01 अक्टूबर 2014

लकी ड्रा में ग्राहकों को मिले नकद, टीवी, सायकिल और मोबाइल

|मुरारी कुमार सिंह|01 अक्टूबर 2014|
दुर्गापूजा के अवसर पर जहाँ विभिन्न कम्पनियाँ अपने ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए विभिन्न तरह के ऑफर सामने ला रहे हैं वहीं प्रमुख तिपहिया तथा चार पहिया वाहन कंपनी की मधेपुरा की एजेंसी ऑटो जोन ने पिछले महीने अपने शोरूम से खरीदे गए वाहन विक्रेताओं के लिए आज लकी ड्रा का आयोजन किया.
      लकी ड्रा में विजेता चुने गए ग्राहकों को पुरस्कार से सम्मानित किया गया. पहले लकी विजेता मिठाई, मधेपुरा के जलटू यादव रहे जिन्हें ग्यारह हजार रूपये की नकद राशि से पुरस्कृत किया गया. दूसरे दो विजेता मुरलीगंज जोरगामा के मो० बबलू और ग्वालपाड़ा झिटकिया के नरेश यादव रहे जिन्हें कंपनी की ओर से कलर टीवी से सम्मानित किया गया.
      इसी तरह पांच विजेताओं को सायकिल और दर्जनों को सैमसंग मोबाइल से पुरस्कृत किया गया. शोरूम के प्रोप्राइटर राजू सिंह ने बताया कि कंपनी के वाहनों की बिक्री मे लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है और हम बेहतर सेवा के साथ अपने ग्राहकों से भावनात्मक रूप से जुड़े रहते हैं और अक्सर उन्हें किसी न किसी रूप मे सम्मानित करते रहते हैं.

माँ दुर्गा के पट खुलते ही उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़: कीजिए मूर्ति और पंडाल के दर्शन

|मुरारी कुमार सिंह|01 अक्टूबर 2014|
मधेपुरा जिले के विभिन्न दुर्गा मंदिरों मे आज पट खुलते ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी. जिला मुख्यालय के रेलवे स्टेशन दुर्गा मंदिर, बंगला स्कूल दुर्गा मंदिर मे आज दिन मे ही पट खोल दिए गए जबकि बड़ी दुर्गा मंदिर मे पट आज रात 10.50 बजे खुलने की बात बताई गई है. 
   कहा गया कि अष्टमी का प्रवेश आज रात मे होने वाला है इसलिए बड़ी दुर्गा मंदिर पट आज रात्रि में खोला जाएगा.

      दूसरी तरफ मंदिरों मे भव्य पंडालों का निर्माण किया गया है और पंडाल सजाने का काम अंतिम चरण मे है. मंदिरों के आसपास मेला लगाया गया है और मेला देखने वालों की भी बड़ी भीड़ नजर आ रही है और साथ-साथ बच्चा चोर का गिरोह भी मेले मे सक्रिय है.

मुरलीगंज में पेट्रोल पम्प से दिनदहाड़े डेढ़ लाख रूपये की लूट

|मुरारी कुमार सिंह|01 अक्टूबर 2014|
जिले में अपराध की घटना में हो रही बढ़ोतरी के बीच आज जिले के मुरलीगंज प्रखंड मुख्यालय में दिनदहाड़े अपराधियों ने हथियार के बल पर एक पेट्रोल पम्प से डेढ़ लाख रूपये लूट लिए.
      घटना करीब ग्यारह बजे दिन की है. प्रखंड मुख्यालय के मुरलीगंज-बिहारीगंज रोड स्थित हमारा पेट्रोल पम्प पर दो बाइक पर सवार चार हथियारबंद अपराधी अचानक आये और हथियार दिखाकर काउंटर और सेफ से कुल डेढ़ लाख रूपये लूट लिए. पेट्रोल पम्प मालिक विजय कुमार सिंह के अनुसार एक ग्लैमर और एक अपाचे मोटरसायकिल पर सवार चार अपराधियों ने उनसे काउंटर खुलवाकर उसमें मौजूद 40 हजार रूपये ले लिए और फिर अंदर घुसकर सेफ खुलवाकर उसमें रखे 1 लाख दस हजार रूपये निकाल कर हवा में हथियार लहराते भाग गए.
      पेट्रोल पम्प मालिक ने बताया कि आज की बिक्री के चालीस हजार रूपये के अलावे उन्होंने आज ही 1 लाख दस हजार रूपये घर से लाकर सेफ में रखे थे.
      घटना की सूचना मिलते ही मुरलीगंज थानाध्यक्ष मुकेश कुमार मुकेश ने अपराधियों का पीछा भी किया, पर अपराधी भागने में सफल रहे. थानाध्यक्ष ने अपराधियों को जल्द गिरफ्तार करने की बात कही है.

