सोमवार, 6 जुलाई 2015

राज्यस्तरीय कबड्डी प्रतियोगिता में मधेपुरा का उम्दा प्रदर्शन

15वीं राज्य स्तरीय सब जूनियर बालक/बालिका कबड्डी प्रतियोगिता में हाजीपुर के अक्षयबट राय स्टेडियम में मधेपुरा ने अपना उम्दा प्रदर्शन दिखारे हुए तृतीय स्थान प्राप्त किया है.
      3 जुलाई से 5 जुलाई चली इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान बालक वर्ग में वैशाली, द्वितीय स्थान सारण तथा तृतीय स्थान मधेपुरा को मिला. इसी तरह मधेपुरा ने बालक/बालिका दोनों वर्ग में भी तृतीय स्थान प्राप्त किया.
      प्रतियोगिता बिहार राज्य कबड्डी संघ के सचिव कुमार विजय के नेतृत्व में संपन्न हुआ. प्रतियोगिता का संचालन मधेपुरा जिला कबड्डी संघ सचिव अरूण कुमार की देखरेख में संपन्न हुआ. मधेपुरा टीम बालक वर्ग के प्रशिक्षक सनोज कुमार तथा बालिका वर्ग के प्रशिक्षक प्रवीण कुमार, शिक्षक मध्य विद्यालय मालिया, मधेपुरा की देखरेख में टीम को सफलता मिली. टीम की सफलता पर जिला कबड्डी संघ के अध्यक्ष जयकांत यादव, जिला खेल प्रशिक्षक सह जिला एथलेटिक्स संघ सचिव संत कुमार, अद्ध्यक्ष देवराज अर्श, कबड्डी संघ उपाध्यक्ष बिजेन्द्र प्रसाद यादव, खेल शिक्षक अभिमन्यू यादव, सविता कुमारी, शिक्षक डा० सुरेश कुमार भूषण आदि ने बधाई दी. (नि.सं.)

रविवार, 5 जुलाई 2015

पोल पर मिस्त्री को चढ़ाकर जेई ने किया विद्युत प्रवाहित: मिस्त्री की मौत, जेई फरार

मधेपुरा जिला के रतवारा थानाक्षेत्र में बिजली विभाग के जूनियर इंजीनियर की लापरवाही से एक बिजली मिस्त्री की मौत का मामला सामने आया है. घटना की पुष्टि रतवारा थानाध्यक्ष महेश कुमार ने भी की है.
मिली जानकारी के अनुसार टेक्नो एम इंजीनियरिंग लि0 के के जेई बिपिन बिहारी साह उर्फ अमिताभ साहु  के द्वारा द्वारा कपसिया में कार्य कराया जा रहा था. इस दौरान बिजली के पोल पर मिस्त्री के रूप में कार्यरत 28 वर्ष चन्द्रशेखर कुमार के द्वारा कार्य सम्पन्न करने से पूर्व ही तार में विद्युत प्रवाहित करा दिया गया जिससे चन्द्रशेखर बुरी तरह झुलस गया.  इसके बाद जेई के द्वारा घायल चंद्रशेखर को पीएचसी आलमनगर उपचार हेतु लाया गया, परन्तु डाक्टरों ने उसे सहरसा रेफर कर दिया. सहरसा में इलाज के दौरान चन्द्रशेखर की मौत हो गई. चन्द्रशेखर सीतामढ़ी जिले के खुसरी डीह थाना रूनीसेदपुर का रहनेवाला था.
मृतक चंद्रशेखर के परिजनों के ने रतवारा थाना में कम्पनी के जेई के विरूद्ध हत्या करने का आरोप लगाया है. उधर जेई के सहरसा से ही फरार होने की खबर है.
(प्रेरणा किरण की रिपोर्ट)

