28 नवंबर 2014

डिक्की खोलकर उचक्कों ने उडाये 3 लाख तो पंचायत सचिव से 8 लाख की लूट !

|दिव्य प्रकाश|28 नवम्बर 2014|
मधेपुरा जिले के बिहारीगंज थानाक्षेत्र में दो अलग-अलग घटनाओं में अपराधियों के द्वारा कुल 11 लाख रूपये उड़ा लेने की बात कही गई है. पहली घटना में बिहारीगंज मुख्य सड़क मार्ग पर एक दुकान के सामने उदाकिशुनगंज के मधुबन ग्राम निवासी रामस्वरूप मेहता की डिक्की खोलकर उचक्कों ने उसमे रखे तीन लाख रूपए गायब कर दिए.  बताया गया कि रामस्वरूप मेहता बिहारीगंज स्थित एक बैंक से तीन लाख रुपए निकालकर अपनी डिक्की में रखा था, इसी बीच उक्त घटना घटी. एक प्रत्यक्षदर्शी महिला के अनुसार एक बाइक सवार आया और डिक्की से पोलीथिन में रखे रूपए निकालकर फरार हो गया.  
वंही दूसरी घटना में बिहारीगंज-गमैल सड़क मार्ग पर सरस्वती विद्या मंदिर के समीप घटित हुई जिसमें अपराधियो ने दिनदहाड़े हथियार का भय दिखाकर पंचायत सचिव से 08 लाख रुपए लूट लिए.  पंचायत सचिव श्रीचंद महतो ने बताया कि एस.बी.आई ए.एम.वाइ.से दो चेक के माध्यम से चार-चार लाख रूपये की निकासी किया था.  इसी बीच मोटरसाइकिल सवार अपराधियों ने उक्त रुपया लूट लिया.  उक्त जानकारी पंचायत सचिव ने बी.डी.ओ. को दी जिसके पश्चात बीडीओ ने थानाध्यक्ष के साथ घटना स्थल का दौरा कर मामले की जानकारी ली.  
वहीं इस घटना के बारे में लोग तरह-तरह की शंकाएं भी व्यक्त कर रहे हैं.

14 वर्षीय बालक की मौत का मुआवजा नहीं मिलने पर आक्रोश: सड़क जाम

मधेपुरा जिले के चौसा में कल दुर्घटना में हुई एक लड़के की मौत के बाद मुआवजा नहीं मिलने से आक्रोशित ग्रामीण आज उग्र हो उठे और सड़क जाम कर दिया.
चौसा पूर्वी पंचायत के बद्री टोला बैसठा निवासी मो0 कुद्धुस के पुत्र मो0 महताब आलम के सड़क हादसे मे हुई मौत के बाद मुआवजा नहीं मिलने को लेकर बसैठा के सैंकड़ों महिलाओं और पुरुष ने आज चौसा, मधेपुरा एवं मुरली चौक से भागलपुर व पूर्णियां के मुख्य मार्ग को लाश के साथ जाम कर दिया और बाजार बंद करवा कर हंगामा किया.
बता दें कि गुरूवार को घोषई में बड़ी ट्रक (हाईवा) बीआर 11 आर 8592 ने 14 वर्षीय मो0 महताब अंसारी को कुचल दिया था. जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी मृतक 3 भाई में सबसे बड़ा था.
सड़क जाम कर रहे मो0 सत्तार अंसारी, मो0 अमजद अंसारी, मो0 रियाज अंसारी, समसाद अंसारी, नौषाद अंसारी, खलील अंसारी, बीबी अंजूम खातून, बीबी मैतुन खातून, रूकसाना खातून, हसीना खातून, सुलेखा खातून, गुलशन समेत दर्जनों ने कहा कि दुर्घटना स्थल पर ही आश्वासन दिया गया था कि गाड़ी मालिक से उचित मुआवजा कल ही दिलवाया जायेगा. लेकिन अब तक हमें मुआवजा नहीं दिया गया. दूसरी तरफ बेटे की मौत के गम से मृतक की माँ अबतक खुद को संभाल नहीं पा रही है.