घटना के समय लिया वीडियो: क्या भीड़ की नादानी ने ले ली ड्राइवर की जान ?

मधेपुरा के कॉमर्स कॉलेज के पास से शुरू हुए हादसे ने भले ही पूरे शहर को अस्तव्यस्त कर दिया हो, और भीड़ ने सीधा ड्राइवर की मौत का जिम्मेवार कार चालक को ठहरा दिया हो और बाद में पुलिस मुर्दाबाद के नारे लगाकर शहर में जाम और प्रदर्शन किया हो, पर मधेपुरा टाइम्स को जो वीडियो मिला है उसे देखने से ऐसा ही लगता है कि भीड़ चाहती तो ट्रैक्टर ड्राइवर को बचा सकती थी.
      पर शायद भीड़ का मतलब ही बेदिमाग लोगों की फ़ौज होती है. मधेपुरा टाइम्स के पास मौजूद वीडियो और घटनास्थल के पास हादसे के वक्त मौजूद लोगों से मिली जानकारी के अनुसार कार में चालक, उसकी पत्नी और बच्चा था. ट्रैक्टर से ठोकर लगने के बाद कार मामूली ढंग से क्षतिग्रस्त हो गई तो कार चालक ने उतरकर ड्राइवर के साथ हाथापाई की. यहाँ यह बात ध्यान देने लायक है कि कार चालक कार में अकेला मर्द था जिसने अकेले ड्राइवर के साथ मारपीट की. कहते हैं कि ड्राइवर जब गिर गया तो कार चालक सन्न रह गया. इसी बीच वहाँ मौजूद लोगों ने उसे घेर लिया और गिरे पड़े ड्राइवर को बचाने की बजाय कार चालक को दौड़ा-दौड़ा कर पीटने लगा.
      इधर कार चालक की पत्नी बार-बार कहती रही कि ड्राइवर को अस्पताल ले चलिए, पर ड्राइवर के मुंह पर पानी का छींटा मार रहा युवक भी ड्राइवर को बचाना कम और कार में आग लगाने के लिए माचिस मांगता दिख रहा था. हालांकि पुलिस के आने के बाद उसी वैगन-आर कार से बेहोश ड्राइवर को अस्पताल ले जाया गया, पर तब तक देर हो चुकी थी. सदर अस्पताल मधेपुरा में भी डॉक्टरों ने दबी जुबान से स्वीकारा कि ट्रैक्टर ड्राइवर को बहुत अधिक चोट नहीं थी. संभव है कि बीमार और कमजोर होने और पैर में बड़ा घाव होने की वजह से भय के कारण उसकी मौत हो गई.
      पर अब कई प्रत्यक्षदर्शी इस बात को स्वीकारते हैं कि यदि वहाँ मौजूद लोगों ने कार चालक को सबक सिखाने की बजाय ट्रैक्टर ड्राइवर को तुरंत बचाने का प्रयास किया होता तो कल की स्टोरी कुछ और हो सकती थी.
      आप खुद देखें इस वीडियो में कल क्या हुआ था, यहाँ क्लिक करें.
(ब्यूरो रिपोर्ट)

