19 सितंबर 2014

अल्टरनेटिव मेडिसिन (ए.एम.) की डिग्री पर मेडिकल प्रैक्टिस करना कितना वैध ?

मधेपुरा लोक सभा क्षेत्र में इन दिनों फर्जी डॉक्टरों पर शामत आ गई है. मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव के अभियान के बाद मधेपुरा में कई फर्जी डिग्रीधारी डॉक्टरों ने या तो अपनी दूकान बंद कर ली है या फिर बोर्ड बदल दिए हैं.
      लोकसभा क्षेत्र में कई ऐसे डॉक्टर भी हैं जिनके बोर्ड पर एमबीबीएस के साथ ए.एम. भी लिखा हुआ है और ये मरीजों का इलाज कर रहे हैं. कितना वैध है ए.एम. की डिग्री पर प्रैक्टिस करना, इसकी जानकारी जब हमने लेनी चाही तो कई महत्वपूर्ण तथ्य सामने आये.
      दरअसल अल्टरनेटिव मेडिसिन चिकित्सा शास्त्र की वो विधा है जो पूर्णत: वैज्ञानिक प्रक्रिया पर आधारित नहीं होने के बावजूद सदियों से कई बीमारियों के इलाज में कारगर साबित हो रही है. इस पारंपरिक विधा में नेचुरोपैथी, एक्यूपंक्चर, ट्रेडिशनल चाइनीज मेडिसीन, आयुर्वेदिक मेडिसिन, क्रिश्चियन फेथ हीलिंग आदि आते हैं, जिनपर बहुत से रोगियों को भरोसा होता है.
      भारत में अल्टरनेटिव मेडिसिन सिस्टम को बढ़ावा देने के लिए सेन्ट्रल गवर्नमेंट एक्ट XXI of 1860 के तहत कोलकाता में इन्डियन बोर्ड ऑफ अल्टरनेटिव मेडिसिन्स स्थापित है जहाँ से अल्टरनेटिव मेडिसिन से सम्बंधित कई कोर्सेज कराये जाते हैं. इसके अलावा तामिलनाडु में महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी के सौजन्य से तथा कर्नाटक स्टेट ओपन यूनिवर्सिटी के द्वारा भी अल्टरनेटिव मेडिसिन से सम्बंधित कई तरह के कोर्स कराये जाते हैं और डिग्री दी जाती है. इसकी सबसे खास बात यह है कि अल्टरनेटिव सिस्टम ऑफ मेडिसिन्स के तहत प्रैक्टिस करने के लिए मेडिकल काउन्सिल ऑफ इंडिया से किसी रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता (letter No. MCI-34(1) / 96-Med. / 10984) नहीं है.
      अल्टरनेटिव मेडिसिन में दक्षता प्राप्त व्यक्ति पूरे भारत में प्रैक्टिस कर सकता है और जहाँ मदर टेरेसा से लेकर दलाई लामा तक जैसे महान लोगों ने अल्टरनेटिव मेडिसिन की तारीफ़ की है वहीँ सुप्रीम कोर्ट से लेकर हाई कोर्ट, पश्चिम बंगाल, हाई कोर्ट कर्नाटक, हाई कोर्ट दिल्ली आदि ने भी इसकी वैधता को स्वीकारा है.
(ब्यूरो रिपोर्ट)

18 सितंबर 2014

यूनिवर्सिटी में हंगामा

|मुरारी कुमार सिंह|18 सितम्बर 2014|
बदहाली और हंगामों के लिए पूरे भारत में प्रसिद्ध मधेपुरा के बी० एन० मंडल यूनिवर्सिटी में आज का दिन फिर हंगामेदार रहा. धक्कामुक्की के बीच से जो बात निकल कर आई वो भी यूनिवर्सिटी में चल रहे भ्रष्टाचार को ही प्रदर्शित करता है.
      लगाये गए आरोप के अनुसार समाजशास्त्र के डिसरटेशन (मतबंध) पेपर के लिए यूनिवर्सिटी के एक-दो समाजशास्त्र के शिक्षकों ने छात्रों से 4 से 5 हजार रूपये की राशि वसूल की थी. इस बात का विरोध मधेपुरा के कई छात्र संगठन कर रहे थे. पर आज मौखिक परीक्षा के लिए आये छात्रों को कुछ शिक्षकों ने बहला-फुसलाकर छात्र नेताओं के खिलाफ भड़का दिया. उधर कई छात्रों का कहना था कि हमसे डिसरटेशन के नाम से कोई पैसा नहीं लिया गया है. इसी बात पर बात बढ़ी और धक्कामुक्की की नौबत आ गई.
      छात्र संगठनों ने वीसी से पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है.

