्रखंड प्रमुख का ताज शम्भू प्रसाद यादव के सर सजा तो उप प्रमुख के लिए शशि कुमार दास निर्वाचित हुए. चौसा के चुनाव में सबसे ख़ास बात यह रही कि प्रमुख और उप प्रमुख दोनों पदों के लिए कुल 17 वोट में से विजयी और पराजित प्रत्याशियों को 8-8 वोट मिले और एक रद्द घोषित किया गया. इसके बाद लॉटरी सिस्टम से विजयी प्रत्याशियों का चुनाव किया गया.
    पुरैनी से प्रमुख पद पर सविता देवी काबिज हुई तो उप प्रमुख के लिए मो० गुलजार चुने गए.
    गम्हरिया से शशि कुमार यादव प्रमुख पद के लिए निर्विरोध चुने गए जबकि उप प्रमुख दिनेश कुमार चौधरी बने. बताया गया कि 35 वर्षीय नए प्रमुख शशि अविवाहित और गम्हरिया के अबतक के सबसे कम उम्र से प्रखंड प्रमुख बने हैं.
    उधर घैलाढ प्रखंड से सुमन देवी प्रमुख चुनी गई और अमरेन्द्र मंडल उप प्रमुख बने हैं.

“प्रेम कुमार पर मानहानि का मुकदमा दायर करेंगे प्रो० चंद्रशेखर”: प्रतिपक्ष के नेता के बयान पर भड़के आपदा मंत्री

मधेपुरा के गम्हरिया प्रखंड में पंचायत चुनाव को लेकर भिड़े नेता प्रतिपक्ष और आपदा प्रबंधन मंत्री. विपक्ष भाजपा के नेता प्रेम कुमार के कल के बयान को अनर्गल बताते हुए सूबे के आपदा प्रबंधन मंत्री प्रो. चंद्रशेखर भड़क गए.
      मधेपुरा में प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार के उस बयान जिसमे उन्होंने कहा था कि आपदा मंत्री ने प्रो० चंद्रशेखर ने गम्हरिया पंचायत चुनाव के दौरान लोकतंत्र का गला घोंटने का काम किया है पर आज मधेपुरा पहुंचे आपदा मंत्री प्रो० चंद्रशेखर ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते कहा कि वे प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार पर एक सप्ताह के अन्दर उच्च न्यायालय में मानहानि का मुकदमा दर्ज करेंगे.    
      नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने गम्हरिया प्रखंड में पंचायत चुनाव में मुखिया प्रत्याशी के पक्ष में जिला प्रशासन सहित बीडीओ पर दवाब डालकर जिताने का लगाया गम्भीर आरोप मंत्री पर लागते हुए कहा था कि मंत्री मधेपुरा में रहकर चुनाव में हेराफेरी करवा रहे थे. प्रेम कुमार ने प्रो० चंद्रशेखर के उक्त दिन मोबाइल लोकेशन का डिटेल्स सार्वजनिक करने की भी मांग की थी.
       मधेपुरा जिला मुख्यालय के अतिथिशाला में आपदा मंत्री ने कहा कि अगर मेरे ऊपर आरोप साबित नहीं हुए तो विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार को राजनीति से सन्यास लेना होगा. उन्होंने प्रत्यारोप लगते कहा कि अपने काले चेहरे को पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व से छुपाने की राजनीति कर रहे प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार सहित इनके गुर्गे नीरज बबलू पर भी मानहानि का मुकदमा उच्च न्यायलय में करूँगा. जहाँ तक मेरे मोबाइल लोकेशन का सवाल है तो मधेपुरा तो दूर, अगर दरभंगा प्रमंडल की सीमा तक भी मेरे मोबाइल का लोकेशन मिलता है तो मैं राजनीति से हमेशा के लिए सन्यास ले लूँगा.
     अतिथिशाला में आपदा मंत्री के साथ जदयू जिलाध्यक्ष देव किशोर यादव, कॉंग्रेस जिलाध्यक्ष सत्येन्द्र कुमार सिंह समेत राजद के पिंटू यादव समेत कई अन्य मौजूद थे.
   क्या कहा आपदा मंत्री ने प्रतिपक्ष के नेता के खिलाफ, सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें.
(रिपोर्ट: कुमार शंकर सुमन/ मुरारी सिंह)