लापरवाह ड्राइवर ने गर्भवती गाय पर चढ़ाया बोलेरो, लोगों में आक्रोश

लापरवाही का एक और नमूना पेश करते हुए आज जिला मुख्यालय के मवेशी अस्पताल मैदान में एक वाहन चालक ने एक गाय को जख्मी कर दिया.
      मिली जानकारी के अनुसार मधेपुरा नगर परिषद् के वार्ड नं.13 के दामोदर यादव की गाय मवेशी अस्पताल के मैदान में बैठी हुई थी. मैदान में वाहन तेज गति से बैक करने में बोलेरो (BR 43P 1844) के ड्राइवर ने एक गर्भवती गाय को ठोकर मार दी, जिससे गाय जख्मी हो गई.
      आसपास के लोगों का कहना था कि उक्त ड्राइवर अक्सर वहाँ नजर आता है और गांजा आदि का सेवन करता है और आज भी शायद उसने नशे में ही ऐसा संवेदनहीन कृत्य किया है. लोगों का कहना था कि अब देखना है कि क्या गर्भ में पल रहे बच्चे को कोई हानि पहुंची है या नहीं?

एक सीडीपीओ की विदाई पर क्यों छलक गए लोगों की आँखों से आंसू?

आम तौर पर ऐसा नहीं होता है और वो भी सीडीपीओ के मामले में. अक्सर अपने रूतबे, कड़ाई या बेवजह भी तंग करने की वजह से सीडीपीओ अपने कर्मचारियों और सेविका-सहायिकाओं के बीच लोकप्रिय नहीं हो  पाती हैं. पर मधेपुरा जिले के चौसा सीडीपीओ इस्मत की विदाई पर आज लोगों के आंसू छलक पड़े.
चौसा प्रखंड सभागार में सीपीओ इस्मत की विदाई समारोह के साथ ही चौसा के प्रखंड विकापदाधिकारी मिथिलेश बिहारी वर्मा को सीडीपीओ का प्रभार दिया गया. विदाई में आई हुई सेविका तथा बाल विकाके कर्मचारियों की आखें नम हुई तो विदा होने वाली पदाधिकारी भी अपने आंसू रोक नहीं पाई.
मौके पर निवर्तमान सीडीपीओ इस्मत ने कहा कि यहाँ के लोगों से मिले प्यार और सहयोग को वे शायद ही कभी भूल सकें. चौसा के लोग बहुत ही अच्छे हैं. वहीँ चौसा की कई सेविका और सहायिका का कहना था कि इतनी अच्छी सीडीपीओ उन्होंने आज तक नहीं देखा. यदि उन्होंने कोई सजा भी दी तो वो अच्छे के लिए और नौकरी बचाने के लिए. व्यवहार के मामले में तो मैडम का कोई सानी नहीं था. हाल की बहाली में भी सीडीपीओ का ईमानदार रूप चौसा ने देखा.
विदाई समारोह में जहाँ जनप्रतिनिधि विनोद राय ने दावा किया कि वे राज्य ककी गारंटी तो नहीं ले सकते, पर उनका दावा है कि इतनी बेहतरीन सीडीपीओ जिले में नहीं थी. प्रखंड विकास पदाधिकारी ने भावुक होकर कहा कि इनके काम की बदौलत लोग आज इनकी विदाई के समय रो रहे हैं.

