29 अगस्त 2014

फर्जी बैंक मामले में पकड़ाए दोनों स्टाफ को भेजा गया जेल

|मुरारी कुमार सिंह|29 अगस्त 2014|
कल मधेपुरा जिला मुख्यालय के बाय पास में सत्यभामा प्लाजा में चल रहे फर्जी बैंक फ्यूचर क्रेडिट मल्टीस्टेट बैंक लिमिटेड के जांच के क्रम में पकड़ाए गए दोनों आरोपियों को आज जेल भेज दिया गया.
      बता दें कि इस बैंक पर 125 लोगों से एडवाइजर और मेंबर बनाने के नाम पर 3110 रूपये की दर से करीब सवा सात लाख रूपये ठगने के आरोप हैं. बताया गया कि इस बैंक के रीजनल मैनेजर कृत नारायण कुमार मधेपुरा जिले के महेशुआ के निवासी हैं जबकि जोनल मैनेजर मो० आरिफ बुलंदशहर मेरठ के रहने वाले हैं.  
      कल जनता दरबार में दिए गए एक आवेदन के आधार पर मधेपुरा के जिलाधिकारी गोपाल मीणा ने त्वरित कार्यवाही करते हुए बैंक की जांच करवा दी थी जिसमें अन्य कर्मचारी वहाँ से भागने में सफल हो गए थे पर बैंक में काम करने वाले दो कर्मचारी सिंहेश्वर के राज कुमार सिंह निखिल और सुपौल जिले के संजीव कुमार को जेल भेज दिया है.
      मधेपुरा पुलिस ने इस उदभेदन के सम्बन्ध में ठगी और बिना लायसेंस के बैंक चलाने से सम्बंधित एफआईआर दर्ज कर लिया है और इसे चलाने वाले अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है.

मधेपुरा में गणपति महोत्सव हुआ शुरू: भव्य आयोजन

|मुरारी कुमार सिंह|29 अगस्त 2014|
मधेपुरा में गणेश चतुर्थी के अवसर पर आज से गणपति महोत्सव का शुभारंभ हो गया. जिला मुख्यालय के पुरानी कचहरी कम्पाउंड स्थित बड़ी महावीर मंदिर के प्रांगण में आज से गणपति महोत्सव विधि-विधान के साथ शुरू हो गया.
      आज से लेकर अगले माह के 07 सितम्बर तक चलने वाले इस महोत्सव के लिए भव्य तैयारी की गई है. गणपति मौर्या संघ, मधेपुरा के द्वारा संचालित इस महोत्सव की खास विशेषता शाम की आरती होती है जिसमें सैंकड़ों पुरुष और महिला भक्त भाग लेते हैं. आरती का समय शाम के 7 बजे रखा गया है.
      महोत्सव में गणपति की भव्य प्रतिमा का निर्माण किया गया है जिसे देखने आज से लोग उमड रहे हैं.
      उधर सिंहेश्वर में भी आज गणेश चतुर्थी के अवसर पर गणपति महोत्सव का आयोजन किया गया है.

छेड़खानी के आरोप में पकड़ाए अधेड़ ने गिडगिडाते हुए कहा, ‘मत छापिए खबर, मेरी इज्जत चली जायेगी’.

|मुरारी कुमार सिंह|29 अगस्त 2014|
मधेपुरा जिला मुख्यालय में छेड़खानी के आरोप में पकड़ाए एक अधेड़ व्यक्ति को बाद में आरोपी महिला के द्वारा ही मुकर जाने पर भले ही छोड़ दिया गया हो, पर इस बीच कथित अधेड़  ने जो कहानी बताई वो बहुत कुछ सोचने पर मजबूर कर देती है.
      आरोपी ने बताया कि आरोप लगाने वाली महिला उसकी रेंटर है और वह उस महिला की संदेहास्पद व्यक्तिगत जिंदगी की वजह से उसे मकान खाली करने को कहा था. महिला के पास उसके बकाया रूपये भी थे. इसी बात को लेकर दोनों में कहा-सुनी हो गई थी और महिला ने उसपर छेड़खानी का आरोप लगा दिया.
      हालांकि बाद में महिला ने अपने आरोप वापस ले लिए और पुलिस ने भी आरोपी को इसी आधार पर छोड़ दिया. पूछताछ के दौरान आरोपी अधेड़ व्यक्ति मधेपुरा टाइम्स से बार-बार आग्रह करते रहे कि प्लीज, मत छापिएगा, मेरी इज्जत चली जायेगी.
      इस मामले में सच्चाई जो भी हो, पर ये बात तो स्पष्ट है कि कुछ गिनी-चुनी महिलाओं ने तंग-तबाह करने और पैसे झटकने के लिए झूठे मुक़दमे करने में महारथ हासिल कर ली है. 