निफ्ट में सफल होकर मधेपुरा के लाल ने दिखाई प्रतिभा, फैशन के माध्यम से बेहतर स्वास्थ्य पर रिसर्च करेंगे कुमार अभिनव

विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में एक तरफ जहाँ कोसी में बेटियों का जलवा कायम हो रहा है वहीँ कई बेटे भी अपनी अद्भुत क्षमता दिखाकर लोगों को अचंभित कर रहे हैं.
    अभी NIFT (National Institute of Fashion Technology) की प्रवेश परीक्षा में जहाँ मधेपुरा की नेहा सफल होकर इलाके की बेटियों के लिए प्रेरणास्रोत बनी है वहीँ मधेपुरा जिले के ही एक और लाल ने भी निफ्ट की परीक्षा में बड़ी सफलता हासिल की है. मधेपुरा जिले के आलमनगर प्रखंड के खुरहान निवासी सुधीर कुमार सिंह के बेटे कुमार अभिनव ने दूसरे प्रयास में निफ्ट की परीक्षा पास की है. कुमार अभिनव ने Common Merit Number में 713 और Category Merit Number में 588 रैंक हासिल किया है.
    कॉन्सेलिंग के बाद टेक्सटाइल डिजाइन के कोर्स में हैदराबाद में एडमिशन लेने के बाद मधेपुरा आए कुमार अभिनव ने मधेपुरा टाइम्स कार्यालय में निफ्ट की तैयारी पर विस्तार से बताया. मधेपुरा के एमपीएस (मधेपुरा पब्लिक स्कूल) से हाई स्कूल की पढ़ाई और मधेपुरा के बाबा सिंहेश्वर कॉलेज से 2014 में इंटरमीडिएट की परीक्षा पास कर अभिनव निफ्ट की तैयारी के लिए दिल्ली चले गए. मधेपुरा जिला के सिंहेश्वर में निदान बायोटेक नामक नर्सरी चला रहे पिता सुधीर कुमार सिंह के पुत्र अभिनव ने कठिन मेहनत के दौरान नई दिल्ली में प्रीत विहार के Trenz Academy में NIFT के लिए कोचिंग भी हासिल की.
    अभिनव बताते हैं कि निफ्ट की परीक्षा पास करने के बाद B.Des. (Bachelor of Design) के लिए उपलब्ध ब्रांच F.D. (Fashion Design), T.D. (Textile Design), K.D. (Knitwear Design), F.C. (Fashion Communication) तथा A.D. (Accessories Design) हैं जिनमें आप रुचि और प्राप्त रैंक के आधार पर एडमिशन ले सकते हैं.

NIFT प्रवेश परीक्षा में कैसे सफल हों?
: अभिनव का मानना है कि यदि कुछ बातों का ध्यान रखा जाय तो निफ्ट में सफलता आसान हो सकती है. इसके लिए छात्रों को अधिक से अधिक Line Sketching की प्रैक्टिस करना चाहिए. साथ ही तीनों प्वाईंट के Prospective पर command करने के लिए अधिक से अधिक मेहनत की जरूरत है. इसके अलावे कोचिंग से मिले मार्ग दर्शन और स्टडी मैटेरियल का भी गहन अध्ययन काफी लाभदायक होता है.

फैशन के माध्यम से अच्छी सेहत पर करेंगे काम
: स्वास्थ्य में फैशन के महत्त्व को बताते हुए अभिनव एक बिलकुल नई बात बताते हैं. आयुर्वेद में नए प्रयोगों के लिए अपनी पहचान बनाने वाले चाचा डॉ. आर. के. सिंह से प्रभावित रहने वाले अभिनव कहते हैं कि फैशन के माध्यम से अच्छी सेहत कैसे हो, इस विषय पर काम करने का उनका लक्ष्य है. मानव जीवन में रंगों के महत्त्व पर चर्चा करते हुए ये बताते हैं कि कलर थेरेपी और कलर सायकोलोजी की मदद से न सिर्फ बेहतर स्वास्थ्य ही बनाया जा सकता है बल्कि विभिन्न बीमारियों का भी इलाज संभव है और अब जब उन्हें एक बड़ा प्लेटफॉर्म मिला है तो वे इसमें रिसर्च कर इस माध्यम से अपने इलाके के लोगों की सेवा करना चाहते हैं.
(रिपोर्ट: आर. के. सिंह)