पैक्स अध्यक्ष का बेटा एक अन्य के साथ रंगदारी मांगने के आरोप में गिरफ्तार

मधेपुरा जिला के चौसा थानाक्षेत्र में रंगदारी मांग रहे दो अपराधियों को पुलिस ने रंगे हाथ दबोच लिया. आरोप है कि दोनों अपराधी बीती रात  हथियार का भय दिखाकर रंगदारी वसूल रहे थे. गश्ती के दौरान चौसा पुलिस ने इन्हें पकड़ा.
मिली जानकारी के अनुसार चौसा के विजय घाट सड़क के लौआलगान पुल के पास लौआलगान पूर्वी के पैक्स अध्यक्ष पूरण सिंह का पुत्र विभाष सिंह तथा सहयोगी अनिल सिंह के साथ मकई एवं बालू व्यवसायियों से रंगदारी की मांग कर रहा था. किसी ने इस बात की जानकारी चौसा थानाध्यक्ष को दे दी. उन्होंने रात्रि गश्ती पर निकले पुलिस टीम को मौके पे जाने कहा. पुलिस ने दोनों को एक देशी पिस्टल, एक जिंदा कारतूस और तीन खोखा के साथ गिरफ्तार कर लिया. थानाध्यक्ष सुनील कुमार भगत ने पूछताछ के बाद गिरफ्तार दोनों अपराधियों को जेल भेज दिया.

शनिवार, 4 जुलाई 2015

कई मोटरसायकिल लूट कांड का वांछित सोनू सिंह गिरफ्तार

मधेपुरा जिला का शातिर अपराधी और चोरी तथा बाइक लुटेरों का सरगना माना जाने वाले सोनू सिंह को  सिंहेश्वर पुलिस ने गिरफ्तार करने में बड़ी सफलता हासिल की है. 
     जानकारी के अनुसार आज थानाध्यक्ष राजेश कुमार को  गुप्त सूचना मिली कि  कई मोटरसाइकिल  लूट काण्ड  का शातिर अपराधी  सोनू  सिंह  अपने  घर  पर  आया है. सूचना के  आधार पर  प्रभारी  ने  रामपट्टी में  उसे  दबोच लिया.
बताया गया कि हाल  में ही  बैरबन्ना निवासी  विपत गुप्ता की मोटरसायकिल हीरो पैशन प्रो (बीआर 43  4057) को  सोनू के द्वारा लूट लिया  गया था, जिसका काण्ड संख्या  107/15 है. वहीँ काण्ड संख्या  108/15  भी  उसी के  नाम पर  दर्ज है  जिसमे   बैरबन्ना निवासी मो. हलीम की स्प्लेंडर प्लस ( बीआर 43  सी 7317)  को  केला बगान के पास  लूट लिया गया था. जानकारी दी गई कि पूर्व में भी छः  मामले  उस पर दर्ज हैं और सिंहेश्वर थाना काण्ड संख्या  51/11  में  वह चार्टशीटेड है, जबकि काण्ड संख्या  115/12 , 128 /12,  156/12,  180/13 , 181/13  में  पुलिस  को सोनू सिंह की तलाश थी.

खाद्य निगम के सहायक प्रबंधक को किया बर्खास्त: लापरवाही का आरोप

मधेपुरा जिले के सिंहेश्वर में खाद्य निगम के गोदाम के सहायक प्रबंधक की सेवा मुक्त कर दिया है. प्रबंध निदेशक निगम पटना  ने सहायक प्रबंधक  की  सेवा  समाप्त  करते हुए सिंहेश्वर  गोदाम  का प्रभार  लेने के लिए  एजीएम आशा  कुमारी  को  भेजा.
जानकारी के अनुसार शनिवार को  जिला  प्रबंधक  बिहार  राज्य  खाद्य निगम  मधेपुरा  मो.  वलागउददीन ने  प्रबंध निदेशक  निगम पटना  को  सहायक  प्रबंधक के  खिलाफ  अनाधिकृत  रूप  से  अनुपस्थित रहने  तथा  कर्त्तव्य में  लापरवाही तथा  गोदाम के  कार्य बाधित  करने के  आरोप लगाते हुए  पत्र लिखा था, जिसके  आलोक में  प्रबंध निदेशक  निगम पटना ने संविदा के  आधार पर  नियुक्त   राम  बाबू  को  तत्काल प्रभाव से  उसकी  संविदा  समाप्त  कर सेवामुक्त कर दिया. श्री उद्दीन ने  तत्काल प्रभाव से  ऐजीम आशा कुमारी  को  गोदाम  का  प्रभार लेने के लिए नियुक्त किया. हालांकि एजीएम आशा कुमारी ने सबकुछ मिलान करने के बाद प्रभार लेने की बात कही.
सिंहेश्वर बीडीओ  अजीत कुमार  ने  कानूनी खानापूर्ति  करते हुए  इसकी  सूचना  थानाध्यक्ष राजेश कुमार को  दिया. मौके पर  अनि  शंभू  कुमार , सत्यदेव  प्रसाद  सिंह , बीपीआरओ  सतीश कुमाररामचंद्र  साहलिपिक   इजहार  आलमअनुसेवक  अरूण कुमार ,  इरशाद आलममो. जाकिर  कैमरा मैन  मनोज कुमार  आदि उपस्थित थे.