महिला की अज्ञात लाश बनी पहेली: गरीबी के कारण फेंक दी गई लाश?

|मुरारी कुमार सिंह|29 अगस्त 2014|
मधेपुरा पुलिस के द्वारा आज सुबह बरामद की गई लाश की गुत्थी सुलझती नजर आ रही है. मधेपुरा पुलिस को जब ये सूचना मिली कि मधेपुरा-सहरसा रोड में भिरखी पुल के पास एक महिला की लाश पड़ी हुई है तो पुलिस ने फ़ौरन की इस उम्रदराज महिला की लाश बरामद कर ली.
      महिला की पहचान नहीं होने पर पुलिस ने तहकीकात गहरी कर दी. आसपास के कुछ लोगों ने बताया कि कल देर शाम ही एक व्यक्ति टाटा मैजिक से इस महिला की लाश को पुल से नीचे फेंक रहा था तो वहां मौजूद लोगों ने इसके बारे में पूछा. लाश फेंकने वाले व्यक्ति ने अपनी मजबूरी बताते हुए कहा था कि मेरे पास इसके दाह संस्कार और इसके बाद क्रिया-कर्म के पैसे नहीं हैं.
      यदि पुलिस के मुताबिक़ लाश फेंकने वाले व्यक्ति की यही मजबूरी रही होगी तो ये स्थिति मानवता के नाम पर एक धब्बे के सामान है जहाँ किसी की गरीबी और लाचारी उसे इतना मजबूर कर रही है कि वो अपने परिजनों के अंतिम संस्कार तक तरीके से नहीं कर पाता है.

28 अगस्त 2014

रानी मुखर्जी की ‘मर्दानी’ देखकर क्या मर्दानगी दिखा पायेंगे बिहार पुलिस?

|नि० सं०|28 अगस्त 2014|
हमेशा नए और सुधारवादी प्रयोग के लिए चर्चित बिहार में पुलिस के आईजी अरविन्द पाण्डेय ने अब बिहार के सभी पुलिस अधिकारियों को नई फिल्म मर्दानी देखने की सलाह दी है और इसमें सीनियर इन्स्पेक्टर (रानी मुखर्जी) के द्वारा मानव व्यापार के गिरोह को ध्वस्त करने में प्रयुक्त रणनीतियों का अनुकरण करने की सलाह पुलिस को दी है.
      अपराध अनुसंधान विभाग बिहार के पत्रांक 168/गो० दिनांक 26.08 2014 के द्वारा पुलिस महानिरीक्षक, कमजोर वर्ग अरविन्द पाण्डेय ने बिहार के सभी वरीय पुलिस अधीक्षक, रेल सहित सभी पुलिस अधीक्षक, सभी समादेष्टा, बिहार सैन्य पुलिस को परामर्श दिया है कि मानव व्यापार के बिंदु पर अपनी दक्षता बढाने के लिए सभी पुलिस पदाधिकारियों और थानाध्यक्षों को मर्दानी फिल्म दिखाने का प्रबंध करें.
      श्री पाण्डेय ने कहा है कि मानव व्यापार अपराध की एक विश्वव्यापी समस्या बन चुकी है, और इस अपराध के निवारण के लिए पुलिस अधिकारियों को अतिशय समर्पण एवं निष्ठा के साथ-साथ भावुकतापूर्ण मन:स्थिति से किन्तु विवेक और दक्षता का सर्वोच्च स्तर बनाये रखते हुए कार्यवाही करना अपेक्षित है.
      अब देखना यह है कि मर्दानी देखकर बिहार पुलिस अपराध नियंत्रण में कितनी मर्दानगी दिखा पाते हैं, या फिर अपराध में शामिल पार्टी से 'फरिया' लेने का सिलसिला यूं ही बिहार में चलता रहेगा?

