06 जून 2016

मधेपुरा: गम्हरिया में बवाल, सीओ के साथ दुर्व्यवहार, एएसपी को बनाया बंधक

मधेपुरा जिले में पंचायत चुनाव में जगह-जगह धांधली के आरोप लग रहे हैं और कई अधिकारियों और राज नेताओं पर किसी ख़ास और सत्तादल से जुड़े प्रत्याशी के पक्ष में काम करने के भी आरोप लगाए जा रहे हैं.
    आज मधेपुरा जिले के गम्हरिया में उस समय स्थिति बिगड़ गई जब चुनाव परिणाम में गड़बड़ी की आशंका के बाद कई प्रत्याशी समर्थक आज एक दिवसीय धरना पर थे. बताते हैं कि उसी समय किसी की नजर स्ट्रांग रूम के पास फेंके हुए वोट डाले और कुछ जले हुए बैलेट पेपर पर गई. सूचना धरना पर बैठे हारे प्रत्याशियों के समर्थकों को मिली तो फिर उन्होंने हंगामा करना शुरू कर दिया. लोगों ने आसपास सूई-धागे होने की भी बात कही और फिर देखते ही देखते सैंकड़ों लोगों ने प्रशासन और आपदा मंत्री के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दिया.
    हंगामा कर रहे लोगों का आरोप था कि बिहार के आपदा मंत्री प्रो० चंद्रशेखर ने गत 31 मई की रात गम्हरिया के अंचलाधिकारी के कार्यालय से सटे स्ट्रांग रूम को खुलवाकर मतों की हेराफेरी करवाई है और अपने या राजद समर्थक प्रत्याशियों को जिताने के लिए बैलट पेपर बदलवाए हैं. वोट गिरे विरोधियों के बैलट पेपर जलवाए और फड़वाए गए हैं. उन्होंने कहा कि उस रात 11 बजे गम्हरिया की बिजली काट दी गई जो सुबह 4 बजे आई और इसी बीच में प्रशासन और मंत्री ने मिलकर सारे खेल-वेल किये. आरोप गम्हरिया के बीडीओ और सीओ पर भी लगाये गए हैं. लोगों ने आरोप लगाया कि कई ऐसे प्रत्याशी भी जीते हैं जिनका कोई जनाधार था ही नहीं. यहाँ तक कि कई प्रत्याशियों ने तो मतगणना के पहले ही मिठाई बांटनी शुरू कर दी थी.
    हंगामा के दौरान जहाँ गम्हरिया के सीओ ध्रुव कुमार के साथ आक्रोशित लोगों के द्वारा धक्का-मुक्की की भी खबर है वहीं मधेपुरा के एएसपी राजेश कुमार को भी बंधक बनाकर रखा गया है. लोग इतने आक्रोशित हैं कि किसी तरह के आश्वासन को सुनने को तैयार नहीं हैं और वे सिर्फ राज्य चुनाव आयोग के द्वारा पूरे गम्हरिया का चुनाव फिर से कराने की घोषणा सुनना चाहते हैं.
    मौके पर अभी डीएम और एसपी नहीं पहुंचे हैं. समाचार प्रेषण तक स्थिति असामान्य बनी हुई है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...