एसपी ने किया कुमारखंड थाना का निरीक्षण: किया बैठक और वृक्षारोपण

मधेपुरा के पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार सिंह ने कुमारखंड थाना क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के साथ एक बैठक आयोजित की. बैठक के दौरान श्री सिंह ने थाना का औचक निरीक्षण करते हुए सम्बंधित अधिकारी को आवश्यक निर्देश जारी किये. बैठक के दौरान श्री सिंह ने प्रखंड के सभी प्रखंड स्तरीय जनप्रतिनिधियों से गाँव एवं समाज में शान्ति व्यवस्था में अपनी भूमिका शामिल करने की बात कही. उन्होने छोटे-छोटे समस्या को गाँव एवं पंचायत स्तर पर ही निपटाने की बात कही. प्रखंड के सभी प्रतिनिधि को जनता की समस्या को अपनी समस्या समझ कर उसे सरलता एवं धैर्यपूर्वक निपटने की बात कही. बैठक के दौरान उन्होने थाना परिसर को स्वच्छ रखने एवं प्रर्यावरण को प्रदूषणमुक्त बनाने के लिए थाना परिसर में फलदायक आम के दो वृक्ष अपने से लगाये. उन्होने थाना के कर्मियों को परिसर को स्वच्छ एवं साफ रखने का निर्देश दिया.
मौके पर उन्होने प्रतिनिधियों से समाज को स्वच्छ एवं अतिक्रमण मुक्त बनाने की बात कही. बैठक में कुमारखंड थानाध्यक्ष राजेश कुमार, सनि सुदामा राय, पुअनि भूप ना0 झा, गिरीश कुमार सिंह, फागु राम, प्रखंड प्रमुख प्रतिनिधि मो0 ताहीर, इसराईन खुर्द मुखिया बिजेन्द्र यादव, राजद प्रखंड अध्यक्ष अरूण कुमार यादव, समाजसेवी श्यामानंन्द सिंह, पैक्स अध्यक्ष सिहपुर गढिया राजेन्द्र मुखिया, कुमारखंड मुखिया प्रतिनिधि जगमोहन यादव, मो0 मनसुर आलम सहित अन्य जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे.

पिता ने जब घर ले जाने को बाहें फैलाई तो फूट-फूटकर रोई छात्रा: मजनूँ गुरुजी जेल में

एक शादीशुदा शिक्षक के द्वारा भगाई गई जिले के मुरलीगंज थाना के तमोट परसा की छात्रा ने न्यायालय में तो अपने प्रेम को स्वीकार कर स्वेच्छा से भागने की बात कबूल कर ली और अपने पति मतलब दगाबाज मास्टर मृत्युंजय कुमार के साथ जाने की बात कही. पर गुरुजी की किस्मत फिलहाल धोखा दे गई है.
      गुरु जी का सिखाया-पढ़ाया पाठ, विज्ञान के सामने फेल हो गया. कल छात्रा ने न्यायालय में आवेदन देकर खुद के बालिग़ होने का दावा किया था तो न्यायालय ने छात्रा के उम्र निर्धारण के लिए मेडिकल बोर्ड बिठाने का आदेश दिया. मेडिकल बोर्ड ने आज अपनी रिपोर्ट न्यायालय को सौंप दी जिसके मुताबिक छात्रा की उम्र 15 से 17 साल के बीच है, यानि भारतीय क़ानून के मुताबिक छात्रा नाबालिग है.
      उधर आज छात्रा के पिता ने न्यायालय में आवेदन देकर बेटी को अपने साथ ले जाने की इच्छा जाहिर की और कहा कि वह अपनी बेटी को अच्छे से रखेगा और इन बातों का उलाहना नहीं देगा. न्यायालय ने पिता को अपनी नाबालिग बेटी को ले जाने की अनुमति दी तो छात्रा पिता से न्यायालय में ही लिपट कर फूट-फूट कर रोने लगी मानो उसे अबतक किये गलती का एहसास हो रहा हो.

