17 जनवरी 2018

माँ के शव को मुखाग्नि देकर बेटी ने स्थापित किया नया इतिहास

मधेपुरा जिले के शंकरपुर प्रखंड क्षेत्र के मधेली बाजार गांव के दो बेटियों ने अपनी मां के निधन पर पुरानी परंपरा को तोड़कर माँ के शव को मुखाग्नि देकर गांव में एक नया इतिहास स्थापित किया है। 

मिली जानकारी अनुसार मधेली निवासी प्रधान शिक्षिका शांति देवी का आकस्मिक निधन 31 दिसंबर को हो गया था. मृतका की दो बेटियाँ शिव कुमारी और सरिता कुमारी दोनों बहनें मुखाग्नि देने की जिद अड़ गई. पहले तो समाज में इस बात को लेकर काफी बहस हुई । गांव के लोग इस बात पर अड़े हुए थे कि आजतक हमारे समाज में ऐसी परंपरा रही है कि मृतक को मुखाग्नि मृतक के पुत्र द्धारा दी जाती है या परिवार के किसी पुरुष सदस्य द्वारा। ये कैसे हो सकता है  कि मृतक को मुखाग्नि उसकी पुत्री दे। प्रधान शिक्षिका शांति देवी की पुत्री द्वारा मुखाग्नि के जिद के आगे सभी ग्रामीणों की एक बैठक हुई. बैठक में ग्रामीणों ने मृतक की बड़ी बेटी शिव कुमारी राय को मुखाग्नि देने की अनुमति देकर नया संदेश दिया। अपनी मां को मुखाग्नि देकर शिव कुमारी राय ने सामाजिक परंपरा को तोडकर एक नया इतिहास लिख दिया है। 

पूरे इलाके में बस एक ही चर्चा हो रही है कि अब बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं रह गया है। जो काम बेटे कर सकते हैं वो बेटियां भी और वैसे भी अब तो बेटियां कुछ भी कर सकती है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...