शनिवार, 25 जून 2016

अज्ञात युवक का शव मिलने से सनसनी: हत्या की आशंका

मधेपुरा जिले के मुरलीगंज थाना क्षेत्र के पकिलपार गांव में आज शनिवार की सुबह रेलवे ढ़ाला के निकट अज्ञात युवक का शव मिलने से सनसनी फैल गई.
    जानकारी अनुसार सुबह शौच जाने के क्रम में  आस पास के लोगों ने उक्त युवक का शव देखा. शव को देखते ही कानो कान खबर मिलने के बाद वहां भीड़ इकट्ठा होने लगी. प्रखंड क्षेत्र के हरिपुरकला पंचायत अंतर्गत पकिलपार गांव के रेलवे ढ़ाला के निकट लगभग 18 वर्षीय अज्ञात युवक का शव पड़ा था. कई लोगों ने बताया कि देखने से ऐसा प्रतीत होता हैं कि बालक के पेट में चाकू घोंप कर हत्या की गई हो जबकि कुछ लोगों का कहना था कि बालक को ट्रेन में मारकर उसे ट्रेन के बाहर फेंक दिया गया है.
    लोगों ने इस बात की जानकारी मुरलीगंज थानाध्यक्ष राजेश कुमार को दी. इस बावत थानाध्यक्ष ने बताया कि यह मामला रेलवे के अधीन आता है. इसकी जानकारी जीआरपी को दे दी गई है.

सहरसा: जिला परिषद चुनाव में कोसी के किंगमेकर दिनेश चंद्र यादव का फिर दिखा जादू, अरहुल देवी अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बने छत्री यादव

सहरसा जिला परिषद की अध्यक्ष अरहुल देवी बन गई है और  उपाध्यक्ष बने राजद हैं नेता छत्री यादव. यानि कि इस पूरे प्रकरण में बिहार में सत्तारूढ़ दल के नेताओं ने अपनी ताकत एकबार फिर दर्शाई है.
     कोसी के किंग मेकर माने जाने वाले खगड़िया के पूर्व सांसद वर्तमान विधायक दिनेश चंद्र यादव के आशीर्वाद से  जिला परिषद की अध्यक्ष की कुर्सी अरहुल  देवी को मिल गई है और उपाध्यक्ष की कुर्सी पर राजद नेता छत्री यादव विराजमान हुए हैं.
       बता दें कि लगातार सहरसा जिला परिषद अध्यक्ष पूर्व सांसद वर्तमान विधायक जदयू नेता दिनेश चंद्र यादव के आशीर्वाद से ही बनते आ रहे हैं. इससे पूर्व जिला परिषद के अध्यक्ष रहे सुरेंद्रर यादव लगातार दो बार अध्यक्ष रहे  और माना जाता है कि वे भी पूर्व सांसद वर्तमान विधायक दिनेश चंद्र यादव के आशीर्वाद से पद पर काबिज हुए थे.
          जिला परिषद क्षेत्र संख्या 15 से अरहुल देवी को  अध्यक्ष पद के लिए 12 मत प्राप्त हुए जबकि रितेश रंजन की माँ ललिता रंजन को  मात्र 9 मत ही प्राप्त हो सके.  तीन सदस्यों ने क्रॉस वोटिंग किया है. वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए छत्री यादव को 13, अरूण यादव को 5  और विपक्षी जफर आलम को 3 मत मिले.