भय का माहौल बनाने का आरोप: पप्पू यादव से इस्तीफा की मांग

|मुरारी कुमार सिंह|01 अक्टूबर 2014|
मधेपुरा में डॉक्टरों के समर्थन में उतरते हुए बसपा नेता गुलजार कुमार उर्फ बंटी यादव ने आज शहर में प्रदर्शन कर सांसद से इस्तीफे की मांग की है.
      पिछले लोकसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी और परिणाम में चौथे स्थान पर रहे गुलजार कुमार उर्फ बंटी यादव आज अपने दर्जनों समर्थकों के साथ जिला मुख्यालय के कर्पूरी चौक से चलकर समाहरणालय पहुंचे. समर्थक हाथों में विभिन्न तख्तियों को लेकर नारे लगा रहे थे.
      बसपा नेता गुलजार कुमार उर्फ बंटी यादव ने कहा कि मधेपुरा के चिकित्सक डा० ओम नारायण यादव के साथ जैसी घटना में कहीं न कहीं मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव जिम्मेदार हैं, इनके उकसाने पर ये सब हो रहा है. आज पूरे जिले में भय का माहौल बना हुआ है. बंटी यादव ने कहा कि नैतिकता के आधार पर सांसद पप्पू यादव को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.

‘डॉक्टर राजनीति न करें, उन्हें संयम बरतने की जरूरत’: सांसद

|रिपु कुमारी|01 अक्टूबर 2014|
मंगलवार को सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने सोमवार को सदर अस्पताल में हुए डॉक्टर एवं परिजनों के बीच हुई मारपीट को लेकर संबंधित परिजनों के साथ लेकर सिविल सर्जन मधेपुरा से मिल कर परिजनों की ओर से हुए गलती के बदले माफी मांगी. सांसद के साथ-साथ मरीज के परिजनों ने भी सिविल सर्जन से माफी मांगी और मामले को खत्म करने की अपील की.
उन्होंने कहा कि जो डॉक्टर या जन प्रतिनिधि प्रतिक्रिया और प्रतिकार में लगे हैं, उनसे समाज की भलाई नहीं हो सकती है. उन्होंने कहा कि सदर अस्पताल मधेपुरा में कुछ नये डॉक्टर हैं जो राजनीति करते हैं,निजी क्लिनिक में ऐसे झगड़े और मारपीट क्यों नहीं होते है? डॉक्टरों को जाति, धर्म, मजहब से उपर उठकर काम करना चाहिए. डॉक्टर यदि पेसेंट के उपर चप्पल खोलने लगे, प्रतिक्रिया देने लगे, और हड़ताल करने लगे तो मानवता रह ही कहाँ जाती है.
बैठक के अंत में सांसद ने सिविल सर्जन मधेपुरा को फर्जी डॉक्टरों व पैथोलॉजी की सूची पर अबतक की कार्रवाई के संबंध में पूछा तो सिविल सर्जन ने कहा कि सभी फर्जी चिकित्सकों व पैथोलॉजी की जांच शुरू कर दी गई है और सभी को कागजात जमा करने को कहा है. इस पर सांसद ने कहा कि अभी तक कागजात जमा नहीं करने से साबित होता है कि वह फर्जी है, आगे की कार्यवाही कीजिए.

कार्यकर्ता सम्मलेन में सांसद ने कहा, ‘13 अक्टूबर की जन अदालत को बनावें ऐतिहासिक’

|मुरारी कुमार सिंह|01 अक्टूबर 2014|
फर्जी चिकित्सकों के खिलाफ चलाये अभियान में जनता को अपनी बात कहने और उनकी राय लेने के लिए आगामी 13 अक्टूबर को मधेपुरा के सांसद जनअदालत लगा रहे हैं. सहरसा के पटेल मैदान में प्रायोजित जन अदालत को सफल बनाने के उद्येश्य से मंगलवार को सांसद पप्पू यादव ने मधेपुरा में कार्यकर्ता सम्मलेन को संबोधित किया.
      मधेपुरा जिला मुख्यालय स्थित सांसद कार्यालय के परिसर में कार्यकर्ता सम्मलेन में जिले के सभी प्रखंडों से प्रतिनिधि मौजूद थे. मौके पर संबोधित करते हुए सांसद फिर चिकित्सा जगत में चल रहे भ्रष्टाचार पर जमकर बोले और रोगियों के साथ बुरा बर्ताव करने वाले डॉक्टरों की जमकर खिंचाई की.
      मौके पर सांसद ने कहा कि सिस्टम सौ वर्षों से जकड़ा हुआ है ऐसे में उनके पास कोई अलाउदीन का चिराग नहीं है जो एक दिन में सारी व्यवस्था को ठीक कर दे. हाँ, उनके द्वारा जो प्रयास किये जा रहे हैं उसके परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं और कई मामलों में आपको उनके प्रयास से सुधार देखने को मिल रहे हैं. उन्होंने भरोसा दिलाया कि वे आम लोगों की सेवा के लिए हमेशा तत्पर हैं.
      सांसद ने सभी प्रखंड प्रतिनिधियों और कार्यकर्ताओं से अपील की कि भ्रष्ट व्यवस्था के खिलाफ सहरसा में होने वाले जनअदालत में भारी संख्यां में पहुंचे और इसे ऐतिहासिक बनावें.

