24 जुलाई 2014

7 साल बनाम 2 दिन देखिये, 8 वार्ड पार्षदों का सहयोग मेरी जीत है: विनीता भारती

|वि० सं०|24 जुलाई 2014|
मधेपुरा नगर परिषद् के चुनाव में निर्वाचित चेयरमैन विशाल कुमार बबलू के प्रतिद्वंदी विनीता भारती को भले ही सात वोटों से संतोष करना पड़ा हो, परन्तु विनीता भारती इसे अपनी जीत मानती है.
      मधेपुरा टाइम्स से बातचीत में वार्ड नं 2 की वार्ड पार्षद विनीता भारती कहती हैं कि निर्वाचित चेयरमैन विशाल कुमार बबलू गत सात वर्षों से वार्ड पार्षदों का समर्थन जुटाने में लगे थे और सात वर्षों के बाद उन्हें इस बार 18 वार्ड पार्षदों का समर्थन मिला सका है. जबकि मैंने सिर्फ दो दिन पहले मुख्य पार्षद पद के लिए अपनी उम्मीदवारी तय की थी और महज दो दिन में मेरे साथ आठ वार्ड पार्षद हो गए. इसे मैं अपनी बड़ी जीत मानती हूँ. विनीता का कहना है कि जिस एक वार्ड पार्षद का वोट अयोग्य घोषित किया गया वह भी उन्हें ही मिला था.
      विशाल कुमार बबलू के निर्वाचन पर विनीता भारती कहती हैं कि भले वे धनबल से चुनाव जीत गए हों, पर मैं उन्हें शुभकामनाएं देती हूँ और यदि वे नगर परिषद् के विकास के लिए काम करते हैं तो उन्हें मेरा भी सहयोग मिलेगा.

23 जुलाई 2014

बबलू के चेयरमैन बनने से समर्थकों में जश्न का माहौल: पर काँटों भरा ताज है चेयरमैन के सर पर

|मुरारी कुमार सिंह|23 जुलाई 2014|
विशाल कुमार बबलू मधेपुरा नगर परिषद् के नए चेयरमैन हो चुके है. मतगणना के बाद उन्हें जिला प्रशासन ने इस आशय का प्रमाणपत्र भी दिया है. जीत के बाद समर्थक वार्ड पार्षदों और समर्थक जनता ने एक-दूसरे को अबीर गुलाल लगाया और जमकर बबलू यादव, जिंदाबाद के नारे भी लगाए. शहर में विजय जुलुस निकला और भीड़ की मनोदशा से ऐसा ही लगता था था जैसे अब अच्छे दिन आ गए हैं.
      समाहरणालय के सभागार से जीत का प्रमाणपत्र लेकर निकले नए चेयरमैन विशाल कुमार बबलू के चेहरे पर गंभीरता भरी खुशी दिखाई दे रही थी. नगर परिषद् के चेयरमैन बनने का सपना तो पूरा हुआ है, मगर वे जानते हैं कि जनता यदि उनपर विश्वास कर रही है तो इस विश्वास को कायम रखना भी उतनी ही बड़ी चुनौती होगी. शायद यही वजह थी कि जीत पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते नए चेयरमैन ने कहा कि हम अभी कुछ नहीं बोलेंगे, काम करेंगे तब बोलेंगे.
      सच ही कहा नए चेयरमैन ने. नगर परिषद् मधेपुरा में काम करना काफी मुश्किल सा हो चला है. काँटों का ताज पहने विशाल कुमार बबलू के लिए सबसे बड़ी चुनौती अपने साथ के वार्ड पार्षदों को मिलाकर रखना होगा. उन्हें समर्थन दे चुके 18 वार्ड पार्षदों में कई वही हैं जो इससे पहले पूर्व चेयरमैन विजय कुमार बिमल के खेमे में थे और उनके पिछले पांच साल और इस बार के दो साल के कार्यकाल में वे अपने वार्ड का समुचित विकास नहीं कर सके. नगर परिषद् क्षेत्र के अधिकांश लोगों का मानना है कि कई वार्ड पार्षद खाओ-पकाओ की राजनीति में भरोसा रखते हैं और यदि इन्हें खाने-पकाने का अवसर नहीं मिला तो वे गुटबंदी कर दो साल के बाद फिर अविश्वास प्रस्ताव लाने के प्रयास में कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे.
      नए चेयरमैन के सामने दूसरी चुनौती नगर परिषद् के अधिकारियों और कर्मियों की कार्यशैली को लेकर हो सकती है. विरोधी खेमे में रहते पूर्व चेयरमैन के कार्यकाल के दौरान वर्तमान चेयरमैन ने कार्यपालक पदाधिकारी समेत अन्य अधिकारी और कर्मियों पर भी मिलीभगत और मनमानी करने का आरोप लगाया था. वर्तमान में भी वही अधिकारी और कर्मी नगर परिषद् में मौजूद हैं. यदि उनकी कार्यशैली वास्तव में आपत्तिजनक थी तो उन्हें भी पटरी पर लाना एक बड़ी चुनौती साबित हो सकती है.
      और सबसे कठिन है जनता के विश्वास पर खरा उतरना. नगर परिषद् के सभी 26 वार्डों की स्थिति नारकीय है. शहर में नाला की समुचित व्यवस्था नहीं होने के कारण मुहल्लों में पैदल चलना मुश्किल हो गया है. सड़कों के बगल में गंदगी का अम्बार रहता है और सूअरों की आपस में भिड़ंत से आम आदमी सड़क पर चलने से खौफ खाते हैं.
      नए चेयरमैन के सामने चुनैतियाँ कई हैं और इन चुनैतियों से वे अयोग्य मंत्रियों के सहारे किस रणनीति के तहत लड़ पाते हैं, ये आने वाले वक्त के गर्भ में छुपा है. हालाँकि वे नगर परिषद् के विकास के प्रति आशान्वित हैं. कहते हैं जनता हमें सहयोग करे और यदि खामी निकाले तो हमें सलाह भी दे ताकि हम उनके विश्वास पर कायम रह सकें. खैर, चलिए ! तब तक के लिए हमारी ओर से भी नए मुख्य पार्षद को शुभकामनाएं.

