03 मई 2017

मधेपुरा: दूसरे दिन भी जारी रहा भूख हड़ताल, सुधि लेने नहीं पहुंचे अधिकारी

मधेपुरा जिले के घैलाढ़ प्रखंड कार्यालय समीप रंगमंच पर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी प्रखंड अध्यक्ष अरविंद यादव के नेतृत्व में प्रखंड मुख्यालय के कलामंच पर आयोजित भूख हड़ताल बुधवार दूसरे दिन भी जारी रहा.

 वहीँ अरविंद यादव के साथ पप्पू कुमार, कमलेश्वरी यादव, नेपाल मंडल, श्याम सुंदर मंडल, नारायण शर्मा, विपिन यादव, सिकंदर शाह, अनंत शर्मा भूख हड़ताल पर बैठ डटे रहे.  इन रालोसपा नेताओं ने कहा कि जब तक प्रखंड के तमाम आवास सहायक द्वारा 2016 -17 में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत तैयार की गई सूची का निरस्त कर वाजिब गृहविहीन लाभुकों की सूची प्राथमिकता के तौर पर तैयार नहीं की जाएगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा. भूख हड़ताल पर वह बैठे बलुआहा के लाभुक आनंद शर्मा ने बताया कि 8 महीने पूर्व भतरन्धा  के विकास मित्र मनोज राम इंदिरा आवास दिलाने के नाम पर शुद्ध पर उठाकर सारे ₹5000 वीडियो आशा कुमारी घैलाढ़ को देने के नाम पर लिए, परंतु सूची में मेरा नाम नहीं है. श्री नगर पंचायत के कमल पुर के लाभुक नेपाल मंडल ने इंदिरा आवास सहायक पप्पू कुमार पर आरोप लगाया कि पंचायत 10 से ₹20000 वसूली कर अमीर ट्रैक्टर वाले लोगों का नाम सूची में देख कर दिया जबकि हम लोग गृहविहीन  हैं, हम लोगों का नाम प्रार्थमिकता सूची में नहीं दिया. इसी प्रकार पंचायत में गत वर्ष भी गलत किया है. रतनपुरा के  कमलेश्वरी यादव सिकंदर साहब विपिन यादव ने सहायक बैजनाथ नाथ पर आरोप लगाया कि हम लोग मजदूर हैं हम लोगों से सहायक ₹10000 मांग किया नहीं दिया तो  सूची में नाम नहीं है. प्रखंड अध्यक्ष अरविंद यादव ने घैलाढ़ एवं झिटकिया के आवास सहायक निलेश भगत पर आरोप लगाया कि वीडियो आशा भगत के रिश्तेदार होने के कारण दोनों पंचायतों में मनमानी 3 वर्षों से कर रहे हैं.  विगत वर्ष भी संपन्न लोगों को आवास की राशि का भुगतान किए. 2017 में भी घैलाढ़ के अधिकांश लाभुकों से मोटी रकम वसूली कर सूची तैयार किया गया है. इन्होंने निलेश भगत के बर्खास्तगी की मांग किया है. चित्ती के पप्पू कुमार ने सहायक दीपक कुमार एवं बरदाहा सहायक पर आरोप लगाया कि घूस लेकर सूची तैयार किया है और द्वितीय किस्त की राशि भुगतान के नाम पर लाभुकों को परेशान किया जाता है.

भूख हड़ताल पर बैठे लोगों का का हालत बिगडते देख प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र  के चिकित्सक देखने पहुंचे. अस्पताल प्रबंधक कुमार धनंजय तथा डॉक्टर मोहम्मद अकरम ने सभी अनशन कारियों की जांच कर  पानी का सलाइन लगाया और कुछ अनशन धारियों को बेहतर इलाज के लिए मधेपुरा रेफर किया गया. लेकिन खबर लिखे जाने तक भूख हड़ताल पर बैठे लोगों का प्रखंड के एक भी अधिकारी सुधि लेने नहीं पहुंचे.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...