भ्रष्ट डॉक्टरों के खिलाफ मधेपुरा में मशाल जुलूस: सांसद ने कहा 'दलाल जनप्रतिनिधि कर रहे हैं भ्रष्ट डॉक्टरों का समर्थन'


सहरसा के डॉक्टरों के द्वारा पप्पू यादव का विरोध होने पर आज मधेपुरा में दूसरे दिन भी भ्रष्ट डॉक्टरों का विरोध जारी रहा. आज शाम में जहाँ राजद, कॉंग्रेस और युवाशक्ति के कार्यकर्ताओं ने शहर में मशाल जुलूस निकाल कर भ्रष्ट डॉक्टरों के खिलाफ नारे लगाये.
      वहीँ दूसरी ओर आज मधेपुरा में राजद, कॉग्रेस और राजद कार्यकर्ताओं को संबोधित करने से पूर्व पत्रकारों से वार्ता करते हुए आज सांसद ने भ्रष्ट डॉक्टरों के खिलाफ कई खुलासे किये. सांसद पप्पू यादव ने कहा कि आज सारे डॉक्टरों के पास महंगी कारें हैं और पटना तथा दिल्ली में जमीन है. उन्होंने डॉक्टरों से पूछा कि पढ़ाई में आप यदि बहुत खर्च किया है तो क्या आप जनता को लूट कर अपना पैसा निकालिएगा? नेता इलेक्शन में बहुत खर्च करता है तो इसका क्या मतलब है कि वो जनता को लूट ले.
      पप्पू यादव ने कहा कि पहले मैं तीन यादव डॉक्टर तथा एक पटेल और साह डॉक्टर के पास गया पर कोई बात नहीं उठी. पर क्या कारण था कि जब मैं के० सी० झा के पास गया तो क्यों इन सारे दलाल नेताओं को बुरा लगा. क्या के० सी० झा इन सारे दलाल नेताओं को पैसा देते हैं. सांसद ने कहा कि बुखार में दस जांच क्यों लिखा जाएगा. क्यों एम्बुलेंस का ड्राइवर और ममता सीधे पेशेंट को लेकर आपके क्लिनिक पर क्यों जाता है? उन्होंने कहा कि इस इलाके का कोई डॉक्टर क्यों आईसीयू रखा हुआ है? जांच का पैसा पटना में कम और यहाँ ज्यादा क्यों? उन्होंने पूछा कि बिहार का कोई जांच क्यों दिल्ली में फेंक दिया जाता है. तुम नॉर्मल डिलीवरी को ऑपरेशन से कराते हो.
      पप्पू यादव ने कहा कि हम चाहते हैं जन अदालत जिसमें सरकार के आदमी रहें और सभी वर्ग का प्रतिनिधित्व रहे और वहां फैसला हो.
      सुनें क्या कहा, सांसद ने, यहाँ क्लिक करें.