आइआईटी और मेडिकल में सफलता हासिल किये पूर्ववर्ती छात्रों को केपीएस ने किया सम्मानित

|ए.सं.|23 जुलाई 2014|
शिक्षा के क्षेत्र में लगातार उल्लेखनीय सफलता हासिल करने वाले मधेपुरा जिला मुख्यालय स्थित किरण पब्लिक स्कूल के खाते में और भी नई सफलताएं गई हैं. किरण पब्लिक स्कूल के पूर्ववर्ती छात्र रहे प्रेम प्रकाश ने जहाँ मेडिकल की जिपमर, पौण्डिचेरी  की परीक्षा में सफलता अर्जित की है वहीँ छात्र राहुल राज ने आईआईटी की परीक्षा में बाजी मारकर यह दिखा दिया है कि मधेपुरा में पाले बढे छात्र भारत के अन्य जगहों के छात्रों से कम नहीं है.
      अपने स्कूल के छात्रों की सफलता के अवसर पर आज किरण पब्लिक स्कूल में इस दोनों छात्रों के लिए सम्मान समारोह का आयोजन किया गया. सम्मान समारोह में प्रेम प्रकाश और राहुल राज को शॉल ओढ़ाकर और गुलदस्ता भेंट कर स्कूल की निदेशिका श्रीमती किरण प्रकाश ने सम्मानित किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी सफलता इन दोनों बच्चों के द्वारा किये गए अथक परिश्रम का परिणाम है.
      सम्मान समारोह के अवसर पर विद्यालय के प्रबंध निदेशक अमन प्रकाश ने दोनों छात्रों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हम आगे भी प्रतिभाशाली बच्चों को सम्मानित करते रहेंगे ताकि इनसे प्रेरणा लेकर अन्य बच्चे भी आगे बढ़ने के लिए परिश्रम करें.
      इस अवसर पर विद्यालय के उप-प्राचार्य किशोर कुमार ठाकुर, ए. के. दास, इन्द्रदेव यादव, तेज नारायण यादव आदि भी उपस्थित थे.  