फंस गए मजनू मास्टर: चूंकि शादीशुदा और दो बेटियों का बाप मृत्युजंय मास्टर पर एक नाबालिग छात्रा को भगाने का आरोप था इसलिए न्यायालय ने मास्टर साहब को गिरफ्तारी के बाद जेल भेजने में पल भर की देर न की. मास्टर का भविष्य न्यायालय में छात्रा के दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 164 पर टिका हुआ था. छात्रा ने न्यायालय में स्वेच्छा से जाने की बात की तो एकबार लगा कि इस बयान के आधार पर गुरु जी को जल्दी ही जमानत मिल जायेगी, पर अब जब मेडिकल बोर्ड ने छात्रा को नाबालिग घोषित कर दिया है तो क़ानून इसे प्रेम-सम्बन्ध कम छात्रा को बहला-फुसलाकर भगाने का मामला ज्यादा मानेगी. यानी दिलफेंक गुरुजी के अब जेल से जल्द निकलने के आसार कम लग रहे हैं. गुरु जी पर भारतीय दंड संहिता की धारा 366 A  लगेगी जिसमें यदि छात्रा को बाद में माँ-बाप के साथ रहते सुबुद्धि हो जाती है तो इस मनचले मास्टर साहब को 10 वर्ष की जेल और जुर्माना भी हो सकता है.
(वि० सं०)

डीएम ने किया मुरलीगंज प्रखंड कार्यालय व स्कूल का निरीक्षण: मिलाया बच्चों से हाथ

|नि० सं०|28 नवंबर 2014|
मधेपुरा जिले के मुरलीगंज प्रखंड व अंचल कार्यालय के काम-काज का निरिक्षण आज जिलाधिकारी गोपाल मीणा ने किया. निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने बीडीओ, सीओ, कोशी पुर्नवास पर्यवेक्षक, इन्दिरा आवास सहायक एवं अन्य अंचलकर्मी को अपने-अपने कार्यों को जिम्मेदारीपूर्वक करने का निर्देश दिया. जिलाधिकारी श्री मीणा ने प्रखंड विकास पदाधिकारी अनुरंजन कुमार को निर्देश दिया कि इंदिरा आवास योजना के लम्बित द्वितीय किस्त का भुगतान अविलम्ब किया जाए. साथ ही कोशी पुर्नवास योजना, सोलर लाइट, एवं शौचालय आदि अन्य लम्बित योजनाओं में तेजी लाने की बात कही.    
       जिलाधिकारी ने अंचल एवं प्रखंड के सभी रोकड़ पंजी का अवलोकन कर अधिकारियों को दिशा निर्देश दिया. उन्होने इन्दिरा आवास सहायक पर्यवेक्षक, ग्रामीण आवास पर्यवेक्षक को निर्देश दिया कि क्षेत्र में घूमकर प्रतिदिन रिपोर्ट दें और लाभार्थी को द्वितीय किस्त का भुगतान कराने का काम करे. साथ ही जिलाधिकारी, अनुमंडल अधिकारी विमल कुमार सिंह, अपर समाहर्ता कन्हैया प्रसाद एवं वरीय प्रभारी प्रदीप कुमार झा ने अनुसुचित जाति/जनजाति बालिका आवासीय विद्यालय का भी निरिक्षण किया और  विद्यालय के गतिविधियों की जानकारी जिलाधिकारी ने विद्यालय प्रधान से लिया.
जिलाधिकारी ने बच्चों से भी भोजन व पठन पाठन की व्यवस्था की जानकारी ली. मौके पर प्रखंड विकास पदाधिकारी अनुरंजन कुमार, अंचलाधिकारी रामावतार यादव, प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी इन्द्रदेव मिश्र, प्रोग्राम पदाधिकारी दिनेशचन्द्र मांझी, आपूर्ति पदाधिकारी सत्यनारायण पासवान सहित सभी अंचलकर्मी मौजूद थे.

डीएम से हाथ मिलाकर बच्चे हुए खुश: स्कूल के निरीक्षण के दौरान डीएम गोपाल मीणा जब बच्चों से पढ़ाई और भोजन के बारे में पूछना शुरू किया तो बच्चे शुरू में हिचकिचा रहे थे. पर जैसे ही श्री मीणा ने मुस्कुरा कर बच्चों से हाथ मिलाया बस बच्चे भी मधेपुरा के लोकप्रिय जिलाधिकारी से हाथ मिलाकर खुश हुए और फिर सबकुछ बताने लगे.