विश्व के पहले ईंजीनियर विश्वकर्मा की पूजा धूमधाम से मनी

|मुरारी कुमार सिंह|18 सितम्बर 2014|
बुधवार को जिले भर में विश्वकर्मा पूजा की धूम रही. वाहन मालिकों से लेकर वाहन विक्रेताओं और कई अन्य दुकानदारों ने अपने यहाँ बाबा विश्वकर्मा की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना की.
      जिले में कई वाहन विक्रेताओं ने विश्वकर्मा पूजा के अवसर पर आकर्षक उपहार की योजना भी रखी और ग्राहकों ने इसका जमकर लाभ उठाया. जिला मुख्यालय के बाय पास रोड स्थित टीवीएस शोरूम रिषभ टीवीएस ने जहाँ इस मौके पर आगामी 30 सितम्बर तक के लिए अपने अधिकांश मॉडलों पर एक वीआइपी सूटकेश दे रही है वहीं तिपहिया वाहनों के अग्रणी विक्रेता और पिआजियो कंपनी के शो रूम ऑटो जोन ने हर ऑटो के साथ एक सायकिल देने की योजना शुरू की और कल ही ग्राहकों ने बीस ऑटो खरीदकर बीस सायकिल गिफ्ट में ली.
      पूजा के अवसर पर कई वाहन मालिकों ने वाहनों को साफसुथरा कर कल इसका परिचालन बंद रखा.
      हिन्दू धर्म में विश्वकर्मा को निर्माण एवं सृजन का देवता माना जाता है. मान्यता है कि सोने की लंका का निर्माण उन्होंने ही किया था. विश्वकर्मा हस्तलिपि कलाकार थे, जिन्होंने हमें सभी कलाओं का ज्ञान दिया.

17 सितंबर 2014

डॉक्टर को जबरन पटना ले जाने के मामले का पूरा सच

|वि० सं०|17 सितम्बर 2014|
मधेपुरा सदर अस्पताल में पदस्थापित 38 वर्षीय चिकित्सक डा० संतोष कुमार को एक रोगी के परिजनों के द्वारा जबरन पटना ले जाने के मामले में हुए खुलासे से कई अन्य बातें सामने आई है.
      डा० संतोष कुमार ने न्यायालय के समक्ष दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत अपने बयान में खुद को सुरमाहा निवासी पतरघट प्रखंड प्रमुख मनोज यादव और रायभीर निवासी पिंटू यादव के द्वारा उन्हें रोगी को पटना रेफर करने के बाद जबरन ले जाने की पूरी कहानी बताई है. लंबी-चौड़ी कहानी में कुछ बातें उल्लेखनीय हैं.
      डॉक्टर का कहना है कि 11 सितम्बर की रात जब मनोज यादव और पिंटू यादव उन्हें रोगी के साथ पटना ले जाने की जिद कर रहे थे तो पिंटू ने मोबाइल से सिविल सर्जन से बात की थी और इस जिद पर थे कि डा० संतोष कुमार को हमारे साथ जाने दीजिए. लगातार दवाब पर सिविल सर्जन ने एकबार डॉक्टर को कह दिया था कि आप क्या कीजियेगा, इसके साथ चले जाइए नहीं तो ये लोग काफी हंगामा करेगा. यदि दूसरे डॉक्टर का ईमरजेंसी में इंतजाम हो जाता है तो आप ड्यूटी छोड़कर चले जाइएगा.
      मधेपुरा थाना कांड संख्यां 505/2014 में न्यायालय में डॉक्टर संतोष कुमार ने कहा कि उसके बाद जब कोई डॉक्टर नहीं आया और वे लोग फिर दवाब डालने लगे. फिर पिंटू और उसके साथ तीन-चार लड़कों ने सिविल सर्जन और डा० संतोष कुमार को मारने की धमकी दी और स्कॉर्पियो पर जबरन बिठाकर लेकर चले गए. रोगी को पीएमसीएच में भर्ती कराने के बाद उन्हें छोड़ दिया और वे 108 नंबर के एम्बुलेंस से वापस अगले दिन करीब 2.30 बजे मधेपुरा वापस आ गए.
      हालांकि डा० संतोष कुमार ने कहा है कि पटना ले जाने के क्रम में उनके साथ कोई दुर्व्यवहार नहीं किया गया.