जिला मुख्यालय में छेड़खानी करते युवक को पुलिस ने पकड़ा

|कुमार शंकर सुमन|23 जुलाई 2014|
मधेपुरा में स्कूल कॉलेजों के बाहर मजनूओं के मंडराने की घटना तो आम है ही, पर जब इन मजनूओं की हरकत किसी लड़की के परेशानी का सबब बन जाए तो फिर इस पर आम जनता को और जनता की सुरक्षा में लगी पुलिस को सक्रिय होना ही होगा.
      मधेपुरा की पुलिस इनदिनों शहर के मजनूओं पर खास नजर बनाये ही है. इसी क्रम में आज दोपहर जिला मुख्यालय के पार्वती सायंस कॉलेज के पास और कॉलेज चौक के निकट एक छात्रा के साथ छेड़खानी कर रहे एक युवक को पुलिस ने अपनी कस्टडी में ले लिया. युवक को हिरासत में लेने के बाद वहाँ आरोपी युवक को देखने लोगों की भीड़ लग गई, पर यहाँ इस बात को शर्मनाक माना जा सकता है कि जिस समय छेड़खानी को एक अकेले युवक के द्वारा अंजाम दिया जा रहा था उस समय आसपास के लोग घटना को नजरअंदाज करते गुजर रहे थे. अचानक वहां पहुंचे मधेपुरा पुलिस के कमांडो टीम की नजर इस युवक की हरकत पर गई और उसने युवक को धर दबोचा.
      ऐसी घटनाओं में आम आदमी की भूमिका बेहद स्तरहीन मानी जा सकती है. महिलाओं की रक्षा सबों का धर्म होना चाहिए. यदि हम-आप चाहें तो ऐसी घटना को आराम से रोक सकते हैं. जरूरत है जागरूकता और जरा सी हिम्मत दिखाने की.
 इस प्रेरणादायक वीडियो को आप भी देखें और अपने समाज के महिलाओं की सुरक्षा के लिए आगे आये. वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.

विशाल कुमार बबलू बने नगर परिषद के नए चेयरमैन: बुरी तरह हारी विनीता भारती

|मुरारी कुमार सिंह|23 जुलाई 2014|
नगर परिषद् मधेपुरा के मुख्य पार्षद के लिए हुए चुनाव में विशाल कुमार बबलू चुन लिए गए है. वहीँ प्रतिद्वंदी विनीता भारती को कड़ी हार का मुंह देखना पड़ा है.
      जिला समाहरणालय के सभागार में हुए मत विभाजन में आज मधेपुरा नगर परिषद् के सभी 26 वार्ड पार्षदों में हिस्सा लिया. वार्ड नं 16 के पार्षद और पिछले मुख्य पार्षद के विरोधी खेमे का नेतृत्व कर रहे विशाल कुमार बबलू को कुल 18 वोट मिले जबकि वार्ड नं 2 की पार्षद विनीता भारती को महज 7 वोटों से ही संतोष करना पड़ा. एक वोट अयोग्य करार दिया गया है.
      जीत की घोषणा के बाद नए मुख्य पार्षद विशाल कुमार बबलू ने मधेपुरा टाइम्स से कहा कि वे नगर परिषद् के विकास के मुद्दे पर अभी कुछ नहीं बोलेंगे, क्योंकि जो बोलते हैं यहाँ वे करते कुछ नहीं. मैं करूँगा तब बोलूँगा.

भारत गैस की मोबाइल बुकिंग सर्विस : नहीं कराया है तो अभी करा लें मोबाइल रजिस्टर्ड

|मुरारी कुमार सिंह|23 जुलाई 2014|
घरेलू गैस सिलिंडर मिलने में परेशानी होना आम बात है. गैस एजेंसी पर लंबी लाइनें देखकर उसके पीछे खड़ा होना उपभोक्ताओं को मायूस कर देता है. पर ये बात भी सच है कि जानकारी के अभाव में भी लोग विभिन्न समस्याओं से नाहक ही जूझते रहते हैं.
      मधेपुरा में भारत गैस के सिलिंडर को उपभोक्ताओं तक पहुँचाने की मुख्य एजेंसी मेजर योगेन्द्र गैस एजेंसी की मोबाइल बुकिंग सर्विस काफी हद तक उपभोक्ताओं की परेशानी को कम करने वाला है.
      मेजर योगेन्द्र गैस एजेंसी के प्रोप्राइटर संजय कुमार जायसवाल इस सेवा की विस्तृत जानकारे देते हुए बताते हैं कि सिर्फ इस सर्विस का लाभ उठाने के लिए सिर्फ एक बार उपभोक्ताओं को एजेंसी पर अपने वोटर आईडी या ड्राइविंग लायसेंस के साथ आकर अपने मोबाइल को रजिस्टर्ड कराना होता है. उसके बाद उपभोक्ता गैस सिलिंडर की जरूरत होने पर अपने रजिस्टर्ड मोबाइल से 9473356789 पर कॉल कर कुछ ही सेकेण्ड में गैस बुक करा सकते हैं. इससे उपभोक्ताओं को लंबी लाइन से छुटकारा मिल सकता है.

