24 जून 2016

कोसी के जलस्तर में अचानक वृद्धि से बाढ़ का खतरा, डीएम ने लिया जायजा

कोसी जलस्तर में अचानक हुई वृद्धि से मधेपुरा जिले के आलमनगर प्रखंड के कई पंचायतों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है.
     जलस्तर में वृद्धि को देखते हुए आज बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने जिला पदाधिकारी मो० सोहैल एवं उप समाहर्ता मुकेश कुमार सहित अन्य पदाधिकारियों नें गंगापुर और रतवारा पंचायत स्थित भड़ही धार का जायजा लिया. इस दौरान अधिकारी स्थानीय ग्रामीणों से बाढ़ आने पर होने वाली समस्याओं से रूबरू और जिला पदाधिकारी मो० सोहैल ने अंचलाधिकारी विकास सिंह को निर्देश देते हुए कहा कि इस क्षेत्र में आवश्यकतानुसार सभी धारों एवं ऐसे जगह जहाँ बाढ़ आने पर आवागमन बाधित हो जाता है और आम लोगों को नाव का सहारा लेना पड़ता है, वैसे जगहों को चिन्हित करते हुए अविलंब नाव की व्यवस्था करें.
    वहीं उन्होंने उपस्थित नाव चालक को भी सख्त लहजे में कहा कि किसी भी परिस्थिति में नाव में क्षमता से अधिक संख्या में लोगो को न बिठावें और ट्यूब या टायर को नाव में हर वक्त रखें ताकि दुर्घटना के समय कम से कम जान माल की क्षति उठानी पड़े. वहीं स्थानीय लोगों के अनुरोध पर कोसी नदी के कटाव के वजह से विस्थापित हजारों लोगों के लिए मेडिकल कैम्प चालू कराने की मांग को स्वीकारते हुए जिला पदाधिकारी ने अविलम्ब चालू कराने का भरोसा दिलाया.
बता दें कि आलमनगर प्रखंड के रतवारा, खापुर, गंगापुर, बड़गाँव, ईटहरी, कुंजौड़ी सहित कई पंचायत बाढ़ की वजह से हर साल प्रभावित रहता है ऐसे में इन लोगों को एक गाँव से दूसरे गाँव जाने के लिए एक मात्र नाव ही सहारा रहता है. प्रखण्ड के रतवारा, खापुर, गंगापुर के कई क्षेत्रों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है एवं कई जगहों पर  आवागमन बाधित हो गया है. ऐसे में इन लोगों का एक मात्र आवागमन का सहारा नाव ही है. पशुपालक अपने पशुओं को लेकर चारा की तलाश में ऊँचे जगहों पर जाते देखे जा रहें हैं. 
जिला पदाधिकारी के इस दौरे के बाद स्थानीय लोगों में उम्मीद जगी है कि प्रशासन बाढ़ की मुकम्मल तैयारी कर चुकी है और हम लोगों को बाढ़ के दौरान उत्पन्न होने वाले समस्याओं से आसानी से निजात मिल सकती है.
(रिपोर्ट: प्रेरणा किरण)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...