मधेपुरा में सांसद समर्थकों ने सहरसा के भ्रष्ट चिकित्सकों का पुतला फूंका

सांसद पप्पू यादव के द्वारा डॉक्टरों की फीस घटाने की मांग को सहरसा के डॉक्टरों द्वारा खारीज कर देने तथा सांसद के खिलाफ सहरसा के डॉक्टरों तथा कुछ जनप्रतिनिधियों के सड़कों पर उतरने के खिलाफ मधेपुरा में आज राजद तथा कॉंग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सहरसा के भ्रष्ट डॉक्टरों का पुतला फूंका.
      सांसद के समर्थन में मधेपुरा की सड़कों पर उतरे कार्यकर्ताओं ने सहरसा के भ्रष्ट चिकित्सकों का पहले अर्थी जुलूस निकाला और शहर के बी० पी० मंडल चौक पर पुतला दहन भी किया.
      पुतला दहन करने वालों का कहना था भ्रष्ट और फर्जी चिकित्सकों की वजह से इलाके में गरीबों की लगातार मौतें हो रही हैं. चिकत्सकों की मनमानी को रोकने के लिए हम लोग मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव के नेतृत्व में आंदोलन कर रहे हैं. साथ ही इन भ्रष्ट चिकित्सकों को संरक्षण देने वाले भ्रष्ट जनप्रतिनिधियों के खिलाफ भी हम सड़क पर उतरेंगे. आंदोलनकारियों का ये भी कहना था कि गरीब जनता का लगातार शोषण करने वाले डॉक्टरों के खिलाफ सांसद ने लोगों को जगाने का काम किया है. समर्थकों ने कहा कि जो कई डॉक्टर जो कल तक सड़क पर थे आज अरबपति-खरबपति हो गए हैं. इनके खिलाफ हम चरणबद्ध आंदोलन करेंगे. सहरसा के कुछ नेता जो डॉक्टर की दलाली कर उनका पैसा खाते हैं वे लोग पप्पू यादव पर आरोप लगा रहे हैं. ऐसे नेताओं के मुंह पर हमलोग कालिख पोतने का काम करेंगे.
      सांसद के समर्थन में फर्जी डॉक्टरों का पुतला फूंकने वालों में मुख्य रूप से श्वेत कमल उर्फ बौआ, रविन्द्र यादव, राजद के परवेश यादव, बैजनाथ पासवान, युवा राजद के जिलाध्यक्ष मो० अलाउद्दीन, टुनटुन साह, मो० जमशेद ईमाम, भानुप्रताप, मो० अशफाक, विकास कुमार, जयकांत यादव, अजिर बिहारी, चन्द्र वंश यादव, डा० राजेश रतन, संत कुमार, मनोज यादव, प्रिंस गौतम, देवाशीष पासवान, दीपक कुमार, पिंटू यादव, प्रेम शंकर, बाबू साहेब आदि भी मौजूद थे.
(खबर से सम्बंधित वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें)

समाज की तरक्की में महिलाओं का शिक्षित होना जरूरी: विधान पार्षद

|नि० सं०|17 सितम्बर 2014|
मधेपुरा जिला के रत्नेश नंदन महाविद्यालय मधुबन में मुख्यमंत्री बालिका पोषाक राशि का वितरण किया गया. आयोजित समारोह की अध्यक्षता प्राचार्य डां मंजू प्रसाद ने की. समारोह के मुख्य अतिथि विधान पार्षद विजय कुमार वर्मा ने वित्त रहित शिक्षा कर्मियों के योगदान को प्रशंसनीय बताते कहा कि शिक्षा का दीप जलाने में इनका महत्वपूर्ण योगदान है. उन्होंने छात्राओं को पोशाक राशि के महत्व की जानकारी दी. 
      श्री वर्मा ने कहा कि समाज, राज्य एवं देश की तरक्की में महिलाओं को शिक्षित होना जरूरी है. विधान पार्षद श्री वर्मा ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में राज्य सरकार काफी काम कर रही है. उन्होंने वित्तरहित शिक्षा कर्मियों की मांग को जायज ठहराते कहा कि राज्य सरकार उनकी मांगों को पूरा करने में सहानुभूति दिखाएं.
मौके पर पूर्व विधायक परमेश्वरी प्रसाद निराला ने छात्राओं से कडी मेहनत एवं लगन से पढाई करने की बात कही. कॉलेज के सचिव सूरज प्रकाश ने कॉलेज में चल रहे उत्तरोत्तर विकास कार्य एवं पढाई की जानकारी दी. प्राचार्य डा० मंजू प्रसाद ने छात्रों से 75% उपस्थिति सुनिश्चित करने की बात कही.