विभिन्न मांगों को लेकर छात्र संगठन ने किया आमरण अनशन

|मुरारी कुमार सिंह|23 जुलाई 2014|
बी. एन. मंडल विश्वविद्यालय से जुड़े विभिन्न मांगों को लेकर एन. एस. यू. आई की मधेपुरा शाखा ने अनिश्चितकालीन आमरण अनशन शुरू कर दिया है.
      छात्र संगठन की मुख्य मांगों में पीजी विभाग के नामांकित 66 छात्रों की परीक्षा इसी सत्र में लेने की मांग, बी.एड. प्रवेश परीक्षा रद्द कर विश्वविद्यालय स्तर पर परीक्षा लेने की मांग, यूनिवर्सिटी के आय-व्यय बजट को ऑनलाइन करने की मांग, कॉलेज में शिक्षकों की कमी को पूरा करना, स्नातक के तीनों पार्ट के सभी संकायों के उत्तरपुस्तिकाओं का पुनर्मूल्यांकन कर परिणाम अविलम्ब प्रकाशित करने आदि शामिल है.
      आमरण अनशन पर बैठे छात्र नेता श्रीकांत राय, रूपेश कुमार तथा गणेश कुमार ने कहा कि विवाद का दूसरा नाम ही मंडल विश्वविद्यालय है और अपने स्थापना काल से ही यहाँ के छात्र समस्याओं से जूझ रहे हैं. ऐसे में यदि हमारे मांगें नहीं मानी जाती है तो हम आंदोलन को और भी उग्र रूप देंगें.

22 जुलाई 2014

डीलर की मनमानी के विरोध में चौसा में सड़क जाम

|आरिफ आलम|22 जुलाई 2014|
मधेपुरा जिले के चौसा प्रखंड मुख्यालय में आज लोगों ने डीलरों की मनमानी के खिलाफ सड़क जाम कर दिया. घंटों जाम के बाद चौसा के अंचलाधिकारी शहदुल हक के डीलरों के खिलाफ कार्यवाही का आश्वासन देकर जाम छुडवाया.
      चौसा प्रखंड कार्यालय के सामने ही जाम कर रहे लोगों का आरोप था कि पूरे प्रखंड में डीलर अपनी मनमानी कर रहे हैं. एक तो सरकार द्वारा निर्धारित मूल्य से ज्यादा पैसे वसूल कर रहे हैं, ऊपर से अनाज भी जबरन कम देते हैं.
      जाम की खबर पर चौसा प्रखंड के अंचलाधिकारी शाहदुल हक जाम स्थल पर पहुंचे और लोगों को डीलरों पर कार्यवाही का आश्वासन दिया. यही नहीं वे लोगों को साथ ले जाकर चौसा पश्चिमी में खुद अपने सामने ही अनाज का वितरण शुरू करवा दिया. उन्होंने डीलरों को चेतावनी दी कि आगे यदि इस तरह की शिकायत मिली तो उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी.
      अंचलाधिकारी के आश्वासन पर लोगों ने जाम हटाया.

दादा-पोते को मोटरसायकिल ने मारी ठोकर, दादा की मौत, पोते के जांघ की हड्डी टूटी

|आरिफ आलम|22 जुलाई 2014|
मधेपुरा जिले के चौसा के लौआलगान के पास एक तेज रफ़्तार मोटरसायकिल ने पैदल चल रहे एक दादा-पोते को ठोकर मार दी जिससे दादा की मौत हो गई तथा पोते के जांच की हड्डी टूट गई है.
      मिली जानकारी के अनुसार घटना आज दिन की है जब लौआलगान पश्चिमी पंचायत के अभिरामपुर बासा के रहने वाले रासो साह (65) और उसका पोता अंकुश (13) भटगामा से पैदल घर जा रहे थे कि तेज रफ़्तार मोटरसाइकिल (BR 10 C 2294) ने दोनों को पीछे से ठोकर मार दी. दोनों को आननफानन में पीएचसी चौसा दाखिल कराया गया.
       हालत गंभीर देखकर चिकित्सकों ने दोनों को सदर अस्पताल मधेपुरा ले जाने कि सलाह दी, पर रास्ते में ही दादा की मौत हो गई. पोते का इलाज चल रहा है.