अवैध अतिक्रमण किये महादलितों के घरों को बुलडोजर से तोड़कर किया जमींदोज

|बी० सिंह|01 अक्टूबर 2014|
माननीय उच्च न्यायलय पटना के आदेश पर प्रशासन द्वारा आलमनगर प्रखंड के इटहरी के पास बसे महादलितों के कई घरों को बुलडोजर लगाकर तोड़ दिया गया है.
      मंगलवार की सुबह जब मधेपुरा जिले के उदाकिशुनगंज अनुमंडल के एसडीओ दीपक कुमार साहू पुलिस बल के साथ पहुंचकर माननीय उच्च न्यायालय, पटना के आदेश पर इन अवैध घरों को तोड़ना शुरू किया तो पीड़ित परिवारों ने एक-दो दिनों की मोहलत मांगी, पर बताया जाता है कि इन्हें पहले भी काफी समय दिया गया था, इसलिए प्रशासन ने बिना देरी किये हुए इन घरों को तोड़कर जमीन को अतिक्रमणमुक्त करा दिया.
      मिली जानकारी के अनुसार आलमनगर के कुंजौरी पंचायत के बजराहा निवासी सुरेश मेहता की 1.9 एकड़ जमीन पर करीब बीस वर्ष पूर्व महादलितों ने कब्ज़ा कर लिया था और अवैध रूप से घर बनाकर वे रह रहे थे. लंबी कानूनी लड़ाई के बाद पटना उच्च न्यायालय ने सुरेश मेहता बनाम बिहार सरकार तथा अन्य में फैसला देते हुए जमीन को कब्जमुक्त कराने का आदेश दिया और आदेशानुसार कल हलकी नोंक-झोंक के बाद कल जमीन खाली करते हुए उनके सामानों को उन्हें सरकार द्वारा दी गई जमीन पर पहुंचा दिया.

मधेपुरा में डॉल्फिन को देखने उमड़ी भीड़: मृत अवस्था में थी छोटी नदी में

|राजीव रंजन|01 अक्टूबर 2014|
मधेपुरा जिले में मानिकपुर चौक के पास एक छोटी नदी में अजीबोगरीब प्राणी को देख कर लोगों की बड़ी भीड़ उमड़ गई. पहले लोग इसे बड़ी मछली समझकर पानी से निकाला और वहाँ मौजूद लोगों का कहना था कि ये नदी में मरी पड़ी थी.
      बाहर निकालने के बाद इस प्राणी की पहचान डॉल्फिन के रूप में हुई है, हालाँकि भर्राही थानाध्यक्ष ने इसे न पहचानने की बात कही. इस मरी हुई डॉल्फिन को सबसे पहले देखने का दावा करने वाली बगल की महिला ने बताया कि उसने जब सुबह में इसे छोटी नदी में देखा तो आसपास के लड़कों को बुलाकर इसे पानी से बाहर निकलवाया. भर्राही थानाध्यक्ष राजेश चौधरी को खबर मिलते ही उन्होंने डॉल्फिन को रिक्शा पर लाद कर थाना ले आये और वन विभाग को इसकी सूचना दे दी है.
      एक तरफ जहाँ सरकार इस लुप्तप्राय: प्राणी को बचाने की जद्दोजहद में है वैसे में इसकी मौत किस परिस्थिति में हुई, ये जांच का विषय है. माना जाता है कि स्तनधारी (मछली नहीं) डॉल्फिन मनुष्य के बाद दूसरा सबसे समझदार प्राणी है और कई बार इसने समुद्र में अपनी जानपर खेल कर शार्क जैसे हमलावर प्राणी से मनुष्य को बचाया है. कई जगह पार्कों में स्विमिंग पुलों में बच्चों के साथ डॉल्फिन के खेलने की भी व्यवस्था की गई है. ऐसे में एक डॉल्फिन की मौत होना दुःखद है.
 मधेपुरा के डॉल्फिन को देखें इस वीडियो में, यहाँ क्लिक करें.