मधेपुरा: वर्षा, किरण, चंद्रकला और राकेश हुए विभिन्न प्रखंडों के प्रमुख

समाज के सभी वर्गो में समानता के साथ विकास की रोशनी पहुंचाना पहला मकसद होगा.
     उक्त बातें बिहारीगंज के नवनिर्वाचित प्रखंड प्रमुख राकेश कुमार सिंह मधेपुरा में शपथ ग्रहण से लौटकर बिहारीगंज में पत्रकारों से कही. उन्होंने कहा कि सरकार के द्वारा संचालित सभी महत्वपूर्ण योजनाओं को पूर्ण अनुश्रवण करने की जिम्मेवारी पंचायत समिति की होगी. इसके अलावे आपसी सौहार्द बनाकर सभी जनप्रतिनिधियों, पदाधिकारियों के साथ बेहतर समन्वय स्थापित कर प्रखंड के चौमुखी विकास का रास्ता प्रशस्त करना उनकी नैतिक जिम्मेवारी में शामिल होगा.
    दूसरी तरफ कुमारखंड पंचायत समिति की प्रमुख बनी चन्द्रकला देवी एवं उपप्रमुख बनी उमा देवी जबकि आलमनगर से प्रमुख वर्षा रानी और उप प्रमुख धर्मेन्द्र मंडल हुए. जिले के उदाकिशुनगंज प्रखंड से प्रमुख किरण कुमारी चुनी गई और उप प्रमुख मुनेश्वर राय हुए हैं. बता दें कि किरण अनुसूचित जाति की महिला हैं और उदाकिशुनगंज के इतिहास में पहली बार किरण निर्विरोध प्रमुख के रूप में सामने आई हैं. चुने गए सभी प्रमुखों ने क्षेत्र के विकास का वादा किया है.
(नि.सं.)

अच्छी खबर: मधेपुरा में इंजीनियरिंग कॉलेज के बाद अब मेडिकल कॉलेज में भी पढ़ाई आने वाले सत्र से संभव: कार्य में तेजी लाने के लिए डीएम ने की समीक्षात्मक बैठक

जिला पदाधिकारी के रूप में ज्वाइन करने के साथ ही  मो. सोहैल ने राज्य और केंद्र सरकार की लंबित चल रही परियोजनाओं में तेजी लाने का काम शुरू कर दिया. रेल इंजन कारखाना निर्माण का मसला सुलझाना हो या इंजीनियरिंग कालेज का, इन दो सफलताओं के बाद जिलाधिकारी ने अब अपना ध्यान मेडिकल कालेज पर केंद्रित कर दिया है.
       मधेपुरा के जिलाधिकारी मो० सोहैल का प्रयास है कि आने वाले सत्र से ही मधेपुरा के मेडिकल कॉलेज में भी इंजीनियरिंग कालेज की तरह पढाई शुरू हो जाए. इसके लिए डीएम मो० सोहैल ने मेडिकल कॉलेज के निमार्ण कार्य की प्रगति को लेकर निर्माण में लगी एजेंसी एल एंड टी के अधिकारियों के साथ समीक्षात्मक बैठक की. बैठक के दौरान डीएम ने भवन निर्माण कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि हर हाल में एमसीआई से मान्यता के लिए जरुरी निर्माण कार्य को इस वर्ष के अक्टूबर माह तक पूरा कर लिया जाय. इसके लिए उन्होंने निर्माण कार्य में मजदूरों की संख्यां को बढ़ाने का भी निर्देश दिया. निर्माण कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि 1500 मजदूर प्रति दिन निर्माण कार्य में लगे हैं. इस पर असंतोष व्यक्त करते हुए  उन्होंने इस संख्या को दो गुणा करने का निर्देश दिया. यही नहीं मजदूरों की कमी दूर करने के लिए डीएम ने जिला के श्रम अधीक्षक को भी निर्माण में लगी कंपनी को सहयोग करने को कहा है. 
   जिलाधिकारी ने बताया कि जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कालेज के निर्माण में पैसे की कोई कमी नहीं है. अब तक 275 करोड़ रुपये का काम पूरा कर लिया गया है. नए बजट में भी कालेज के हिस्से पर्याप्त राशि हैं. उन्होंने भवन निर्माण के अलावे अन्य कार्यों में भी तेजी लाने का निर्देश सम्बंधित अधिकारी और निर्माण एजेसियों को दिया, जिनमे कालेज परिसर में बनने वाला पवार सब स्टेशन आदि भी शामिल हैं
    रेल इंजन कारखाना निर्माण का मामला हो या इंजीनियरिंग कालेज के मान्यता का या फिर अब मेडिकल कॉलेज के निर्माण और पढ़ाई का विषय हो, डीएम के रूप में मो० सोहैल के कार्य करने की शैली से तो अब तक यह स्पष्ट हो चुका है कि वे सरकार के विकास योजनाओं को मधेपुरा की जमीन पर उतारने के लिए कटिबद्ध हैं और जब भी मधेपुरा के विकास का इतिहास लिखा जाएगा, वर्तमान जिलाधिकारी की चर्चा उसमें प्रमुखता से होना तय मानिए.
(लेखक ईटीवी के वरिष्ठ संवादताता हैं.)
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...