प्रधानमंत्री धन-जन योजना का मधेपुरा में भी हुआ शुभारंभ

|मुरारी कुमार सिंह|28 अगस्त 2014|
बहुप्रतीक्षित प्रधानमंत्री धन-जन योजना का शुभारंभ आज मधेपुरा समेत पूरे देश में हो गया.
      मधेपुरा में इस योजना का विधिवत उद्घाटन झल्लू बाबू सभागार में एक कार्यक्रम आयोजित कर किया गया. आयोजित कार्यक्रम में राज्य के राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री नरेंद्र नारायण यादव, नगर परिषद् अध्यक्ष विशाल कुमार बबलू, डीडीसी मिथिलेश कुमार, बैंक अधिकारी संतोष कुमार झा, अधिवक्ता जवाहर झा तथा जिला प्रशासन के अन्य कई अधिकारी तथा जनप्रतिनिधि मौजूद थे. इसमें धन-जन योजना के महत्त्व पर विस्तृत चर्चा की गई.
      बैंक अधिकारियों ने बताया कि इस योजना के तहत मात्र एक पहचान पत्र के आधार पर हर किसी का न सिर्फ बैंक खाता खोला जाएगा बल्कि प्रत्येक खाताधारी को एक लाख रूपये की बीमा भी सरकार के द्वारा मुफ्त में करा दे जायेगी. बताया गया कि इस अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना कमजोर वर्ग के लोगों के लिए मील का पत्थर साबित होगा.

मधेपुरा में धराया फर्जी बैंक: गिरोह के तार अंतरराज्यीय !

मधेपुरा जिला मुख्यालय में लोगों की आँखों में धूल झोंक कर चलने वाले एक फर्जी बैंक का उदभेदन हुआ है. बैंक पर छापामारी करने पर इसमें काम करने वाले दो लोगों को मौके पर ही पकड़ लिया गया.
      जिला मुख्यालय के बाय पास रोड में सत्यभामा प्लाजा में फ्यूचर क्रेडिट मल्टीस्टेट बैंक लिमिटेड नाम से चल रहे इस बैंक के बारे में आज सिंहेश्वर के बेरोजगार युवा संघ से जुड़े कुछ बेरोजगारों ने जब जिलाधिकारी के जनता दरबार में एक आवेदन देकर जांच करने का अनुरोध किया तो मधेपुरा के जिलाधिकारी गोपाल मीणा ने फ़ौरन ही अपने अधिकारियों को पुलिस बल के साथ बैंक की जांच करने भेज दिया. बताते हैं कि अधिकारियों के बैंक पहुँचते ही बैंक से जुड़े महिला कर्मचारी समेत कुछ लोग वहाँ से भागने लगे, पर अधिकारियों की छापेमारी में बैंक में काम करने वाले दो कर्मियों को रोक लिया गया. इनमें से एक राज कुमार सिंह निखिल सिंहेश्वर के रहने वाले हैं जबकि दूसरा संजीव कुमार सुपौल जिले का रहना वाला है.
      उसमें काम कर रहे कर्मियों से पूछताछ करने के बाद जब उनसे बैंक चलाने से सम्बंधित कागजातों की मांग की गई तो कोई कागजात प्रस्तुत नहीं किया जा सका. छापेमारी करने गए मुख्य अधिकारी वरीय एडीएम विनय कुमार सिंह ने मधेपुरा टाइम्स को बताया कि प्रथम दृष्टया ये बैंक फर्जी लग रहा है. बैंक ने 125 लोगों से एडवाइजर और मेंबर बनाने के नाम पर 3110 रूपये की दर से करीब सवा सात लाख रूपये वसूल कर लिए हैं. पूछताछ से पता चला कि इस बैंक के रीजनल मैनेजर कृत नारायण कुमार मधेपुरा जिले के महेशुआ के निवासी हैं जबकि जोनल मैनेजर मो० आरिफ बुलंदशहर मेरठ के रहने वाले हैं.
      फ्यूचर क्रेडिट मल्टीस्टेट बैंक लिमिटेड के सभी सामानों को जब्त कर लिया गया है जिसमें फर्नीचर, कई रजिस्टर समेत 28,600 रू० नकद भी बरामद किया गया है.
      मधेपुरा टाइम्स ने जब गत 07 अगस्त से ही शुरू हुए इस बैंक के अन्य अधिकारियों से उनके मोबाइल पर संपर्क करना चाहा लेकिन संपर्क नहीं हो सका.

