03 सितंबर 2016

मधेपुरा: स्कूल में तालाबंदी कर किया हंगामा, शिक्षकों के आवास में भी लगाया ताला

मधेपुरा जिले के चौसा प्रखंड स्थित गांधी उच्च विद्यालय अरजपुर के मैट्रिक पास सैकड़ों बच्चों को अब तक प्रमाण पत्र नहीं मिल पाने के कारण आज शनिवार को अक्रोशित बच्चों ने विद्यालय में तालाबंदी कर हंगामा करते हुए बवाल काटा. बच्चों ने विद्यालय परिसर में रह रहे शिक्षकों के आवास में भी ताला बंद कर दिया है, जिससे उनका हुक्का-पाती भी बंद हो गया है.
      विद्यालय के शिक्षकों ने स्थानीय प्रशासन को आवेदन देकर बच्चों द्वारा की गई तालाबंदी की जानकारी देते हुए हस्तक्षेप करने की मांग की है. विद्यालय में तालाबंदी से शैक्षणिक कार्य समेत विभागीय कार्य ठप हो गया है. दूसरी ओर जिला शिक्षा पदाधिकारी ने संज्ञान लेते हुए शीघ्र ही प्रमाण पत्र वितरण एवं इंटर महाविद्यालय में नामांकन कराने की बात कही है.
      मालूम हो कि गांधी उच्च विद्यालय अरजपुर से सत्र 2015-16 में करीब 417 बच्चे मैट्रिक की परीक्षा पास की है. लेकिन अब तक उन्हें विद्यालय की ओर से प्रमाण पत्र नहीं दिया गया है. बिहार में मैट्रिक परीक्षाफल निकलने के बाद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पटना ने अरजपुर विद्यालय का परीक्षाफल यह कह कर रोक लगा दिया कि विद्यालय में नामांकन से अधिक बच्चों को परीक्षा में शामिल कराया गया है. परीक्षा समिति द्वारा अरजपुर के मैट्रिक परीक्षा में शामिल बच्चों का अब तक परीक्षाफल नहीं दिया है. जिससे बच्चों के साथ अभिभावकों में जबरदस्त आक्रोश है. आक्रोशित बच्चों ने बीते दिन चौसा रूपौली पथ को अरजपुर में जाम कर घंटों आवागमन को बाधित किया था और आज संपूर्ण विद्यालय में तालाबंदी कर विरोध जताते हुए कहा कि जब तक हमलोगों को प्रमाण पत्र नहीं मिलेगा तब तक विद्यालय में ताला बंद रहेगा. बच्चों ने विद्यालय के मुख्य प्रवेश द्वार पर भी ताला लगा दिया है. इतना ही नहीं आक्रोशित बच्चों ने विद्यालय परिसर में रह रहे शिक्षकों के आवास में भी ताला बंद कर दिया है. आवास में तालाबंदी होने से शिक्षक सड़क पर आ गये हैं. बच्चें इतना आक्रोशित हैं कि ये किन्हीं की बात सुनने को तैयार नहीं हैं. उनका कहना है कि शिक्षक के साथ-साथ सरकार भी हमलोगों के भविष्य से खिलवाड़ कर हमारे सपनों को पानी में मिला दिया है.
           आक्रोशित बच्चे मुकेश कुमार, रोहित कुमार, उज्ज्वल कुमार, करन कुमार, दीपक कुमार, संदीप कुमार, कुमोद कुमार, सुमित कुमार ने बताया कि परीक्षा के छह माह बीत जाने के बाद भी हमलोगों का परीक्षाफल नहीं आया है. विद्यालय के शिक्षकों की मनमानी से हम सभी आजिज हैं. बच्चों ने जिला प्रशासन से पूरे मामले की जांच पड़ताल कर दोषी शिक्षक पर उचित कार्रवाई करने की मांग की है. उधर, जिला शिक्षा पदाधिकारी बद्री प्रसाद मंडल ने संज्ञान लेते हुए शीघ्र ही प्रमाण पत्र वितरण एवं इंटर महाविद्यालय में नामांकन कराने की बात कही है.
        उधर प्रभारी प्रधानाध्यापक प्रदीप कुमार के नेतृत्व में गांधी उच्च विद्यालय के सभी शिक्षकों ने स्थानीय प्रशासन को एक आवेदन देकर विद्यालय में बच्चों द्वारा की गई तालाबंदी की जानकारी देते हुए हस्तक्षेप करने की मांग की है. बहरहाल जो भी, परीक्षा के महीनों बाद परीक्षाफल नहीं आना यह एक गंभीर विषय है. यदि बच्चों को प्रमाण पत्र दे भी दिया जाय तो क्या इंटर में नामांकन हो जाऐगा.यदि पदाधिकारी के आदेश पर नामांकन हो भी जाय तो क्या बच्चे का सिलेबस पूरा हो पायेगा? मामला काफी गंभीर लगता है और राष्ट्रीय शिक्षा नीति का के अनुसार कहीं से नहीं है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...