झाडू लेकर दारोगा पर टूट पड़ी महिलायें

मधेपुरा जिले के गम्हरिया में आज एक महिला की मौत के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन काफी उग्र रहा. प्रदर्शन इतना उग्र था कि उन्हें समझाने गए एक दारोगा पर महिलायें झाडू लेकर टूट पड़ी. दारोगा को भाग कर अपनी रही-सही इज्जत बचानी पड़ी.
      घटना का कारण गम्हरिया थाना से महज सौ मीटर दूर गत मंगलवार को एक महिला फूल कुमारी की मौत से जुड़ा है. आरोप है कि महिला को उसके ससुराल वालों ने जहर दे दिया था और फिर उसे इलाज के लिए मधेपुरा सदर अस्पताल नहीं ले जाकर उसे सुपौल लेकर चले गए, जहाँ मौत के बाद महिला का पोस्टमार्टम तो कराया गया पर उसके बाद लाश को परिजनों और पुलिस ने मिलकर गायब कर दिया. गम्हरिया प्रखंड के ही जोगबनी निवासी बेचू यादव की बेटी फूल कुमारी की मौत के बाद आज महिलाओँ ने झाडू आदि लेकर प्रदर्शन किया. उनका कहना था कि मामले की सही जांच हो और हत्यारों को कडी से कड़ी सजा मिले. उनका कहना था कि गम्हरिया थानाध्यक्ष मक़सूद अशर्फी की भी इसमें साजिस है, उन्हें सस्पेंड किया जाय.
      बताया गया कि इसी दौरान गम्हरिया थाना के एएसआई टी. एन. सिंह प्रदर्शन स्थल पर गये तो महिलाएं उनपर भड़क गई और उनपर झाडू चलाना शुरू कर दिया. बाद में उन्हें वहाँ से भागना पड़ा. करीब चार घंटे जाम के बाद मधेपुरा के सदर एसडीपीओ कैलाश प्रसाद और इन्स्पेक्टर नवीन कुमार सिंह प्रदर्शनकारियों को समझा-बुझा कर शांत करने में सफल रहे.

“परमात्मा को देखने के लिए हमें उसमें लीन होना पड़ेगा”: स्वामी गुरू नंदन जी महाराज

हमारे कर्म में ही परमात्मा का वास है. अच्छे कर्म  हमें  परमात्मा को  पहचानने की क्षमता  प्रदान  करता है.  परमात्मा  सभी  जगह  है. परमात्मा  हमारे  ही  अंदर  है  पर हम  उसे  देख  नही  पाते हैं.  उसे  देखने के लिए  हमें परमात्मा  में  लीन  होना  पडेगा. जैसे  जल में  खडा होकर भी  धोबी  घाट पर  प्यासा रहता है, उसी  तरह  परमात्मा  भी  हमारे  अंदर ही है  लेकिन  हम उसे  अपनी  नादानियों के  कारण  समझ  नहीं  पाते हैं.
    ये  बातें महर्षि  मेही  आश्रम  कुप्पा  घाट  से  आये स्वामी  गुरू  नंदन जी  महाराज ने   मधेपुरा जिले के सिंहेश्वर स्थित श्री  राम  जानकी मंदिर  (ठाकुरबाड़ी) मे चल रहे  श्री  मद भागवत कथा  सप्ताह  ज्ञान  यज्ञ में  कही. इस  सतसंग  कथा  का  आयोजन  पिछले  28 जून से  चल रहा है जिसका  समापन  आज  हुआ.

