16 जनवरी 2017

‘गबन का विद्यालय?’: अभिभावकों ने की एक सप्ताह से तालाबंदी, विभाग लापरवाह



मधेपुरा जिले के पुरैनी प्रखंड क्षेत्र के नवसृजित प्राथमिक विद्यालय अम्बो बासा के प्रधान शिक्षक के मनमाने रवैये व लूट-खसोट की नीति के कारण विद्यालय मे व्याप्त कुव्यवस्था व गबन से उग्र होकर अभिभावको ने 10 जनवरी को विद्यालय मे ताला जड़ दिया है. 

    पर विद्यालय मे तालाबंदी के एक सप्ताह बीतने के बाद भी विभागीय अधिकारी के लापरवाही से क्षुब्ध होकर सड़क पर उतरकर आंदोलन करने का मन बना रहे है.
    विद्यालय के शिक्षा समिति के अध्यक्ष, सचिव, व सभी सदस्यो के अलावा दर्जनो अभिभावको का कहना है कि उक्त विद्यालय के प्रधान शिक्षक सिकंदर प्रसाद यादव के मनमाने रवैये से जहां विद्यालय मे पठन-पाठन व मध्याह्न भोजन की स्थिति दयनीय हो चुकी है. वही प्रधान शिक्षक अधिकांश समय विद्यालय से लापता रहते है और विभागीय सांठगांठ से उपस्थिति दर्ज करा लेते हैं. इतना ही नही वर्षो पूर्व आवंटित विद्यालय भवन निर्माण की सम्पूर्ण राशि का उठाव करने के बावजूद 2 वर्ष बीतने के बाद भी अबतक खिड़की व किवाड़ नही लगाया गया है और न ही जमीन का पक्कीकरण किया गया है. इतना ही नही वित्तीय वर्ष 2012-13 एवं 2013-14 व 2014-15  का पोशाक  योजना एवं छात्रवृति राशि का आधा अधूरा वितरण कर अधिकांश राशि का गबन कर लिया गया और वितरण के संदर्भ मे पूछे जाने पर विद्यालय शिक्षा समिति को कहा जाता है कि यह मेरे अधिकार क्षेत्र का है, विद्यालय शिक्षा समिति कौन होता है हिसाब लेने वाला?
    अभिभावक गोपाल दास, मंटू सिंह, अजय कुमार, पींटू कुमार, बाधो सिंह, बेचन सिंह, मनोज राम, धनंजय कुमार आदि का कहना है कि बीईओ से लेकर बीडीओ और जिला शिक्षा पदाधिकारी को भी कई बार मामले को लेकर आवेदन के माध्यम से शिकायत की गयी लेकिन कभी भी विभागीय अधिकारी के द्वारा आवश्यक कदम व कारवाई नही की गयी. जिससे क्षुब्ध होकर हमलोगो को विद्यालय मे तालाबंदी करना पड़ा  लेकिन विभाग इस कदर मैनेज है की अबतक कोई पदाधिकारी एक सप्ताह बीतने को है विद्यालय नही पहुंचे है अगर यही रवैया रहा तो हम सभी ग्रामीण सड़क पर उतरकर आंदोलन को बाध्य हो जाऐंगे.
     वही इस बाबत वरीय बीआरपी सहित प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी  मामले को लेकर कुछ भी कहने से अपनी असमर्थता जताई तो विद्यालय के प्रधान शिक्षक ने आरोप को बेबुनियाद बताया. अब सवाल यह खड़ा होता है कि जब आरोप बेबुनियाद है तो अभिभावको मे इतना रोष क्यों व्याप्त है और विद्यालय मे आज भी तालाबंदी है और न ही विद्यालय मे खिड़की व किवाड़ लगी है और न ही जमीन का ही पक्कीकरण हुआ है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...