‘सरकार आपके द्वार’: बेरोजगारों के लिए लगा मधेपुरा में नियोजन मेला

सरकार आपके द्वार की नीति पर चलते हुए नियोजन अवसर को वैसे सुदूर क्षेत्रों में जहाँ के बेरोजगार युवा नौकरी की खोज में बहुत दूर नहीं जा सकते, मधेपुरा में एक बार फिर कई कंपनियों ने आकर बेरोजगारों के लिए अवसर उपलब्ध कराये हैं.
      मधेपुरा जिला मुख्यालय के जेनरल हाई स्कूल के प्रांगण में जिला स्तरीय नियोजन सह व्यावसायिक मार्गदर्शन मेला 2014 का गुरुवार को उद्घाटन हुआ. मधेपुरा के जिलाधिकारी गोपाल मीणा ने दीप प्रज्ज्वलित कर इस नियोजन मेला का उद्घाटन किया और उम्मीद जताई कि इस मेले में आई विभिन्न कम्पनियाँ न सिर्फ सक्षम युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार के अवसर मुहैया कराएगी बल्कि उन्हें रोजगार प्राप्त होने के मिए उचित मार्गदर्शन भी मिलेगा.
      जानकारी दी गई कि वर्ष 2009 में प्रमंडलीय स्तर पर रोजगार मेला का आयोजन सहरसा में किया गया था, उसके बाद वर्ष 2011 से मधेपुरा में हर साल जिला स्तरीय रोजगार मेला का आयोजन किया जा रहा है जिसमें बेरोजगार युवाओं का विभिन्न क्षेत्रों में नौकरियों के लिए ऑन-स्पॉट चयन किया जाता है.

27 नवंबर 2014

‘नैतिक और आध्यात्मिक शिक्षा हो उच्च शिक्षा में शामिल’: संसद में सांसद

|नि० सं.|27 नवम्बर 2014|
लोकसभा में मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव ने बिहार में उच्च शिक्षा की रूग्न अवस्था पर सरकार का ध्यान दिलाया. उन्होंने केन्द्र सरकार से पूछा कि नालंदा विश्वविद्यालय के बजट में आपने कितना पैसा दिया? ऐतिहासिक विक्रमशिला विश्वविद्यालय के लिए आपकी कोई सोच है या नहीं ? इसके अलावे किशनगंज में अल्पसंख्यकों के लिए खोली जा रही ए.एम.यू. के लिए आप कितनी राशि दे रहे हैं?
       लोकसभा में मोतिहारी में महात्मा गांधी के नाम पर केंद्रीय विश्वविद्यालय खोले जाने से संबंधित केन्द्रीय विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक 2014 को सर्वसम्मति से मंजूरी मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए चली बहस में मधेपुरा के सांसद ने बुधवार को सरकार से कहा कि जबतक उच्च शिक्षा के साथ नैतिक और आध्यात्मिक शिक्षा जीवन में नहीं लाकर एजुकेशन को आप भगवाकरण से जीवन में लाने का प्रयास करेंगे तो शिक्षा में कहीं न कहीं गिरावटें आएँगी.
      मालूम हो कि संसद का शीतकालीन सत्र गत सोमवार से शुरू हो चुका है और करीब एक माह चलने वाले इस सत्र में कुल 22 बैठकें होंगी जिसमें केन्द्र की मोदी सरकार विभिन्न तरह के 38 महत्वपूर्ण विधेयक पारित कराना चाहती है 

मांझी जी कहिन: ‘ठोकर खाते खाते मुख्यमंत्री बन गया अब और भी ठोकर खाउंगा तो कहीं प्रधानमंत्री न बन जाऊं....’