यूपी में समाजवादी पार्टी की जीत पर मधेपुरा में जश्न

|नि० सं०|17 सितम्बर 2014|
उत्तर प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा के उपचुनाव में समाजवादी पार्टी की शानदार जीत पर मधेपुरा में समाजवादी पार्टी के नेता व कार्यकर्ताओं ने खुशी का इजहार किया.
      जिला मुख्यालय के जयपालपट्टी चौक पर सपा कार्यकर्ताओं ने पटाखे फोड़े और मिठाईयां बांटी. बिहार प्रदेश समाजवादी पार्टी के कार्यकारिणी सदस्य सह वार्ड पार्षद ध्यानी यादव तथा समाजवादी पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव मो० इश्तियाक आलम ने कहा कि अच्छे दिन की असलियत जनता पहचान चुकी है और यूपी उपचुनाव में भाजपा के कमजोर प्रदर्शन से यह साफ़ जाहिर हो चुका है कि मोदी की लोकप्रियता खत्म हो चुकी है. सपा साम्प्रदायिक एकता की मिशाल है और हम बिहार में भी आनेवाले लोकसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करेंगे.
      मौके पर शत्रुघ्न प्रसाद यादव, संजय राय, सीताराम यादव, योगेन्द्र यादव, मो० बबलू, विनोद केशरी, मुन्ना यादव, दीपक कुमार आदि भी मौजूद थे.

16 सितंबर 2014

दो दिवसीय जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता का हुआ समापन

|मुरारी कुमार सिंह|16 सितम्बर 2014|
जिला मुख्यालय के संत अवध बिहारी महाविद्यालय में कला संस्कृति एवं युवा विभाग, बिहार सरकार द्वारा प्रायोजित जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता का आज समापन हो गया.

      इससे पहले खिलाड़ियों ने मैदान में अपनी अद्भुत क्षमता का प्रदर्शन किया और दो दिन चले इस जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता में विजेताओं को चुना गया. मौके पर आज जिला परिषद् अध्यक्षा मंजू देवी ने पहुंचकर खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाया. खेल प्रतियोगिता के समापन अवसर पर उन्होंने कहा कि खेल न सिर्फ हमें अनुशासन सिखाता है बल्कि खेल से बौद्धिक विकास भी होता है.

      बाद में जिप अध्यक्षा ने विजेताओं को ईनाम देकर सम्मानित किया.

संसार रूपी दल-दल में सभी कष्टों का कारण ‘मैं’: मलय प्रज्ञा जी

|अमित कुमार|16 सितम्बर 2014|
संसार रूपी दल-दल में सभी कष्टों का कारण मैं और मेरा भाव है. यह बातें जैन समाज की श्रमणी निर्देशिका मलय प्रज्ञा जी ने शहर स्थित जैन समाज के अनुयायी हंसराज जी बाफना के आवास पर आयोजित मंगल प्रवचन में कही. उन्होंने कहा कि इस संसार रूपी दल-दल में रहने के बावजूद भी जो संत धार्मिक विचार के होते है वो सांसारिक मोह माया से दूर रहते है. राजस्थान बालोत्रा की संचित प्रज्ञा एवं असम की नीति प्रज्ञा ने भी मंगल प्रवचन में अपने उद्गार व्यक्त किए. मंगल प्रवचन में ध्यान एवं योगासन कार्यक्रम भी आयोजित किए गए. जिसमे मुरलीगंज, सरसी, बनमनखी, जानकीनगर सहित आस-पास के क्षेत्रों से बड़ी संख्या में श्रद्धालूओं ने भाग लिया. मौके पर हंसराज बाफना, ब्रहमानंद जायसवाल, बाबा दिनेश मिश्र, विकास आनंद, श्यामलाल सोनी, कानीराम जैन, बिनोद बाफना, कैलाश अग्रवाल, रूपचंद्र सेठिया, चन्द्रभूषण भगत, अरूण नाहटा, डॉ० शिवावतार भगत, इंदरचंद बोथरा, सत्यनारायण मंडल सहित सैकड़ों श्रद्धालुगण मंगल प्रवचन में शामिल हुए.

