10 नवंबर 2017

वर्षों पाकिस्तान में रही बहुचर्चित गीता के परिजनों के जुड़े हैं मधेपुरा से तार !

 वर्षों पाकिस्तान में रही बहुचर्चित गीता आखिरकार भारत तो जरूर लौटी, लेकिन गीता के परिजनों का आज तक कोई खुलासा नहीं हो सका है. एक बार फिर गीता के परिजनों का तार मधेपुरा से जुड़ा है.

 और अब गीता के माँ बाप होने का दावा एक बार फिर से कर रहे हैं मधेपुरा जिले के एक दंपत्ति. मधेपुरा जिले के कुमारखंड थाना क्षेत्र अंतर्गत सुपौल और अररिया सीमा पर स्थित पुरैनी महरमपुर निवासी एक दम्पत्ति फिर से कर रहे हैं गीता को अपनी हीं बेटी होने का दावा. हालांकि यह दम्पत्ति मूल रूप से सारण जिले के मढोरा प्रखंड का मिर्जापुर गाँव के रहने वाले बताए जा रहे हैं. गीता के उक्त कथित परिजन केन्द्रीय मंत्री सुषमा स्वराज से भी दूरभाष पर बात कर चुके हैं और मधेपुरा से दिल्ली जाने की तैयारी ही नहीं कर रहे हैं, बल्कि अपने दावे के साथ उनसे मिलने भी जा रहे हैं. यही नहीं परिजन खुद डीएनए जांच की मांग भी कर रहे हैं. 

अहम और बड़ा सवाल तो यह है कि आखिर गीता किसकी बेटी है? इस रहस्य से पर्दा उठना बहराल बांकी जरूर है, लेकिन दावे और धरातलीय हकीकत तो गहन जांच के बाद हीं सामने आ पाएगा. बता दें कि मधेपुरा जिले के कुमारखंड थाना क्षेत्र अंतर्गत सुपौल और अररिया सीमा पर स्थित पुरैनी महरमपुर गाँव, जहाँ के मो. इसुफ़ नामक एक दंपत्ति ने एक बार फिर से बहुचर्चित गीता को अपने बेटी होने का दावा पेश किया है और अपने दावे के समर्थन में कथित सबूत के साथ दिल्ली जा रहे हैं. अब देखना है कि परिणाम क्या निकलता है?

 सुनिए परिजन के दावे को इस वीडियो में, यहाँ क्लिक करें. (वीडियो कुछ ही देर में)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...