प्रस्तावित विद्युत रेल कारखाना के लिए जमीन के मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम और ट्रेन रोका

मधेपुरा प्रखंड के चकला चौक के पास आज जबरन जमीन अधिग्रहण के विरोध में और अधिक मुआवजे की मांग को लेकर ग्रामीणों ने सड़क जाम कर दिया और ट्रेन को भी रोका.
      मधेपुरा के भू-अर्जन पदाधिकारी के खिलाफ नारे लगा रहे और प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना था कि हम जबरन भूमि अधिग्रहण का विरोध करते हैं और हमें सरकार उचित मुआवजा नहीं दे रही है. सरकार अपने बहुत कम दर पर हमसे जबरन जमीन लेकर विद्युत रेल कारखाना बनाना चाह रही है.
      सड़क जाम करीब चार घंटे तक रहा और लोगों को समझाने मधेपुरा थानाध्यक्ष मनीष कुमार और अंचलाधिकारी उदय कृष्ण यादव जामस्थल पर पहुंचे लेकिन प्रदर्शनकारी जिलाधिकारी को बुलाने की मांग पर अड़े थे. बाद में अधिकारियों ने भू-अर्जन पदाधिकारी से बात की और उनके द्वारा मिले आश्वासन के आधार पर प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम समाप्त किया.

बाबा के मंदिर में चोर: दान पेटी तोड़कर रूपये उडाये...

भक्तों की आस्था पर चोट पहुंचाने से बाज नहीं आ रहे चोर. जिले भर के कई मंदिरों से मूर्तियां चुराकर चोर धनवान हो रहे हैं और भक्त सिर्फ यह कहकर संतोष करते आ रहे हैं कि चोरी करने वाले को भगवान सजा देगा. पर शायद भारत के न्यायालयों की तरह उपरवाले के भी कोर्ट में अपराधों पर फैसले सुनाने में देरी होती है.
      यदि ऐसा नहीं होता तो मधेपुरा नगर परिषद् क्षेत्र के वार्ड नं. 18 के मुख्य मार्ग में स्थित बाबा पलकेश्वर नाथ शिव मंदिर के दान पेटी पर हाथ साफ़ करने में चोर यूं सफल नहीं हो जाते. आज सुबह जैसे ही लोगों को इस बात की जानकारी मिली कि मंदिर के दान पेटी को चोरों ने तोड़कर खाली कर दिया तो लोगों की भीड़ जमा होने लगी.
      हालांकि आसपास के लोगों के मुताबिक दान पेटी में ज्यादा रूपये नहीं रहे होंगे क्योंकि दो-चार दिन पहले ही करीब छ: महीने के बाद दान पेटी को मंदिर प्रशासन ने खुलवाया था और इसमें से करीब 16 हजार रूपये निकले थे. पड़ोस के लोगों ने बताया कि इसके चबूतरे पर देर रात तक कुछ युवक बैठे रहते हैं जिनमें गँजेरी-नशेरी भी शामिल हैं. हो सकता है किसी के मन के पाप आ गया हो.
      जो भी हो, भक्तों के बीच में यह भी कहते हैं कि भगवान के घर में देर है अंधेर नहीं. अब देखें, जिले के कई जगह मूर्ति चोरी की घटना का ऊदभेदन अबतक शायद ही हो पाया है, इस मामले में क्या होता है? वैसे आपको जानकारी देते चलें कि झूलन आदि के मेले में यहाँ सैंकड़ों जोडियाँ चप्पलें भी चोरों के हो जाते हैं.