ठोकर खाते खाते मुख्यमंत्री बन गया अब और भी ठोकर खाउंगा तो कहीं प्रधानमंत्री न बन जाऊं. यह बातें सूबे के सीएम जीतन राम मांझी ने बलुआ बाजार हाईस्कूल में आयोजित एक महती सभा को संबोधित करते हुए कही. उन्होंने कहा कि नौकरी छोडकर राजनीति में गरीबों की उत्थान के उद्येश्य से आया. पुरानी बातें को याद करते श्री मांझी ने कहा कि सन 1980 में मैं कांग्रेस में था, तब मेरी टिकट कट गयी थी उस समय डॉ०  जगन्नाथ मिश्र ने ही उन्हें फतेपुर से टिकट दिलाया था. कहा कि श्री मिश्र ही उनके राजनीति गुरू हैं. नशापान छोडने की सलाह नौजवानों को देते कहा कि उनके माता और पिता दोनों शराब का सेवन करते थे, और माता पिता में अक्सर उठापटक होती रहती थी. जब उन्हें खाना नहीं मिलता तो वे समझते थे कि आज पिता ने ज्यादी पी रखी है. कहा कि उनके समझाने पर माता पिता दोनो पीना छोड दिये. छोटे भाई की याद ताजा करते कहा कि उनका छोटा भाई दारोगा था, जो काफी शराब का सेवन करता था नतीजा हुआ कि उनकी असमय मौत हो गई. उनके शराब छोडने पर कहे जाने भाई दलील देता था कि पुलिस की नौकरी में शराब नहीं छूटती है. कहा कि बिहार के बच्चे गुटका ना खाये इसके लिए वे इस पर प्रतिबंध लगा रखा है. श्री मांझी ने आगे कहा कि नीतीश कुमार के चलाये योजनाओं का क्रियान्वयन कर रहा हूं. इसके आगे कहा कि उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के समानांतर रेखा खींचना चाहता हूं जो बडी भी हो सकती है वो रेखा विकास का होगा. कहा कि बिहार की बेटी की शिक्षा को लेकर वे काफी चिंतित हैं
मौके पर बिजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जब रानी के पेट से राजा पैदा होता था तब बिहार संपन्न था. अब वोट के पेट से राजा पैदा होता है तो बिहार पीछे है बिहार के विकास की गाथा का गुणगान उन्होंने किया. सभा को नीतीश मिश्र ने भी संबोधित किया.

डा0 वर्गीस कुरियन के जन्म दिवस पर भारत दुग्ध दिवस कार्यक्रम

आपन गाँव में समिति खोलेबे,
हमरा के मन करे कोचिंग पढेके
पर घर में पैसा के अभाव बा- (कार्यक्रम के दौरान गाये एक गीत की पंक्तियाँ)
मधेपुरा जिले के मुरलीगंज प्रखंड स्थित गौशाला चौक के पास तारारही दुग्ध उत्पादक सहयोग समिति के अध्यक्ष तारणी प्रसाद मेहता की अध्यक्षता में कोशी डेयरी प्रोजेक्ट पूर्णियां के बैनर तले बाजार कृषि समिति के प्रांगण में भारत दुग्ध दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का शुभारंभ मध्य विधालय सहसौल के छात्रा के द्वारा स्वागतगाण आप आये चमन में वसंत छाये प्रस्तुत कर किया गया. भारत दुग्ध दिवस कार्यक्रम के दौरान सम्पूर्ण भारतवर्ष में श्वेत क्रान्ति के प्रणेता डा0 वर्गीस कुरियन के जन्म दिवस पर उनको याद किया गया. मौके पर कोशी डेयरी प्रोजेक्ट पुणियाँ के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी आर0 के0 सिंह ने कहा कि दुग्ध सहकारिता समिति के माध्यम से आज गाँव के छोटे एवं सिमान्त किसान के चेहरे पर मुस्कान देखी जा रही हैं.
उन्होने दुग्ध सहकारिता समिति के माध्यम से बेगुसराय, बरौनी एवं समस्तीपुर की तरह सम्पूर्ण मधेपुरा जिले में एक क्रान्ति लाने की लोगो से अपील की. उन्होने गाँव में पूर्व से पशुपालन के लिए प्रयोग किये जा रहे देहाती नश्ल के गायों की नश्ल बदल कर अधिक दुग्ध उत्पादन के सरल एवं आसान तरीके की जानकारी किसानो एवं पशुपालको को दी.
श्री आर0 के0 सिंह ने जानकारी देते हुए पशुपालन एवं दुग्ध उत्पादन के साथ लोगो को पशु के मल-मूत्र से वर्मी कम्पोष्ट तैयार करने की भी विधिवत जानकारी दी. मौके पर उपस्थित शिक्षक संघ राज्य प्रतिनिधि विश्वजीत ने कहा कि दुग्ध उत्पादन किसानो, पशुपालको, बेरोजगार, एवं मध्यम वर्ग के लोगो को आगे बढने एवं आत्मनिर्भर होने के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर हैं. हम सबों एक साथ मिलकर इसके माध्यम से अपने जीवन को सुदृढ़ करना चाहिए. हम सभी एक साथ मिलकर ईमानदारी के साथ इस व्यवसाय को तन मन धन से करे तो वह दिन दूर नहीं जब मधेपुरा की धरती भी बेगुसराय, बरौनी एवं समस्तीपुर की तरह आत्मनिर्भर हो जाऐगा. कार्यक्रम के दौरान मध्य विधालय सहसौल के छात्रा पुष्पा कुमारी, डिम्पल कुमारी एवं खुशबू कुमारी भारत दुग्ध दिवस पर आधारित कई गीतों से लोगो का मन मोह लिया. मौके पर जिला डेयरी प्रभारी रवि कुमार, ललन सिंह, आशा कुमारी, अंजु कुमारी, उर्मिला देवी, मीणा देवी, सीता देवी, नीरज कुमार, रामचन्द्र मंडल, रविन्द्र कुमार रवि, राजेन्द्र कुमार, निर्भय कुमार, बुच्चों राम, शलेन्द्र पासवान, अमिरका देवी, चन्दन मंडल,  विभिन्न गाँव के दुग्ध उत्पादक सहयोग समिति के अध्यक्ष, सचिव एवं सदस्य, रेणु कुमारी, सुरेन्द्र प्र0 यादव, सुमन जी, अरविन्द्र कुमार, समीर कुमार, बिनोद कुमार, सहित पशुपालक भी मौजूद थे.      

