26 अगस्त 2016

लाडले की सकुशल बरामदगी को लेकर सपरिवार सहित ग्रामीण कर रहे आमरण-अनशन

सुपौल। सूबे की सरकार अपने चुनावी वादे के तहत किये गये सात निश्चय को अलमीजामा पहनाने की दिशा में कोई कसर नहीं छोड़ना चाह रही है तो वहीं जिले के किशनपुर पुलिस संगीन मामलों में भी सुस्ती बरत रही है.
    किशनपुर थाना पुलिस के खिलाफ गुरूवार को एक परिवार अपने लाडले की सकुशल बरामदगी को लेकर आमरण अनशन शुरू कर दिया है.
    बता दें कि बीते 10 अक्टूबर 2015 से ही रतनपुरा गांव निवासी गुरुदेव प्रसाद यादव का 16 वर्षीय पुत्र अमरनाथ उच्च विद्यालय किसनपुर से गायब हुआ था, जिस बाबत उसके परिजनों द्वारा अज्ञात लोगो के विरुद्ध किशनपुर थाना में अपहरण का मुकदमा दर्ज करवाया था.
     पुलिस की सुस्ती के बाद अपहृत के परिजनों ने मोबाइल कॉल डिटेल निकाल करके पड़ोस के गांव के तीन लोगों का नाम भी पुलिस को बताया लेकिन 10 महीने बीत जाने के बाबजूद पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ अपहृत के परिवार व गांव के आधा दर्जन लोगों के साथ आमरण-अनशन प्रारंभ कर दिया.
    किशनपुर प्रखंड कार्यालय परिसर में आमरण अनशन पर बैठ अपहृत के माता-पिता, उनकी दो सगी बहन सहित ग्रामीणों ने बताया कि जब तक उनके लाडले की सकुशल बरामदगी नहीं हो जाती, तब तक वे अंतिम सांस तक आमरण -अनशन पर रहेंगे. परिजनों का आरोप है पुलिस जानबूझ कर मामले को ठंडे बस्ते में डाल कर टाल मटोल कर रही है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...