शुक्रवार, 3 जुलाई 2015

चुनाव के मौसम में बढ़ी दारू की बिक्री: गम्हरिया पुलिस ने की अवैध शराब जब्त

चुनाव का समय आते ही जिले में दारू की खपत बढ़ जाती है. अधिकाँश टुच्चे जनप्रतिनिधि मीटिंग्स वगैरह बिना दारू के शुभ नहीं मानते है. खर्चा के नाम पर ऊपर बिल भी तो बढ़ाना है. शायद यही वजह है कि ग्रामीण इलाकों में भी इनदिनों देशी तथा विदेशी शराब की बिक्री बढ़ चुकी है.
      आज मधेपुरा जिला के गम्हरिया थानाक्षेत्र के बटोबा नहर के पास गश्ती के दौरान गम्हरिया पुलिस ने शशिभूषण कुमार नाम के एक शख्स को एक झोला के साथ पकड़ा. शख्स मोटरसायकिल (BR 43 6310) पर एक झोला में दस बोतल देशी शराब तथा 16 बोतल विदेशी शराब (बैगपाइपर) लेकर जा रहा था. पुलिस ने शराब जब्त कर लिया और शशिभूषण को गिरफ्तार कर लिया.

मिट्टी काटने के विवाद में भाजपा के मुस्लिम नेता को किया जख्मी

मधेपुरा वार्ड नं 5 में कब्रिस्तान के निकट मिट्टी काटने के विवाद में सामाजिक कार्यकर्ता और भाजपा नेता शौकत अली पर कुदाल चलाकर उन्हें जख्मी कर दिया गया है. उनके चेहरे और नाक पर चोट लगी है और घटना के बाद वे दर्द और रक्तस्राव की हालत में अस्पताल गए जहाँ प्राथमिक इलाज के बाद उन्हें आराम करने की सलाह दी गई.
      घटना के बारे में श्री अली ने बताया कि उन्हें आज सुबह जानकारी मिली कि उनकी जमीन से कई लोग मिट्टी काटकर ट्रैक्टर से ले जा रहे हैं. जब वे वार्ड नं.5 में अपनी जमीन पर जाकर उनलोगों को रोका तो उनलोगों ने इनपर कुदाल चला दी जो इनके सर और नाक पर लगी. मधेपुरा थानाध्यक्ष मनीष कुमार ने बताया कि मामले में एक नामजद शैलेन्द्र यादव तथा एक अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया गया है. (नि.सं.)