माँ ने पढ़ने के लिए मारा तो किताब समेत घर से भागा: लोगों ने पहुँचाया एसपी के पास

पढ़ाई से भागने वाला दस वर्ष का बाबुल सबको इतना परेशान कर देगा किसी ने नहीं सोचा था. मधेपुरा जिले के गम्हरिया थाना के जीवछपुर में रहने वाले बाबुल के पिता स्व० जनार्दन यादव की मौत कुछ साल पहले हो गई थी तो बाबुल की माँ सदमे में थोड़ी विक्षिप्त भी हो गई थी. पढाई के लिए कल बाबुल ने माँ के मारने के बाद ऐसा कदम उठाया जिससे खुद बाबुल की जान खतरे में आ सकती थी.
      भागवत पांडव मध्य विद्यालय में पढ़ने वाला बाबुल कल स्कूल से ही किताब समेत भाग निकला. बाबुल बस से मधेपुरा आया और फिर रात में कोसी एक्सप्रेस से मुरलीगंज चला गया. मुरलीगंज स्टेशन पर जब बिना स्वेटर के घर से भागे बाबुल देर रात ठंढ से कांपने लगा तो फिर वह सुबह मधेपुरा आया और स्टेडियम में भटक रहा था, जिसे साहुगढ़ के अरूण कुमार ने स्टेडियम के कोने में उदास बैठे बाबुल से जानकारी लेने के बाद उसे मधेपुरा के एसपी के पास ले गया.
      एसपी आनंद कुमार सिंह ने बाबुल से सबकुछ पूछा और तुरंत उन्होंने गम्हरिया थानाध्यक्ष को बाबुल को उसके घर तक पहुंचाने का जिम्मा उन्हें सौंपा. एसपी श्री सिंह ने कहा कि ये एक अच्छा संयोग था कि बाबुल गलत लोगों के हाथ में नहीं गया, नहीं तो इसके साथ कुछ भी हो सकता था. एसपी ने आगे कहा कि इसी तरह समाज के लोगों को मदद के लिए आगे आना चाहिए.