मुरलीगंज को अनुमंडल बनाने की मांग हुई तेज

|अमित कुमार|16 सितम्बर 2014|
मधेपुरा जिले के मुरलीगंज प्रखंड को अनुमंडल बनाने की मांग एक बार फिर से तेज होती दिखाई दे रही है.
सीपीआईएम कार्यकर्ताओं ने मुरलीगंज को अनुमंडल बनाने, सहरसा से चलने वाली सभी रेल ट्रेन को मुरलीगंज से चलाने सहित 5 सूत्री मांगों को लेकर मंगलवार को प्रखंड मुख्यालय के मुख्य द्वार पर धरना दिया. धरना से पहले सीपीआईएम कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों को लेकर शहर स्थित दुर्गा स्थान चौक से जुलूस निकाल कर प्रदर्शन करते हुए प्रखंड मुख्यालय पहुंचे.
कार्यक्रम की अध्यक्षता अंचल मंत्री बैद्यनाथ प्रसाद यादव ने की. कार्यक्रम में सीपीआईएम के जिला मंत्री गणेश मानव, किसान सभा के जिलाध्यक्ष पन्ना लाल यादव, खेत मजदूर यूनियन के जिलाध्यक्ष बैद्यनाथ यादव, सचिव ललन कुमार, नगर मंत्री के.के. सिंह राठौर, रानी देवी, संजय हेम्ब्रम, मुसो ऋषिदेव, पप्पू कुमार, भुवनेश्वर राम,  महेन्द्र वास्की, मदन टुडू, चलितर ऋषिदेव भी शामिल थे.

चौसा में थानाध्यक्ष समेत पुलिस कर्मियों को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

एक बार फिर जिले में पुलिस जा निरीह चेहरा आज उस समय नजर आया जब ग्रामीणों ने एक थानाध्यक्ष समेत उसके पूरे दल-बल को बंधक बना लिया. चार घंटे बंधक रहने के बाद एसडीपीओ ने चार थानों की पुलिस की मदद में बंधकों को आजाद करवाया, वो भी भारी मशक्कत के बाद.
      घटना मधेपुरा जिला के चौसा थानाक्षेत्र की है. मिली जानकारी के मुताबिक चौसा थानाक्षेत्र के अरजपुर पश्चिमी पंचायत के गरैया टोला की है. बताया जाता है कि यहाँ जमीन सम्बंधित विवाद गाँव के चौधरी सिंह और शंकर सिंह तथा पूर्णियां निवासी अनिल सिंह के बीच चल रहा था. एक बीघा आठ धुर जमीन कभी गजेन्द्र सिंह की हुआ करती थी. गजेन्द्र से जमीन अनिल यादव ने खरीदी थी, पर उसपर चौधरी सिंह और शंकर सिंह ने यह कहकर कब्ज़ा किये रखा था कि गजेन्द्र ने उस जमीन के पैसे उनसे ले रखे थे.
      मामला हाल में चौसा थाना पर जनता दरबार में आया और अनिल यादव के कागजात को पुलिस ने सही पाया. आज सुबह अनिल यादव एक ट्रेक्टर लेकर अपनी जमीन जोतने आया तो चौधरी सिंह और शंकर सिंह में हवा में पांच गोलियाँ चलें तो अनिल और उसका ड्राइवर ट्रेक्टर छोड़कर भाग गया. घटना की सूचना मिली तो चौसा थानाध्यक्ष मक़सूद अशर्फी पुलिस बल के साथ अनिल यादव के समर्थन में गाँव पहुंचे और चौधरी सिंह तथा शंकर सिंह के घर की छापेमारी करनी शुरू की. बस क्या था, गुस्साए ग्रामीणों ने पुलिस को ही बंधक बना लिया. बंधक बनाने में महिलायें भी शामिल थी.
      थानाध्यक्ष समेत चौसा पुलिस के बंधक बनाये जाने की सूचना पाकर उदाकिशुनगंज के एसडीपीओ रहमत अली ने आलमनगर, फुलौत, पुरैनी और उदाकिशुनगंज से पुलिस बल मंगाया और गरैया टोला पहुंचे. पर ग्रामीणों का गुस्सा अभी भी बरकरार था. काफी मशक्कत के बाद खतरे में पड़े बंधक पुलिसकर्मियों को छुड़ाया जा सका. ग्रामीणों का कहना था कि चौसा पुलिस और अनिल यादव ने शंकर और चौधरी सिंह के घर की छापेमारी के दौरान उन्होंने घर से चार लाख रूपये और जेवरात गायब कर दिए हैं, उन्हें वापस करें. उससे पहले चौसा के सीओ शहादुल हक ने भी लोगों को समझाने का प्रयास किया, पर ग्रामीणों की जिद के सामने उनकी एक न चली.
      जो भी हो, आज का दिन चौसा पुलिस के लिए बहुत ही बुरा था और चार घंटे बंधक रहने के दौरान पुलिसों के चेहरे पर खौफ साफ़ झलक रहा था.