पानी में बिजली के करेंट से एक व्यक्ति और दो भैंस की मौत

|बी० सिंह|28 अगस्त 2014|
मधेपुरा जिले के आलमनगर प्रखंड ने भरतखंड बासा गाँव में पानी में बिजली का करंट आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई. एक व्यक्ति के अलावे दो भैंस की भी मौत करेंट लगने से हो गई.
      मिली जानकारी के अनुसार घटना आज दोपहर की बाद प्रभावित क्षेत्र की है. भरतखंड बासा में बिजली के एक पोल से सपोर्ट में जुड़े एक तार में करेंट आ गया और करेंट पानी में फ़ैल गया. उसी समय मो० इरशाद नामक ग्रामीण की भैंस पानी में चली गई और छटपटाने लगी. भैंस को छटपटाते देखकर इरशाद ने पानी में घुसकर जैसे ही भैंस को पकड़ना चाहा, अचानक तेज करेंट ने उसे अपनी चपेट में ले लिया. करेंट से मो० इरशाद (25 वर्ष)की मौत हो गई.
      मो० इरशाद को बचाने जब एक अन्य व्यक्ति मो० शफीक आलम (50 वर्ष) पानी में घुसा तो उसे भी करेंट लगा और वह घायल हो गया.
      घटना के कई घंटे बीतने के बाद भी प्रशासन का कोई अधिकारी घटनास्थल पर नहीं पहुंचा था, जबकि घटनास्थल प्रखंड मुख्यालय से महज 6 किलोमीटर की दूरी पर एनएच पर अवस्थित है.

27 अगस्त 2014

क्या दावों के अनुसार हो सकेगा मधेपुरा में मेडिकल कॉलेज का सपना पूरा?

एक लंबे इन्तजार के बाद मधेपुरा में मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल का काम आज भूमिपूजन के साथ ही शुरू हो गया.
      मधेपुरा का मेडिकल कॉलेज कई मायनों में महत्वपूर्ण होगा. सरकार के दावों और प्लानिंग के अनुसार राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल, मधेपुरा (गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल) का बिल्ड-अप एरिया 15,97,054 वर्ग मीटर होगा और ये 500 बेड का अस्पताल होगा. इसमें 9 ऑपरेशन थियेटर होंगें और इसमें इमरजेंसी इलाज के लिए 15 बेड होंगे. इस अस्पताल में इंटेंसिव केयर यूनिट (आईसीयू) के लिए 42 बेड होंगें, मतलब कि एक साथ यहाँ 42 मरीजों को आईसीयू में भर्ती कराया जा सकेगा.
      इसके अलावे यहाँ डायलिसिस यूनिट के लिए 6 बेड होंगे और यहाँ एमआरआई, सीटी स्कैन से लेकर जांच की तमाम सुविधा उपलब्ध होगी.
      कहा यह भी जा रहा है कि गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, मधेपुरा में प्रतिवर्ष 100 स्टुडेंट्स का एडमिशन लिया जाएगा और यहाँ के छात्रावास में 550 स्टुडेंट्स के रहने की सुविधा होगी. मेडिकल कॉलेज में जहाँ एयरकंडीशन ऑडिटोरियम, एयरकंडीशन लाइब्रेरी होगा वहीँ पूरा कैम्पस वाई-फाई होगा यानि पूरे कैम्पस में बैठकर कहीं भी छात्र इंटरनेट की सुविधा का लाभ उठा सकेंगे.
           वैसे मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव ने तो आज मेडिकल कॉलेज के भूमिपूजन कार्यक्रम के दौरान ये बात उठा ही दी कि वर्ष 2010 में ही मधेपुरा मेडिकल कॉलेज के साथ ही बेतिया और पावापुरी में भी मेडिकल कॉलेजों का शिलान्यास हुआ था और वहां दो साल पहले से ही स्टुडेंट्स का एडमिशन होने लगा पर मधेपुरा क्यों इसमें पिछड़ गया?
       कहने-सुनने में तो सबकुछ बड़े अच्छे लगते हैं, पर बिहार की राजनीति समेत कई हालातों को देखते हुए यदि ये काम समय पर पूरे जाएँ और जितनी सुविधा की बात कही जा रही है उतना हो जाय तो निश्चित ही मधेपुरा की सूरत आने वाले दिनों में बदली-बदली सी नजर आएगी.

