10 जून 2017

सेवा निवृत को लाभ और लंबित याचिकाओं के निपटारे का कुलपति ने दिया निर्देश

भू. ना. मंडल विश्वविद्यालय के कुलपति ने शनिवार को वर्षो से सेवांत्त लाभ के लिए भटक रहे प्राध्यापकों और कर्मियों की समस्यायों के शीघ्र निष्पादन का निर्देश के साथ साथ उच्च न्यायालय में लंबित रीट याचिकाओं और अवमानना वादों पर त्वरित कार्रवाई कर निष्पादन का भी निर्देश जारी किया है।

इस विश्वविद्यालय के दर्जनों प्राध्यापक और कर्मी  सेवानिवृत्ति के वर्षों बाद भी सेवांत्त लाभ के लिए वित्त विभाग में भटकते रहते हैं। लिहाजा कुलपति ने वित्त परामर्शी और अधिकारी के साथ बैठक कर ऐसे लंबित मामलों की सूची तलब करते हुए शीघ्र निष्पादन का निर्देश दिया है।
कुलपति ने विधि विभाग के पदाधिकारियों से भी ऐसे रीट याचिकाओं और अवमानना वादो की सूची तलब की है जिसमें न्यायालय कभी भी विवि के उच्चाधिकारियों को तलब कर सकती है।निर्देश यह भी दिया गया है कि न्यायादेश का शीघ्र अनुपालन करें ताकि ऐसी नौबत ही नहीं आए।

  दरअसल इन दिनों विश्वविद्यालय में सुधार की शुमार है। कुलपति और प्रतिकुलपति सतत सुधार कार्य में व्यस्त रहा रहे हैं। शनिवार को विवि परिसर स्थित वर्षो से बंद अस्पताल को खुलवाया गया और प्रतिकुलपति ने इसका मुआयना कर इसके पुनः परिचालन के लिए सोमवार को बैठक करने की बात कही।

उधर छात्रों की समस्याओं को दूर करने पर भी ध्यान देने का काम हो रहा है। कुलपति ने सभी कालेजों के प्रधानाचार्यो को पत्र लिखकर उनसे उनके कालेज में उपलब्ध छात्रोपयोगी सामग्रियों की सूची तलब की है। उनसे यह भी पूछा गया है कि कालेजों में छात्रोपयोगी सामग्री और सुविधाएं अगर उपलब्ध नहीं है तो क्यों।माना यह जा रहा है कि इसी आधार पर शुल्क लेकर सुविधा उपलब्ध नहीं कराने वाले प्रधानाचार्यो की क्लास भी ली जाएगी।

इसी कड़ी में बी एड की सत्र में किसी भी सूरत में विलम्ब नहीं करने का भी निर्देश जारी किया गया है। प्रवेश परीक्षा, नामांकन, वर्गारंभ, परीक्षा और परीक्षाफल निर्धारित समय पर संपन्न करने के कड़ा निर्देश परीक्षा विभाग को दिया गया है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...