मुरलीगंज में विद्युत विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के कार्यशैली पर क्षोभ व्यक्त

|नि० सं०|16 सितम्बर 2014|
मुरलीगंज में बिजली विभाग के मनमानी रवैया और बिजली की दयनीय हालत को देखते हुए उद्भव एक प्रयास एवं हेल्प लाईन की एक संयुक्त बैठक रविवार को शहर स्थित उद्भव कार्यालय में आयोजित की गयी. बैठक की अध्यक्षता उद्भव के संरक्षक बाबा दिनेश मिश्र एवं संचालन हेल्प लाईन के सचिव विकास आनंद ने की.
     बैठक में मुरलीगंज पावर सब स्टेशन के जले व क्षतिग्रस्त कैबुल को 15 दिनों के अंदर बदल कर 5 एमभीए के ट्रांसफर्मर को चालू करवाने तथा नगर पंचायत क्षेत्र की वर्षो पुरानी जर्जर विद्युत तार एवं बढ़े हुए विद्युत भार के क्षमता के अनुसार नगर में लगे ट्रांसफर्मर को बदल कर नए ट्रांसफर्मर लगाने और नगर के आज भी विद्युतीकरण से वंचित आबादी को विद्युत सेवा बहाल करने की मांग भी विद्युत अधिकारियों से की गयी.
बैठक में मुरलीगंज नगर व प्रखंड क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति की बदहाल बनी हुई स्थित के लिए विद्युत विभाग के अधिकारियों को जिम्मेंवार बताया गया तथा विद्युत विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के कार्यशैली पर क्षोभ व्यक्त किया गया. बैठक में निर्णय लिया गया कि उक्त मांगों को यदि 15 दिनों में पूरा नही किया गया तो विद्युत विभाग के अधिकारियों के मनमौजी रवैये के विरुद्ध जनहित में आंदोलन शुरू किया जाएगा. कहा गया कि विद्युत विभाग के अधिकारियों के कारण लगभग एक वर्ष से मुरलीगंज पावर सब स्टेषन में लगें 5 एमभीए का ट्रांसफर्मर बेकार बना हुआ है, जिस कारण मुरलीगंज पावर सब स्टेशन को पर्याप्त विद्युत आपूर्ति मिलने के बावजूद भी 3 एमभीए के ट्रांसफर्मर से मुरलीगंज के सभी फीडर को बारी-बारी से 11 एवं 22 घंटें का रोटेशन कर विद्युत आपूर्ति हो रही है.
      बैठक में उद्भव के अध्यक्ष राकेश चौधरी, सचिव रोहन मिश्रा, राहूल यादव, बजरंग भगत, भाष्कर, यादव, गौतम यादव, चंदन कुमार, प्रदीप कुमार, राहुल मिश्रा, लल्टू यादव, किशोर मुखिया, हेल्प लाईन के अध्यक्ष संजय सुमन, प्रणय कुमार साहा, संजीव कुमार भगत, राजेश भूत, विनोद भगत भी मौजूद थे.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...