30 सितंबर 2014

एक और दुर्घटना: लापरवाह कार चालक ने मारी मोटरसायकिल सवार को ठोकर: तीन बच्चों सहित चार घायल

|मुरारी कुमार सिंह|30 सितम्बर 2014|
मधेपुरा में दिनदहाड़े हत्या और उसमें शामिल कार सवारों के दुस्साहस की घटना से सारा शहर आक्रोशित ही था कि एक और लापरवाह कार चालक ने बीच शहर में ही एक मोटरसायकिल सवार को जबरदस्त ढंग से ठोकर मार दी. मोटरसायकिल सवार मोटरसायकिल पर तीन छोटे-छोटे बच्चों को लेकर जा रहा था. दुर्घटना में चारों को गहरी चोटें आई हैं.
      घटना करीब सात बजे शाम की है जब मधेपुरा नगर परिषद् क्षेत्र के वार्ड नं. 10, पुरानी बाजार के मो० लाल अपनी मोटरसायकिल बजाज प्लैटिना (BR 43 A 2781) पर अपने तीन छोटे बच्चों, मो० नासीर (8 वर्ष), मतोषा प्रवीण (4 वर्ष), मो० अलीमस (डेढ़ साल) के साथ मोटरसायकिल से जा रहा था कि पीछे से किसी बड़ी कार ने मो० लाल के मोटरसायकिल को ठोकर मार दी जिससे चारों घायल हो गए. धक्का मारकर कार चालक फरार हो गया.

मर्डर का फोलोअप: कार चालक है संपन्न घर का इंजीनियर: ऐसा मनबढ़ूपना क्यों ?


मधेपुरा में जिला मुख्यालय में कॉमर्स कॉलेज के पास दिल दहला देने वाली घटना में जहाँ एक ट्रैक्टर ड्राइवर की कार वाले युवाओं ने पीट-पीट कर हत्या कर दी, वहीं इस घटना के बाद मधेपुरा में लोगों का आक्रोश इतना बढ़ गया कि उन्होंने मधेपुरा में सड़क जाम तो किया ही, साथ-साथ लोगों ने पुलिस के खिलाफ भी जम कर नारेबाजी की. मौके पर से पकडाए युवक के भाग जाने से लोग पुलिस के प्रति भी आक्रोशित थे.
                  
कौन थे कार सवार?: जिस कार में सवार युवकों पर ट्रैक्टर ड्राइवर को पीट-पीटकर मार देने का आरोप लगा है, वो कार मारूति की वैगन-आर है जिसका नंबर BR 19 F 6404 है. कार सहरसा के गंगजला निवासी आशालता सिंह, पति- विनय सिंह के नाम से रजिस्टर्ड है. मधेपुरा टाइम्स को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कार विनय सिंह का पुत्र लेकर मधेपुरा आया था, जो पहले किंगफिशर कंपनी में इंजीनियर था और वर्तमान में विदेश में इंजीनियर है. विनय सिंह सहरसा सिविल कोर्ट में पेशकार थे जो अब रिटायर हो चुके हैं. परिवार के अन्य सदस्य भी अच्छी नौकरी में हैं. बताया जाता है कि दुर्गापूजा में बेटा घर आया था और इस घटना में अब बुरी तरह फंस गया है.
      जाहिर सी बात है, ऐसी घटना की जितनी निंदा की जाय कम है. ट्रैक्टर वाले की गलती हो सकती है कि उसने साइड देने में देर की हो, पर इसका ये मतलब नहीं कि उसकी पीट-पीटकर हत्या कर दी जाय. मामला अब दुर्घटना या इससे जुड़े मौत का नहीं रहा बल्कि जिस तरह से घटना होना बताया गया है वो सीधी हत्या का मामला बनता है और ये भी दर्शाता है कि युवक पर पैसे का नशा चढ़ा हुआ था. युवाओं के द्वारा छोटी सी बात पर आवेश में आकर इस तरह के कदम उठा लेना शर्मनाक है. इस मामले में अभियुक्तों की तुरंत गिरफ्तारी होनी चाहिए.     