अजूबा ! स्थापना काल से ही मधेपुरा के इस स्कूल में नहीं हैं एक भी शिक्षक

आपने बिहार के सैकड़ो सरकारी स्कूल देखे होंगे और शिक्षा पर सूबे के मुखिया नीतीश कुमार के बड़े-बड़े दावे भी सुने होंगे पर आज हम आपको दिखाने जा रहे हैं एक ऐसा स्कूल जो सभी सरकारी दावों की पोल खोल देता है. ये शिक्षा में ऐतिहासिक उपलब्धियों वाले बिहार का ऐसा सच है जिसके बारे में आपने सपने में भी नहीं सोचा होगा.
मधेपुरा में है एक ऐसा अजूबा सरकारी विद्यालय, जहाँ स्थापना काल से आज तक नहीं है एक भी शिक्षक. बिना गुरु के हीं बच्चों को मिल रहा है किसी तरह स्कूली ज्ञान. विभागीय अधिकारी से लेकर जिलाधिकारी दो वर्षों से विद्यालय में शिक्षक नियुक्त करने का सिर्फ भरोसा ही दे रहे हैं. मधेपुरा जिले के मुरलीगंज प्रखंड क्षेत्र के जीतापुर उत्क्रमित उच्च बिना शिक्षक के स्कूल की तो एक बानगी भर है पर एक अनुमान है कि जिले में 20 से ज्यादा ऐसे उत्क्रमित उच्च विद्यालय हैं जिन्हें आज भी अपने गुरुजी के आने का इन्तजार है. मतलब साफ़ है कि इस इलाके में स्कूली शिक्षा एक मजाक बनकर रह गया है. यहाँ सरकार और प्रशासन बच्चों के भविष्य की बलि देने की पूरी तैयारी कर ली है.
जहाँ जिले के अधिकाँश सरकारी स्कूलों में बुनियादी व्यवस्था भी नहीं है वहीँ इस उत्क्रमित उच्च विद्यालय की सबसे हास्यापद बात तो ये है कि मध्य विद्यालय के गुरु जी अपने छात्रों की पढाई ख़राब कर इस उच्च विद्यालय के बच्चों पढ़ाने में मदद का मजाक कर रहे हैं. विद्यालय के छात्र गौरव कुमार, छात्रा नशीबन कुमारी, सोनम कुमारी, बेबी कुमारी सहित दर्जनों छात्र कहते हैं कि उन्हें भी पता नहीं है कि उनका भविष्य क्या होगा?
      बिना शिक्षक के स्कूल पर मधेपुरा के प्रभारी डीएम अबरार अहमद कहते हैं कि हमारी जानकारी में नहीं है कि कोई ऐसा उत्क्रमित विद्यालय है जहाँ शिक्षक नहीं है, हाँ, कई जगह शिक्षक की कमी जरूर हो सकती है, बीईओ से बात कर हम उसकी समीक्षा हम कर लेते हैं.

बिहारीगंज में ‘उड़ने वाले सांप’ (?) से बाजार में अफरातफरी: पकड़ा संपेरे ने

मधेपुरा जिला में ऐसे सांप बहुत कम ही देखे गए हैं. पकड़ाए सांप के बारे में संपेरे सुशील शर्मा की यदि मानें तो इसे स्थानीय भाषा में सुगवा सांप कहते हैं.
मधेपुरा जिला के बिहारीगंज के दुकानदार ललन कुमार झा के मुताबिक उसने इस सांप को दुकान में इधर-उधर उड़ते देखा और फिर वह एक जगह जाकर बैठ गया. इस सांप की वजह से जवाहर चौक स्थित इस कपड़े की दुकान में अफरातफरी का माहौल पैदा हो गया और लोग दहशत के मारे इधर-उधर छिपने लगे. दुकानदार ने उसे अपने दुकान से भगाने का प्रयास किया, पर सांप छुप गया. जिसके बाद संपेरे को बुलाया गया और सांप को पकड़ लिया गया.
 बिहारीगंज के मधुबन निवासी संपेरे सुशील शर्मा ने बताया इस सांप को सुगवा सांप कहते है और यह आदमी के ज्यादातर मस्तक पर प्रहार करता है. इसकी लंबाई साढ़े तीन फीट के आसपास है. सांप को देखने के लिए लोगों की बड़ी भीड़ जमा रही, हालांकि सांप से किसी को कोई हानि नहीं पहुंची.

क्या सचमुच होता है उड़ने वाला सांप?: क्रिसोपेलिया जाति में उड़ने वाले साँपों की पांच प्रजाति पाई जाती है. दरअसल इन्हें देखने से नहीं पता चलता है कि ये उड़ सकते हैं. वास्तव में ये एक ऊँची जगह से दूसरी ऊँची जगह छलांग लगाते हैं और उस समय ये शरीर के आकार को बदल लेते हैं जिससे हवा में ये दूर तक उड़ते नजर आते हैं.
      बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक जर्नल ऑफ एक्सपेरिमेंटल बायलॉजी में क्रिसोपेलिया जाति के साँपों के उड़ने का वैज्ञानिक रहस्य प्रकाशित किया गया है.
(दिव्य प्रकाश की रिपोर्ट)
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...