मधेपुरा में हुआ मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल का हुआ भूमिपूजन: निर्माण कार्य शुरू

मधेपुरा में बहुप्रतीक्षित मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल की आधारशिला आज रख दी गई. मधेपुरा जिला मुख्यालय से करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर सिंहेश्वर प्रखंड के सबैला में आज एक भव्य सरकारी कार्यक्रम आयोजित कर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का भूमि पूजन और कार्यारम्भ किया गया.
      25 एकड़ जमीन में करीब 780 करोड़ रूपये की लागत से बन रहे इस मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल की आधारशिला आज मुख्य अतिथि बिहार के स्वास्थ्य मंत्री रामधनी सिंह, कार्यक्रम के अध्यक्ष बिहार के वित्त मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, विशिष्ट अतिथि राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री नरेंद्र नारायण यादव, मधेपुरा के सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव आदि ने रखी.
      मौके पर आयोजित कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री रामधनी सिंह ने कहा कि समाजवादी की धरती मधेपुरा पर आकर उन्हें गर्व महसूस हो रहा है. मेडिकल कॉलेज तथा अस्पताल का कार्य दो वर्षों में पूरा हो जाएगा और ये इससे इस इलाके के लोगों को अत्यंत सुविधा होगी.
      मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव ने कहा कि मधेपुरा में यूनिवर्सिटी बनने का श्रेय माननीय लालू प्रसाद जी को जाता है और यहाँ मेडिकल कॉलेज तथा इंजीनियरिंग कॉलेज का सपना भी उन्होंने ही देखा था. सांसद ने इस सपने को पूरा करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भी सराहना की.
      मौके पर बिहार सरकार के मंत्री नरेंद्र नारायण यादव, बिजेन्द्र प्रसाद यादव, मधेपुरा के विधायक प्रो० चंद्रशेखर, सिंहेश्वर के विधायक रमेश ऋषिदेव आदि ने भी कार्क्रम में अपने विचार रखे.

बी०पी० मंडल जयंती पर इप्टा के रंगारंग कार्यक्रम ने लोगों का मन मोहा

|मुरारी कुमार सिंह|27 अगस्त 2014|
बी० पी० मंडल की जयंती के अवसर पर जिला मुख्यालय के टी० पी० कॉलेज सभागार में इप्टा (भारतीय जन नाट्य संघ) के द्वारा आयोजित कार्यक्रम काफी मनमोहक रहा. कार्यक्रम में इप्टा के कलाकारों के अलावे कलाकार परिवार के कलाकारों ने भी अपने गायन की शानदार प्रस्तुति की.
      सोमवार की शाम को आयोजित इस कार्यक्रम में कलाकारों ने गजल, संगीत और नृत्य की अद्भुत प्रस्तुति से सभागार में बैठे दर्शकों का मन मोह लिया.
      गांधी शर्मा की गजल इस शहर का मौसम बड़ा सुहाना है, तथा प्रो० संजीव कुमार की गजल तारे गिन-गिन कटती रही रातें जहाँ लोगों को आकर्षित करने में कामयाब रही वहीं रेखा यादव की रे साधो रचना राम बनाये भी एक उम्दा किस्म की सुर-लहरी बिखेर गई. कई स्कूली बच्चों की प्रस्तुति भी अद्भुत रही. जबकि योगेन्द्र भारती की उम्दा प्रस्तुति राग को सुनकर लोग झूम उठे.
      कार्यक्रम के अवसर पर इप्टा के संरक्षक प्रो० श्यामल किशोर यादव, प्रो० शचिन्द्र महतो, डा० सुरेश प्रसाद, डा० के० पी० यादव, डा० भूपेंद्र नारायण मधेपुरी, डा० अमोल राय, डा० आलोक कुमार, डा० जवाहर पासवान, कवि शंभू शरण भारतीय समेत शहर के कई गणमान्य लोग उपस्थित थे.