मधेपुरा के एक दारोगा के गैरधर्म की महिला से अनैतिक सम्बन्ध से परिवार मुश्किल में

|वि० सं०|22 जुलाई 2014|
मधेपुरा के ही एक दारोगा की करतूत से उनका अपना ही परिवार मुश्किल में पड़ गया है. मधेपुरा जिले के उदाकिशुनगंज थाना में पदस्थापित और आरा जिला के रहने वाले एक दारोगा के पहली पत्नी रहते दूसरी औरत को रखने का मामला जब पहली पत्नी के सामने खुला तो अब दारोगा जी मानसिक तनाव में या फिर गैर औरत की मुहब्बत में अपनी ड्यूटी से गायब हो गए हैं.
       सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पूर्व से शादीशुदा और बाल-बच्चेदार दारोगा जी करीब दस साल पहले उस समय एक मुस्लिम महिला के मुहब्बत में जाल में फंसे जब वे मोतिहारी में पदस्थापित थे. पत्नी और बच्चों के बिना रह रहे दारोगा जी को अन्य महिला का साथ खूब भाया और प्यार परवान चढ़ता गया और दारोगा जी ने उसे दूसरी पत्नी की तरह साथ रखना शुरू कर दिया. मधेपुरा में दारोगा जी ने शुरू से ही बेगम और उसके चार बच्चों को साथ रखा और सबकी परवरिश का भी जिम्मा उठाया.
      कहते हैं कि पहली पत्नी जब यहाँ आना चाहती थी तो दारोगा जी उसे जगह ठीक नहीं है, मेरी ड्यूटी का कोई ठिकाना नहीं है, ये उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र है आदि आदि कहकर टालते रहे. पर पहली पत्नी जब अचानक बिना बताये पति से जरूरी बातें करने मधेपुरा आई और खोजकर पति के निवास पर गई तो वहां उसने दूसरी महिला को देखा. पूछने पर जब दूसरी महिला ने अपने को दारोगा जी की पत्नी बताया तो पहली पत्नी के पैरों तले से जमीन खिसक गई. पर दारोगा जी ने पहले तो अपनी पहली पत्नी और बच्चों को पहचानने से इनकार कर दिया और बाद में साफ़ कह दिया कि चाहे मुझपर मुकदमा करो या जेल भेजो मैं दूसरी महिला और बच्चों के साथ ही रहूँगा. मधेपुरा टाइम्स को मिली जानकारी के अनुसार मोतिहारी में दूसरी महिला खाना बनाने का काम करती थी और उसके शौहर का इंतकाल हो चुका था. चार बच्चों की माँ उस महिला ने दारोगा जी का जमकर आर्थिक शोषण भी करती आ रही है, पर फिर भी दारोगा अपनी पहली पत्नी और बच्चों से दूर भाग रहे हैं.
इधर दारोगा जी को पहले घर से भी चार बच्चे हैं और जाहिर है इनकी करतूत से परिवार अचानक से मुसीबत में आ चुका है.

मधेपुरा में गोली मारकर नाबालिग छात्र की हत्या

|मुरारी कुमार सिंह|22 जुलाई 2014|
मधेपुरा में अपराध का ग्राफ तेजी से ऊपर चढ गया है. लूट, हत्या और अपहरण की लगातार घटनाओं से जिला दहशत में नजर आ रहा है. आज शाम में मधेपुरा में एक नाबालिग की हत्या हथियार बंद अपराधियों ने कर दी है. घटना के बाद शंकरपुर के इलाके में भय का वातावरण व्याप्त था.
      मिली जानकारी के मुताबिक़ मृतक अनुपम कुमार पिता- अरविन्द प्रसाद यादव मुन्ना रायभीर वार्ड नं. 8 थाना शंकरपुर इंटर का छात्र था और पटना में रहकर तैयारी करता था. अनुपम की दादी बीमार हुई तो तीन दिनों पहले गाँव आया था. पर दादी आज स्वर्ग सिधार गई. दादी का दाह संस्कार करने के बाद अनुपम घर लौटते वक्त वार्ड नं. 10 में एक व्यक्ति के दरवाजे पर बैठ गया.
      उसी समय चार मोटरसायकिल से अपराधी वहाँ पहुंचे और अनुपम पर गोलियाँ चलाकर भाग गए. अनुपम की मौत घटना स्थल पर ही हो गई. लाश को पोस्टमार्टम के लिए मधेपुरा सदर अस्पताल लेकर पहुंचे परिजन का कहना था कि इस हत्या में बैजनाथ शर्मा, ललटू यादव, उमेश यादव, बंटी यादव, प्रमोद यादव शामिल था. घटना के कारणों के बारे में फिलहाल कोई स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कह पा रहा था.