मधेपुरा में दिनदहाड़े हत्या: साइड नहीं देने पर कार सवारों ने ट्रैक्टर चालक को पीट-पीट कर मार डाला

|मुरारी कुमार सिंह|30 सितम्बर 2014|
मधेपुरा में मधेपुरा- सहरसा मार्ग पर कॉमर्स कॉलेज के गेट के सामने एक कार सवारों ने एक ट्रैक्टर चालक को साईड देने में देरी होने पर पीट-पीट कर मार डाला.  
प्राप्त जानकारी के अनुसार सदर थाना क्षेत्र के बिशनपुर निवासी अरूण सिंह ट्रैक्टर लेकर सहरसा से मधेपुरा आ रहे थे और कार सवार भी कार से सहरसा की ओर से हीं मधेपुरा आ रहे थे. उसी समय कॉमर्स कॉलेज के पास आने के बाद ट्रैक्टर  ड्राइवर रोड पर भीड़ रहने के कारण साईड देने में देरी कर दी कि कार चालक ने अपनी कार नम्बर BR 19 F 6404 को ट्रैक्टर  के आगे में लगा दिया और ट्रैक्टर  चालक को गाड़ी से खींचकर उतार लिया. बताया जाता है कि ट्रैक्टर ड्राइवर का पैर ब्रेक पर रहने के कारण रूकी हुई थी और गाड़ी को न्यूट्रल नहीं किया था, जिससे चालक का पैर ब्रेक पर से उतरने के बाद ट्रैक्टर  आगे की ओर बढ़ गया और कार में ठोकर लग गई और कार थोड़ी छतिग्रस्त हो गई. जिस पर आक्रोश में आकर कार पर सवार तीनों व्यक्तियों ने लात और मुक्का से ट्रैक्टर चालक को पीटना शुरू कर दिया.  
जब तक में भीड़ जुटी तब तक में चालक बेहोश हो गया और पुलिस को खबर की गई. पुलिस ने मौके पर पहुंच कर कार पर सवार एक व्यक्ति को पकड़ लिया और बेहोश चालक को भी उसी कार में बैठाकर सदर अस्पताल मधेपुरा लाया. पर सदर अस्पताल पहुँचते ही ट्रैक्टर ड्राइवर अरूण सिंह की मौंत हो गई.  
बताया जाता है कि ट्रैक्टर तुनियाही गांव के संतोष कुमार की है. वहां पर अस्पताल में मौजूद परिजनों ने बताया कि कार चालक को पुलिस ने मिली भगत से सदर अस्पताल से भगा दिया. जबकि सदर थाना अध्यक्ष नवीन कुमार सिंह ने बताया कि कार चालक को गिरफ्तार करने में देरी नहीं लगेगी.  
            थोड़ी हीं देर के बाद परिजनों ने आक्रोशित होकर पहले थाना चौक के सामने सड़क पर पर लाश रखकर रोड को घंटों जाम कर पुलिस प्रशासन मुर्दा बाद का नारा लगाते रहे. बाद में आक्रोशित भीड़ ने कर्पूरी चौक को भी बुरी तरह जाम कर दिया जिससे यातायात घंटों ठप्प रहा. भीड़ को नियंत्रित करने में पुलिस असफल प्रतीत हो रही थी.
      घटना की जानकारी मिलते ही मधेपुरा में मौजूद सांसद पप्पू यादव ने मृतक के परिजनों से मिलकर उन्हें 50 हजार रूपये दिए तथा जहाँ मृतक के दोनों लड़कों की पढ़ाई का भार उठाने और एक बेटी की शादी कराने का भर भी वहन करने का आश्वासन दिया.

