25 मई 2016

शिक्षिका को ग्रामीणों नें अपराधियों के चंगुल से बचाया!

मधेपुरा जिले के पुरैनी थाना क्षेत्र के दुर्गापुर पंचायत के कालेश्वर टोला में बीते मंगलवार की रात्रि को उक्त गांव के रास्ते से मोटरसाईकिल पर एक विवाहिता शिक्षिका को भगा ले जा रहे अपराधियों के चुगंल से ग्रामीणों ने बचाया. जब तक ग्रामीण अच्छी तरह दोनों का पहचान कर पाते कि अपराधी मौका पाकर फरार हो गए. सुबह होने पर  ग्रामीणों ने उक्त शिक्षिका को पुरैनी थाना के हवाले किया, जहां पर पुलिस महिला से पूछताछ कर रही है.
         जानकारी के अनुसार चौसा प्रखंड के अरजपुर जमुनियां टोला निवासी दिलीप कुमार मंडल की पत्नी मणिमाला कुमारी जो वर्तमान में पूर्णिया जिले के बनमनखी प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय रामपुर तिलक दक्षिण में पंचायत शिक्षिका के रूप में कार्यरत है. उक्त शिक्षिका पूर्णिया के ही जानकी नगर में डेरा ले रखी है. पुलिस को दिये बयान के अनुसार शिक्षिका मणिमाला ने बताया कि मंगलवार को वे बिहारीगंज से ओटो से मुरलीगंज होते हुए जानकीनगर जा रही थी कि आलमनगर प्रखंड के गोछी ईटहरी का पंकज कुमार चौधरी अपने अन्य साथियों के साथ ओटो से उतारकर मोटरसाईकिल पर बैठा कर उसे चौसा के फुलौत गांव लाया. जहां से पुनः उसे पुरैनी के दुर्गापुर गांव होते हुए कहीं और ले जाया जा रहा था इसी बीच कुछ ग्रामीणों की नजर उन पर पड़ी और ग्रामीणों ने महिला के हंगामा करने पर उस मोटरसाईकिल को रोक लिया. लेकिन युवक मोटरसायकिल छोड़ ग्रामीणों की आंखों में धूल झोंक कर भाग गया.
         इस बाबत थानाध्यक्ष राजेश कुमार ने बताया कि आरोपी युवक पहले उक्त शिक्षिका के गांव अरजपुर पूर्वी में पंचायत रोजगार सेवक था. मामला प्रेम प्रसंग का है. सूत्रों की मानें तो पंकज और मणिमाला एक दूसरे को जानती है. पंकज की पत्नी भी सहरसा में प्रखंड शिक्षिका है, जो दो बच्चे का पिता है. इधर उक्त शिक्षिका भी गर्भवती है जो तीन बच्चे की मां बताई जा रही है.  

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...