बिहार की बेटियों पर अपमानजनक टिप्पणी करने वाले भाजपा के धनखड पर मधेपुरा में एफआईआर

|मुरारी कुमार सिंह|22 जुलाई 2014|
मधेपुरा की एक अदालत ने पिछले दिनों बिहार की लड़कियों के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में हरियाणा के नेता ओपी धनखड के खिलाफ एफआईआर के आदेश दे दिए हैं.
      मधेपुरा जिला मुख्यालय के बाय पास रोड के निवासी अमित कुमार सिंह मोनी के द्वारा मधेपुरा की सीजेएम कोर्ट में दायर किये गए परिवाद पत्र पर मधेपुरा के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी श्री के. बी. पाण्डेय की अदालत ने मधेपुरा थाना को इस मामले में एफआईआर दर्ज कर अगली कार्यवाही करने का आदेश दिया है.
      बता दें कि गत 7 जुलाई को मधेपुरा के अमित सिंह ने हरियाणा के भाजपा नेता सह बीजेपी किसान मोर्चा के अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड पिता- मोहाबत सिंह, हॉउस नं. 187 A, वार्ड नं.4 दादरी, तहसील-दादरी, जिला- भिवानी (हरियाणा) के खिलाफ मधेपुरा के न्यायालय में भारतीय दंड संहिता की धारा 500, 501, 506, 507 तथा 509 के तहत परिवाद पत्र दायर किया था. आवेदन में कहा गया है कि भाजपा नेता ने गत 4 जुलाई को हरियाणा के जिंद जिला के नरवाना में एक किसान सभा में अपने भाषण के दौरान ओम प्रकाश धनखड ने हरियाणा के कुंवारे लड़कों के लिए बिहार से दुल्हन लायेंगे जैसे शब्दों का प्रयोग कर आम बिहारी की भावना को ठेस पहुँचाया गया है.
      मामले में बहस कर रहे मधेपुरा के अधिवक्ता नीरज कुमार उर्फ पिंटू ने बताया कि मामला बेहद गंभीर था और इससे बिहारियों की भावना आहत हुई थी. सीजेएम कोर्ट का एफआईआर का फैसला इसकी गंभीरता दर्शाने के लिए काफी है.

चेयरमैन के लिए हॉर्सट्रेडिंग: भारी-भरकम रकम पर कुछ वार्ड पार्षद खेमा बदलने के लिए तैयार: सूत्र

|कुमार शंकर सुमन|22 जुलाई 2014|
मधेपुरा नगर परिषद् की राजनीति भी हद दर्जे की घटिया चीज है. यहाँ चेयरमैन बनने के लिए हॉर्सट्रेडिंग यानी खरीद-फरोख्त का पुराना इतिहास रहा है. कल जबकि मधेपुरा नगर परिषद् के लिए सभी 26 वार्ड पार्षद मत विभाजन करने वाले हैं, वहीँ अभी आकंड़ों के जोड़-तोड़ की राजनीति चरम पर है.
      निवर्तमान चेयरमैन विजय कुमार बिमल ने भले ही अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया हो और मैदान में विशाल कुमार बबलू के विरोध में विनीता भारती खड़ी हों, पर अभी भी दोनों पक्षों के समर्थन में खड़े दिख रहे कई वार्ड पार्षद उहापोह की स्थिति में हैं और यदि उन्हें भारी-भरकम रकम मिल जाए तो किसी भी तरफ जा सकते हैं.  
      मधेपुरा टाइम्स को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चार वार्ड पार्षदों का एक समूह तो अब भी, जिस पाले में हैं उसे बदलने को तैयार हैं यदि उन्हें पूरी तरह खुश कर दिया जाय. पर खबर है कि इस बार कोई भी पक्ष बहुत बड़ी रकम लगाने को तैयार नहीं है, क्योंकि सभी जानते हैं कि विगत ट्रेंड को देखते हुए यहाँ वार्ड पार्षद दो सालों में अविश्वास प्रस्ताव लगा ही देते हैं और यदि सूत्रों पर विश्वास किया जाय तो ये ऐसा इसलिए करते हैं ताकि मुख्य पार्षद की दौड़ में शामिल उम्मीदवार के हाथों इन्हें फिर से बिकने का सुअवसर प्राप्त हो जाय, क्योंकि इसी हॉर्सट्रेडिंग के पैसे पर वे अपना और अपने घर का विकास करते हैं और नगर परिषद् नरक परिषद् बना रह जाता है.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...