19 फ़रवरी 2017

महाशिवरात्रि मेला 24 से: जाने मेला और सिंहेश्वर महोत्सव की क्या है पूरी तैयारी

बिहार का प्रसिद्ध महाशिवरात्रि मेला और सिंहेश्वर महोत्सव के लिए औपचारिक बैठक सिंहेश्वर मंदिर परिसर स्थित प्रतिमा सिंह धर्मशाला में हुई.

जिलाधिकारी मो. सोहैल की अध्यक्षता में स्थानीय जनप्रतिनिधियो के साथ हुई बैठक में महाशिवरात्रि और महोत्सव को लेकर चर्चा की गई.                   

नही आयेगी भोजपुरी गायिका देवी :-  जानकारी के अनुसार स्थानीय नेता दीपक यादव ने  सिंहेश्वर महोत्सव में भोजपुरी गायिका के जगह भक्ति संगीत के गायक और गायिका को बुलाने का सुझाव दिया, जिसे डीएम श्री सोहैल ने मान लिया और उसके जगह तृप्ति शक्या, शारदा सिन्हा और अनुराधा पोडवाल से संपर्क करने का आदेश दिया. वहीं बैठक में स्थानीय कलाकारों को महोत्सव में स्थान देने के मुद्दे पर अधिकारियों की नीति स्पष्ट नही रही. डीडीसी मिथिलेश कुमार ने बताया स्थानीय कलाकारों ने साढे चार लाख रूपये की मांग की है, जबकि कला संस्कृति संगम के अध्यक्ष पृथ्वीराज  यदुवंशी ने बताया 3 दिन में 66 स्थानीय कलाकारों की सूची सौप दिये हैं, जिस पर  2 लाख 65 हजार खर्च होने की संभावना बताया.


तृप्ति शाक्या का कार्यक्रम तय :-  सूत्रों से अबतक मिली जानकारी केअनुसार सिंहेश्वर महोत्सव में भजन गायिका तृप्ति शक्या अपने भजन का जलवा 27 फरवरी को बिखेरेंगी. वहीँ 25 तारीख को लोक गायक अभिनंदन सरकार व साथी कलाकारों से महोत्सव का श्रीगणेश किया जायेगा. 26 फरवरी को दो अतिथि कलाकारों को मौका दिया जायेगा, जिसमे लोक गायक सुरेंद्र यादव लोक गीत प्रस्तुत करेगे. सिंहेश्वर महोत्सव में 4 बजे से शाम 7 बजे तक स्थानीय कलाकारों का कार्यक्रम होगा तथा 7 बजे से रात्रि 10 बजे तक बाहर से आए कलाकारों का गायन होगा.                  

सफाई पर विशेष ध्यान:-  मेला और महोत्सव के आयोजन के दौरान साफ सफाई पर विशेष  ध्यान दिया जायेगा. बायपास में फैले गंदगी से निपटने के लिए उक्त स्थल पर पंचायत से मिट्टी भराने का निर्देश दिया. मेला मे धूल नही उड़े उसके लिए ट्रैंकर से पूरे मेले में पानी पटवाया जायेगा.                      

बाजार में लगेगा बैरिकेटिंग:- मेला के विधि व्यवस्था को लेकर जगह जगह बैरिकेटिंग लगाया जायेगा. पूर्व के जगह नारियल विकास बोर्ड, दुर्गा चौक, शांति वन में, हाथी गेट, राम जानकी ठाकुरवाडी, पंडा निवास,  बड़गाछी के पास तो लगाया ही जायेगा, भीड को नियंत्रित करने के लिए नारियल विकास बोर्ड से दुर्गा चौक तक दुकान के सामने बैरिकेटिंग किया जायेगा ताकि श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना नही करना पड़े. हालांकि इस फैसले से दुकानदार असमंजस में है कि यह कैसा बैरिकेटिंग होगा.                                   

पीएचईडी विभाग से होगी पानी और शौचालय की व्यवस्था:-  मेले में  पीएचईडी के द्वारा लोगों की सुविधा के लिए 88 चापाकल गाड़े जायेंगे तथा 50 शौचालय बनाये जायेंगे. साथ ही दो चलंत शौचालय मधेपुरा और मुरलीगंज से मगाया जायेगा.

रौशनी की होगी पूरी व्यवस्था :-  बैठक में मेले के दौरान रौशनी के पर्याप्त व्यवस्था के लिए हास्पीटल से मजरहट घाट तक और मेला के अलावे धनबाद गेट से पंडा टोला तक और समूचे बाजार में हर पोल पर बल्व लगाया जायेगा.

अतिक्रमण हटाने का निर्णय लिया :- बैठक में सभी दुकानदारों से दुकान के बाहर समान नहीं  लगाने तथा मंदिर रोड में अतिक्रमण हटाने के लिए सीओ को निर्देश दिया. मंदिर रोड में बाइक  और ठेला नही लगाया जायेगा.                   

साधु संतों के लिए लगेगा टेंट :-  मेले में होने वाली भीड को देखते हुए आने वाले साधू संत महात्माओं के लिए उजले कपड़े का टेंट लगाने का आदेश दिया गया.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...