विकास दर में मधेपुरा बिहार में सबसे अव्वल

राकेश सिंह/३० जुलाई २०११
२०११ की जनगणना के प्रोविजनल आंकड़े जनगणना निदेशक के कार्यालय में संयुक्त सचिव ए.के.सक्सेना ने जारी कर दिया है.मधेपुरा के लोगों के लिए इस रिपोर्ट की सबसे बड़ी खबर है कि मधेपुरा का विकास दर ३०.६५% है जो पूरे बिहार में मधेपुरा को सबसे अव्वल स्थान पर लाता है.विकास दर के मामले में मधेपुरा के बाद किशनगंज (३०.४४%) का स्थान आता है.बिहार का रोहतास जिला विकास दर में सबसे पीछे है, जबकि यह साक्षरता में सबसे आगे है.
     इस जनगणना रिपोर्ट में और भी कई महत्वपूर्ण बातों का खुलासा हुआ है.रिपोर्ट के अनुसार बिहार की कुल आबादी का ८८.७० प्रतिशत जनसंख्यां अब भी गाँव में ही रहती है.जबकि शहरी जनसंख्यां कुल आबादी का सिर्फ ११.३० प्रतिशत ही है.और कुल शहरी आबादी का ४३.४८% सिर्फ पटना में रहती है.२००१ की तुलना में शहरी आबादी में सिर्फ १% का इजाफा हुआ है.
      बिहार का लिंग अनुपात प्रति एक हजार ९१६ है, जबकि शहरी क्षेत्र में और कम, सिर्फ ८९१.लिंग अनुपात में गोपालगंज सबसे अच्छी स्थिति में है,जहाँ १००० पुरुष पर १०१५ महिलायें हैं.
      राज्य की साक्षरता दर ६३.८२% है,जबकि वर्ष २००१ में यह सिर्फ ४७% था.पुरुष साक्षरता दर ७३.३९% (२००१ में ५९.६८), महिला साक्षरता दर ५३.३३% (२००१ में ३३.१२%) है.शहरीकरण में बेगुसराय सबसे आगे और मुंगेर सबसे पीछे है.

  निष्कर्ष के तौर पर हम कह सकते हैं कि जहाँ मधेपुरा को विभिन्न कारणवश मूलभूत सुविधाओं(यथा बिजली,सड़क,रेल,कारखाना आदि) से भी कमोबेश वंचित रखा गया है और फिर भी यदि मधेपुरा विकास दर में राज्य के बाक़ी जिलों से आगे निकल गया है तो इसका श्रेय निश्चित रूप से यहाँ के लोगों को जाता है,जिन्होंने आपसी भाईचारा और कठोर मेहनत से मधेपुरा को विकसित बना रखा है.मुझे ३ अप्रैल २०१० का वह दिन भी याद है जब मधेपुरा में विधिक सहायता-सह-सुलह केन्द्र का उदघाटन करने आये पटना हाई कोर्ट के माननीय जस्टिस शिवकीर्ति सिंह ने यहाँ के लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि लोगों की धारणा गलत है,मधेपुरा काफी एडवांस है.(पढ़ें:लोगों की धारणा गलत,काफी एडवांस है मधेपुरा).माननीय न्यायमूर्ति की बात पर आज फिर एक बार सरकार ने भी मुहर लगाई है, और आज सबसे एडवांस है मधेपुरा.
विकास दर में मधेपुरा बिहार में सबसे अव्वल विकास दर में मधेपुरा बिहार में सबसे अव्वल Reviewed by मधेपुरा टाइम्स on July 30, 2011 Rating: 5

5 comments:

  1. Great News.Jahan Madhepura times hai wo to awwal hoga hi.Jai Madhepura.

    ReplyDelete
  2. aur kuch nahi toh isse "feel good" hoga..

    ReplyDelete
  3. Er.Kundan kr. yadavWednesday, 21 March, 2012

    madhepura bihar hi nahi india me apni ek alag pahchan rakhta hi

    ReplyDelete

Powered by Blogger.