17 अक्तूबर 2017

मधेपुरा: जिला आपदा प्रबंधन निर्माण कॊ लेकर हुई बड़ी बैठक

राज्य के विभिन्न जिलों कॊ आशँकित आपदा के ख़तरों कॊ न्यूनतम करने के लिये राज्य सरकार जिलावार आपदा प्रबंधन की रणनीति तैयार कर रही है ।

इसी क्रम में मंगलवार कॊ यहाँ डी आर डी ए  सभागार में जनप्रतिनिधियों और विशेषज्ञों के साथ पदाधिकारियों ने बैठक कर अपने अपने व्यवहारिक सुझाव दिये ।

बैठक की अध्यक्षता कर रहे जिलाधिकारी मो० सोहैल ने कहा कि यह जिला न सिर्फ प्रतिवर्ष बाढ़ कि विभीषिका झेलता है बल्कि इस जिले कॊ भूकम्प से भी खतरा है । ऐसी स्थिति में इन आपदाओं के प्रभाव कॊ न्यूनतम करने के लिये एक सबल और व्यवहारिक आपदा नीति और कार्यक्रम निर्माण आवश्यक है । अपने अपने अनुभवों के आधार पर आपके परामर्श से विशेषज्ञ अपने जिले के लिये एक बेहतर आपदा प्रबंधन योजना बनाने में सक्षम होंगे ।

बैठक में राज्य आपदा विभाग से आये विशेषज्ञों ने इस जिले की प्रमुख आपदा और उससे हुई बरबादी और हानि का लेखा जोखा पेश किया ।

बैठक में उपस्थित पूर्व मंत्री नरेंद्र नारायण यादव ने खासकर बाढ़ के दौरान सर्पदंश से हुई मौतों की चर्चा करते हुए प्रत्येक स्वास्थ्य केन्द्र में इसकी उपलब्धता बरकरार रखने और सरकारी नाव और गोताखोर तैनात रखने का परामर्श दिया ।उन्होने जिला प्रशासन की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस बार बाढ़ के बावजूद किसी भी सड़क का कटाव फौरन ठीक कराकर बेहतर कार्य किया गया ।
विधायक निरंजन मेहता ने आपदा के न्यूनीकरण के लिये आम ग्रामीणों कॊ लगातार प्रशिक्षण देने कि सलाह दी  । ड्रैनेज सफाई कराने का भी उन्होने आग्रह किया ।

जिला परिषद अध्यक्ष मंजु देवी ने आश्वस्त किया कि आपदा योजनाओ के कार्यांवन में सदैव सहयोग दिया जायेगा । मुरलीगंज नगर परिषद के अध्यक्ष श्वेत्कमल ने कहा कि विशेषज्ञों द्वारा दिये गये सुझावों पर अमल किया जायेगा । बैठक में विभिन्न प्रकार की आपदाओं की चर्चा कर उनके ँयुनिकरन की योजनाओं पर राय शुमारी की गयी ।बैठक में एस पी विकास कुमार, डी डी सी, अपर समाहर्ता, दोनो एस डी ओ, विभागीय अभियंतागण, एन डी आर एफ़ और एस डी आर एफ़ प्रतिनिधि सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...