29 सितंबर 2014

‘हीरो’ का कस्टमर मीट: रंगारंग कार्यक्रम के बीच ग्राहकों ने बांटे अपने सुखद अनुभव

|मुरारी कुमार सिंह|29 सितम्बर 2014|
भारत के 5 करोड़ से अधिक लोगों की पसंद नं. 1 मोटरबाइक कंपनी हीरो के मधेपुरा स्थित शोरूम में आज कस्टमर मीट का भव्य आयोजन किया गया. ग्राहकों की बड़ी भीड़ के सामने जहाँ हीरो के कई नए मॉडलों का प्रदर्शन भी किया गया वहीँ ग्राहकों ने हीरो के अधिकारियों के साथ अपने अनुभव भी बांटे.

      जिला मुख्यालय के बाय पास रोड में मौजूद इलाके में हीरो के सबसे भव्य शोरूम में आयोजित ग्राहक मिलन समारोह में आज जहाँ कंपनी के टेरीटरी मैनेजर संजय वल्लभ दास मौजूद थे वहीँ मुख्य अतिथि के रूप में मधेपुरा नगर परिषद् के मुख्य पार्षद विशाल कुमार बबलू और विशिष्ट अतिथि के रूप में बैंक अधिकारी संतोष कुमार झा, वार्ड पार्षद ध्यानी यादव, वार्ड पार्षद मुकेश कुमार उपस्थित थे.
      अतिथियों का स्वागत मधेपुरा शोरूम के प्रोप्राइटर अशफाक आलम ने उन्हें बुके और शॉल प्रदान कर किया, वहीँ मौके पर इप्टा, मधेपुरा के कलाकारों ने नाटक की प्रस्तुति कर दर्शकों का मन मोह लिया.

      कस्टमर मीट की बहुत ही खास बात यह रही कि इसमें ग्राहकों ने अपने अनुभव कंपनी के अधिकारियों को सुनाये तो कंपनी के अधिकारियों ने उनसे प्रोडक्ट की खामियों को भी दर्शाने कहा जिससे यदि कहीं कोई कमी रह गई हो तो उसे भी दूर करने के प्रयास किये जा सकें. पर ग्राहकों ने हीरो बाइक तथा स्कूटी के सभी मॉडल्स की प्रशंसा की.

      इस दौरान कंपनी की ओर से हीरो बाइक तथा स्कूटी से सम्बंधित एक क्विज कार्यक्रम का भी आयोजन किया और छ: विजेताओं को ईनाम भी दिए गए. कस्टमर मीट के दौरान जहाँ नए मॉडल्स टेस्ट ड्राइव के लिए उपलब्ध थे वहीँ आज किसी भी बाइक के लिए फ्री चेकअप तथा वाशिंग की व्यवस्था की गई थी.
       कार्यक्रम में शोरूम के मैनेजर संतोष कुमार, एकाउंटेंट दिनेश कुमार समेत सभी कर्मचारी उपस्थित थे.

चोर का कबूलनामा (सुनें वीडियो में)

|मुरारी कुमार सिंह|29 सितम्बर 2014|
नाम- रंजीत कुमार, उम्र- 26 वर्ष, घर- जजहट सबैला थाना-सिंहेश्वर, जिला- मधेपुरा, पेशा- चोरी करना.
      रंजीत एक चोर है. वह जिले में छोटी-मोटी चोरी करता है और इसी से वह अपने परिवार का भरण-पोषण करता है. रंजीत पहले पंजाब में मजदूरी करता था, पर इस बार जब वह घर आया तो काम के सिलसिले में एक दिन साहुगढ़ गया जहाँ उसकी मुलाकात राजा नाम के एक पुराने चोर से हुई और फिर रंजीत भी इस धंधे में कूद गया. धंधा चल पड़ा और रंजीत ने राज के साथ मिलकर ट्रैक्टर की बैटरी चुराना शुरू किया. ट्रैक्टर से बैटरी चुराने का धंधा कम रिस्की साबित हुआ और फिर कॉलेज चौक पर के किसी कलाम ने इनकी चोरी की बैटरी खरीदना शुरू कर दिया. रात में अँधेरे में किसी ट्रैक्टर से बैटरी खोल लेना और कलाम से बेच लेने का धंधा चल ही रहा था कि गजेरी चौक के बंटी यादव और साहुगढ़ के नीरज कुमार ने शक के आधार पर रंजीत को पकड़ा तो फिर रंजीत ने सब कुछ बक दिया. पुलिस ने रंजीत को गिरफ्तार कर लिया है.
   रंजीत का कबूलनामा इस वीडियो में देखें, यहाँ क्लिक करें.

