17 सितंबर 2017

Bad News: मधेपुरा में फिर चरमराई विद्युत् आपूर्ति व्यवस्था




मधेपुरा में लोग कहने लगे हैं कि सचमुच इतिहास अपने आप को दुहराता है. सरकार के दावे धराशायी हो रहे हैं और सुविधा के नाम पर मधेपुरा फिर इतिहास दुहराने लगा है.

जी हाँ, खासकर मधेपुरा शहर में विधुत आपूर्ति  व्यवस्था के पूरी तरह चरमराने के कारण लोग परेशान हैं.
  
शहर में कई घंटे बिजली गुल रहने से आम जनजीवन अस्तव्यस्त है । एक बार बिजली कटती है तो लोगों की चिंता बढ़ जाती है कि पता नहीं कब बिजली आयेगी? बिजली विभाग की बेवफाई तो देखिए, दिन में कभी-कभी बिजली कुछ घंटे कटे रहने की सूचना अखबार में तो विभाग छपवा देती है, पर शाम या रात में घंटों बिजली काटे जाने का कोई माकूल जवाब विभाग के पास नहीं है.

बता दें कि पिछले एक पखवाड़े से शहर की विद्युत् आपूर्ति व्यवस्था से शहरवासी हलकान हैं. पूरे दिन में बिजली आपूर्ति कितनी बार ट्रिप करती है और जिस वजह से कटी रहती है, शायद बिजली विभाग को ये पता नहीं होगा. सम्बंधित अधिकारियों की बातों पर यदि भरोसा करें तो बोइजली के तार बदले जा रहे हैं  और फिर लाइन में फॉल्ट आदि की बात भी वे कहकर पल्ला झाड लेते हैं.

दूसरे तरफ लोगों के रातों की नींद हराम हो गई है. शाम से भी बिजली लुकाछिपी खेलती रहती है रात में भी दस-ग्यारह बजे के आसपास कब कितने घंटे के लिए चली जाय, कोई नहीं जानता. उपभोक्ता यदि विभाग के नंबर पर फोन करता है तो घंटी बजती रह जाती है.

मालूम हो कि शहर की विद्युत् आपूर्ति व्यवस्था में अनियमितता को लेकर ने पिछले दिनों मधेपुरा के जिलाधिकारी ने विभाग के अधिकारी की जम कर क्लास ली थी और विभाग के कुछ इंजीनियरों को भी इधर-उधर किया लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है. ऐसे में अब उपभोक्ता विभाग के खिलाफ सड़क पर उतरने के लिए एकजुट हो रहे हैं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...