30 जून 2017

सुपौल का केशव झा हत्याकांड: थानाध्यक्ष निलंबित, बहनोई ने ही की साले की हत्या !

लालच, ईर्ष्या और दुश्मनी में लोग किस तरह रिश्ते का भी खून कर देते हैं कुछ ऐसा ही देखने को मिला बिहार के सुपौल जिले के पिपरा थाना इलाके के कमलपुर गाँव में.

 जहाँ एक बहनोई ने अपने ही साले को अपहरण कर उसकी हत्या कर उसके शव को कोशी नदी मे फेंक कर ठिकाना लगा दिया.

जिस मामले का खुलासा आज पुलिस अधीक्षक ने उन हत्यारों को पकड़ने के बाद किया है. मामले में लापरवाही बरतने के लिए एसपी ने सम्बंधित थानाध्यक्ष शिव कुमार यादव को सस्पेंड कर दिया है.

रिपोर्ट के साथ की तश्वीर केशव झा की है. 18 वर्षीय केशव को उसी के रिश्ते मे लगने वाले बहनोई पवन मिश्रा ने 11 जून की शाम को बुलवा कर अपहरण कर लिया और उसकी 11 जून की देर रात हत्या कर कोशी नदी में ठिकाना लगा दिया. इसका खुलासा सुपौल पुलिस अधीक्षक ने आरोपियों के कन्फेशनल स्टेटमेंट के आधार पर किया है. जबकि 11 जून से अपहृत केशव झा को लेकर परिजनों ने लिखित शिकायत 13 जून को पिपरा थाने मे की थी और 18 जून केशव के परिजनों को अपराधियों द्वारा उसे छोड़ने के एवज मे फोन पर 50 लाख रुपये बतौर फिरौती की डिमांड भी एक बार की गयी थी. उस फोन मे परिजनों ने अपने बेटे की आवाज सुनी और फ़िर दुबारा कोई फिरौती नही मांगी गयी. जबकि इस दरमियान केशव मामले को लेकर इलाके मे आक्रोश बढ़ता गया कई. सियासत करने वाले राजनेता केशव को ढूँढ निकालने की माँग लगातार करते रहे.

अब इस मामले मे पुलिस को केशव झा का मोबाइल बरामद हुआ, जिस मोबाइल के वैज्ञानिक अनुसंधान से उसके बहनोई पवन मिश्रा और रामदेव कामत की गिरफ्तारी की गयी वही हत्या मे शामिल वीरेन्द्र कामत पुलिस को चकमा देकर अभी फरार है. पुलिस के समक्ष आरोपियों ने खुलासा किया कि उसकी हत्या 11 जून को की गयी और उसके हत्या से पहले ही उसके VOICE रिकार्ड कर लिया गया, जिस के आधार पर परिजनों से सकुशल दिखला कर फिरौती की डिमांड करने की बात बताई गई है. इधर पुलिस कप्तान डा. कुमार ऐकले ने बतलाया कि उसके शव की बरामदगी को लेकर कोशी नदी मे NDRF की टीम गोताखोर की मदद से ढूँढ़ने का प्रयास किया जा रहा है.

जबकि पीडित परिजनों का मानना हैं की जब तक वो अपने बेटे का लाश नही मिलेगी तक तक उसे मरा हुआ नही समझेंगे. हालांकि पुलिस के अनुसार यह हत्या लालच और पुरानी दुश्मनी को लेकर किया जाना बतलाया, क्योंकि हाल मे ही केशव झा के पिता को सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण की गयी ज़मीन को लेकर सरकारी मुआवजे की मोटी रकम मिली थी.

एसपी ने भले ही मामले में  थानाध्यक्ष शिव कुमार यादव को निलंबित कर शिव शंकर कुमार को नया थानाध्यक्ष बना दिया हो, पर इस घटना को लेकर लोगों में आक्रोश कहीं से कम होता नजर नहीं आ रहा है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...