डॉक्टर के साथ मारपीट के विरोध में सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने किया सामूहिक हड़ताल: मरीजों में अफरातफरी

|मुरारी कुमार सिंह|29 सितम्बर 2014|
सदर अस्पताल, मधेपुरा में आज सुबह एक चिकित्सक के साथ मारपीट की घटना के बाद सदर अस्पताल के डॉक्टर और कर्मचारियों ने आक्रोश में हड़ताल कर दिया. हड़ताल से सदर अस्पताल इलाज करने आये पूरे जिले के सैंकड़ों रोगियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा और वे अपने रोगियों की जान बचाने निजी क्लीनिकों की शरण में चले गए.
      पीड़ित चिकित्सक डा० ओम नारायण यादव के बयान पर मामले में एफआईआर दर्ज कर लिया गया तथा देर शाम तक एक गिरफ्तारी भी कर ली गई है. घटना के बारे में डा० ओम नारायण यादव के लिखित आवेदन के अनुसार आज सुबह जब वे सदर अस्पताल मधेपुरा में ड्यूटी पर थे, उसी समय मधेपुरा वार्ड नं. 10 के मरीज बीबी शौकत आरा के पति एवं दो बेटों ने उनपर उनके मरीज को पहले देखने का दवाब बनाया जबकि वे दूसरे रोगी को देख रहे थे. डॉक्टर ने कहा कि वे इस रोगी को देखकर उनके रोगी को देख लेते हैं. इसी क्रम में रोगी बीबी शकत आरा के पति मो० कयूब जे० रहमान और उनके दोनों पुत्र जिनके साथ 5-6 लोग मौजूद थे ने डॉक्टर के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया.  हालाँकि डॉक्टर ओम नारायण यादव ने उसके बाद भी उनके पेशेंट को देखा और दवा दिलवाई. चिकित्सक ने मधेपुरा थानाध्यक्ष को उनके साथ मारपीट करने वाले मो० कयूब जे० रहमान और उनके दोनों पुत्रों पर कठोर कार्यवाही करने की मांग की.
      घटना के विरोध में सदर अस्पताल के सभी चिकित्सक तथा कर्मचारी आज ये मांग करते अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए कि घटना के अभियुक्तों की अविलम्ब गिरफ्तारी की जाय.

अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था है शून्य: सदर अस्पताल में चिकित्सकों के साथ लगातार दुर्व्यवहार हो रहे हैं. कभी किसी डॉक्टर के साथ मार-पीट कर दी जाती है तो कभी किसी डॉक्टर को जबरन उठाकर ले जाया जाता है, फिर भी यहाँ सुरक्षा व्यवस्था के नाम पर कुछ नहीं किया जा रहा है. यहाँ मौजूद होमगार्ड किसी बड़े लफड़े में नहीं पड़ना चाहते और आज की घटना में भी कहा जाता है कि उन्होंने चिकित्सक को बचाने का अत्यंत ही मामूली प्रयास किया था. यहाँ सशस्त्र बल की स्थायी रूप से प्रतिनियुक्ति नहीं होना प्रशासन की लापरवाही दर्शाता है.
      सदर अस्पताल में सीसीटीवी कैमरे भी लगाये जाने की सूचना है, पर बताया जाता है कि सीसीटीवी कैमरे खराब पड़े हुए हैं. ऐसे में किसी भी घटना का सबूत से वंचित रह जाना ऐसी घटनाओं को बढ़ावा देने जैसा है.
      मामला भले ही गंभीर हो, पर सदर अस्पताल प्रशासन के साथ पुलिस प्रशासन गंभीर नहीं दिखता है. ऐसे में कभी किसी बड़ी अनहोनी से भी इनकार नहीं किया जा सकता है.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...