मुख्यमंत्री मांझी सुपौल में, 190 करोड की राशि का हुआ शिलान्यास व उदघाटन

सुपौल जिले के बलुआ बाजार स्थित हाईस्कूल परिसर में मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने गुरूवार को विभिन्न प्रकार के 190 करोड की राशि के योजनाओं व पूर्ण योजनाओं का उदघाटन रिमोट दबाकर कर किया, जिसमें प्रमुख रूप से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भवन, ग्रामीण पाईप जलापूत्ति योजना व यमुना देवी राजकीय पशु चिकित्सालय शामिल है. इस मौके पर बलुआ बाजार को प्रखंड बनाने व कन्या उच्च विद्यालय स्थापना की मांग पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र ने रखी. इसके बाद सीएम मांझी ने बलुआ को प्रखंड बनाने की घोषणा की, जिसका स्वागत स्थानीय लोगों ने करतल ध्वनि से किया. समारोह में उपस्थित मंचासीन अतिथियों का शॉल व बुके भेंट कर स्वागत किया गया. इस मौके पर सीएम जीतन राम मांझी, वित्त मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, ग्रामीण विकास मंत्री नीतीश मिश्रा, पूर्व सीएम डॉ. जगन्नाथ मिश्र, विधायक अनिरूद्ध प्रसाद यादव, सुजाता देवी, अमला देवी, ऋषि मिश्रा, डीएम एल पी चौहान, एसपी पंकज कुमार राज, जिप अध्यक्ष अंजू देवी, एमएलसी विनोद सिंह, डॉ. रणधीर कुमार राणा, अमर कुमार चौधरी, युगल किशोर अग्रवाल, ओमप्रकाश यादव सहित दर्जनों प्रशासनिक पदाधिकारी व सैकडों स्थानीय लोग उपस्थित थे. कार्यक्रम का स्वागत भाषण विधान पार्षद विजय मिश्र व मंच संचालन प्रवीण कुमार ने किया.
इससे पूर्व मुख्यमंत्री बीरपुर हवाई अड्डे पर उतरे जहाँ उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इसके लिए सड़क मार्ग से बलुआ बाजार गए जहाँ उन्होंने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा के घर खाना खाया.

बहन से मिलकर लौट रहा था, पर अब कभी नहीं मिल सकेगा: शराब के नशे में ट्रक ड्राइवर ने इस कदर कुचला कि रोंगटे खड़ी कर देने वाली लाश को पहचानना था मुश्किल

शराब पीकर वाहन चलाना अपराध है, पर किसी और के अपराध की सजा किसी और को इस तरह मिलेगी यह किसी ने नहीं सोचा था. महज चौदह वर्ष का यह बालक चौसा के घोषई से होकर सायकिल से जा रहा था. बिहारीगंज थाना के कुम्हारपुर से बहन से मिलकर वापस आ रहा था. पर इससे पहले कि वह घर पहुँचता चौसा पूर्वी पंचायत के बदरी टोला के महताब आलम एक ट्रक (BR11 R 8592) ने महताब आलम को ऐसा कुचला कि लाश का सर और कंधा कई टुकड़ों में सड़क पर बिखर गया.
लोगों ने जब इस हृदयविदारक घटना को देखा तो सबने ट्रक ड्राइवर को पकड़ लिया और जम कर धुनाई कर दी. ट्रक ड्राइवर ने बताया कि उसका नाम संतोष कुमार है और वह बेगुसराय का रहने वाला है जबकि ट्रक मालिक पूर्णियां डीएम कोठी के पास का रहने वाला है. ट्रक ड्राइवर ने स्वीकार किया कि उसने दारू पी रखी थी और उसका ट्रक अनियंत्रित हो गया था.
मृतक महताब कुद्दुस उर्फ कारो का लड़का था. पिता दिल्ली-पंजाब में मजदूरी करते हैं और महताब आज बहन से मिलकर सायकिल पर कुछ ईख लेकर आ रहा था जो उसकी बहन ने उसे खाने को दिए थे. घटना के विरोध में ग्रामीणों ने चौसा-मधेपुरा मुख्य मार्ग को कई घंटे तक जाम रखा जिसे चौसा बीडीओ तथा कुछ जनप्रतिनिधियों ने उन्हें समझा कर खत्म करवाया.
घटना के बाद लाश इतनी अधिक क्षत-विक्षत थी कि उसे चेहरे से पहचानना संभव नहीं था. प्रशासन ने लाश की पहचान के लिए इलाके में लाउडस्पीकर से अनाउंस करवाया तब मृतक कि माँ ने आकर लाश की पहचान की. मद्य निषेध दिवस पर सरकार का स्लोगन मद्यपान नहीं, जिंदगी चुनें शायद मद्यपान करने वालों की खुद की जिंदगी के बारे में कहा गया था, पर सावधान, शराबी आपकी जिंदगी के लिए भी खतरा हैं. शराब पीकर वाहन चलने वालों का करें सामजिक बहिष्कार.