26 अगस्त 2014

पुलिस की विभागीय परीक्षा में हंगामा, परीक्षा का बहिष्कार: एक बड़े पुलिस अधिकारी पर पुलिसों को ‘बिहारी’ कहकर अपमानित करने का आरोप !

|मुरारी कुमार सिंह|26 अगस्त 2014|
मधेपुरा जिला मुख्यालय के वेद व्यास कॉलेज में चल रही पुलिस की विभागीय परीक्षा आज हंगामे का शिकार हो गया. विभागीय ट्रेनिंग पाए पुलिस के द्वारा प्रोन्नति के लिए आज करीब 400 पुलिसकर्मी परीक्षा में शामिल हुए थे और दूसरी पाली की परीक्षा का पुलिसकर्मियों ने बहिष्कार कर दिया.
      परीक्षा बहिष्कार करने वाले पुरुष एवं महिला परीक्षार्थियों का आरोप था कि परीक्षा कक्ष में परीक्षा देने लायक कोई व्यवस्था नहीं थी और सीटीएस नाथनगर, भागलपुर से आये पुलिस अधिकारी ने परीक्षा कक्ष में पुलिस परीक्षार्थियों को बिहारी कहकर अपमानित किया तथा घोषित विषय की परीक्षा न लेकर अचानक दूसरे विषय की परीक्षा अधिकारियों ने लेना शुरू कर दिया. कई महिला परीक्षार्थियों ने कहा कि अधिकारी ने उन्हें गाली तक दी. उनका कहना था कि उनकी माँ-बहन की इज्जत है तो क्या हम छोटे कर्मियों के माँ-बहन की इज्जत नहीं है?
      घटना की जानकारी मिलते ही मधेपुरा के एसपी, डीएसपी, थानाध्यक्ष आदि वेद व्यास कॉलेज पहुंचे और उग्र परीक्षार्थियों का समझाने-बुझाने का प्रयास किया, पर परेक्शार्थियों ने परीक्षा का बहिष्कार कर दिया. हंगामा के दौरान भागलपुर से आये पुलिस पदाधिकारी प्राचार्य कक्ष में दुबके रहे.
  खबर से सम्बंधित वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.

25 अगस्त 2014

नगर परिषद् के कार्यपालक पदाधिकारी पर तानाशाही रवैया और महिला पार्षद के साथ सम्मानजनक व्यवहार नहीं करने का आरोप: हटाने की मांग

|नि० सं०|25 अगस्त 2014|
मधेपुरा नगर परिषद् के कार्यपालक पदाधिकारी पर आरोप लगाया गया है कि ये जब से पदभार ग्रहण किये हैं तब से वार्ड पार्षदों के प्रति इनका रवैया तानाशाही रहा है. गंभीर आरोप यह भी है कि ये महिला पार्षदों के साथ सम्मानजनक व्यवहार नहीं करते हैं.
      मधेपुरा नगर परिषद् के 18 वार्ड पार्षदों ने मुख्य पार्षद को एक पत्र लिखकर कहा है कि कार्यपालक पदाधिकारी हमेशा कहते हैं कि वार्ड पार्षद क्या होता है, नगर परिषद् का मैं अकेला मालिक हूँ, जो चाहूँगा वही होगा.
      दिए गए आवेदन में नगर परिषद् के कई घोटालों की चर्चा की गई और कहा गया कि वर्ष 2012 में महज 90 कूड़ेदान का प्रस्ताव पास किया गया था जबकि निजी लाभ के लिए 300 कूड़ेदान कि खरीद कर नगर परिषद् की राशि का बंदरबांट कर लिया गया. ISHDP आवास योजना के दूसरे चरण में भी 319 लाभुकों को को आवास की राशि बिना जांच के ही भुगतान कर इसमें लाखों रूपये का घोटाला किया गया.
      वार्ड पार्षदों ने धारा 48(2) के तहत विशेष बैठक बुला कर धारा 41 के तहत कार्यपालक पदाधिकारी लखेंद्र पासवान को अविलम्ब हटाने की मांग की है.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...