प्रिया राज: सुरीली आवाज ने दी शोहरत

हम प्रणाम करते है उस माँ-बाप को जिसके घर आपने जन्म लिया, हम प्रणाम करते है बिहार की उस माटी को जहाँ आप जैसी लड़की हैं- रविकिशन, भोजपुरी सुपरस्टार


जिस गायिका के लिए मशहूर अभिनेता और भोजपुरी सुपरस्टार ने ये शब्द कहे, वो है मधेपुरा की प्रिया राज. मधेपुरा की शान में जुडा एक और नाम. हो भी क्यों न! जिस लड़की ने अपने उम्र की चार साल से संगीत को समझना और स्टेज पर आना शुरू कर दिया हो तो उसी समय यह लगभग निश्चित हो गया था कि मधेपुरा की बेटी प्रिया एक दिन संगीत के क्षेत्र में क्षेत्र का नाम जरूर रौशन करेगी.
और ये बातें रविकिशन ने महुआ चैनल पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम सुरसंग्राम २ में उस दिन कही थी जिस दिन इस कार्यक्रम का पहला दिन था और इस कार्यक्रम की पहली गायिका प्रिया ही थी.उसके बाद सुरसंग्राम चलता रहा और प्रिया इस कार्यक्रम में बाक़ी प्रतिद्वंदियों को पछारती आगे बढ़ती गयी.२० अगस्त 2010 के पहले एपिसोड से ही प्रिया के संगीत का जादू दर्शकों और कार्यक्रम के जजों के सर चढ कर बोलने लगा.२२ अक्टूबर को प्रिया ने इस कार्यक्रम में अपना अंतिम गाना गाया और इसी दिन एलिमिनेट हो गयी.और तब तक प्रिया ने सुरसंग्राम २ में पूरे भारत में चौथा स्थान प्राप्त कर मधेपुरा और बिहार का नाम एक अलग ऊँचाई पर पहुंचा दिया.
वैसे प्रिया की उपलब्धियां इससे पहले भी कम नही है.पर आइये पहले जानते है ये प्रिया है कौन? प्रिया मधेपुरा जिले की कुमारखंड थाना के परसाही गांव के अरूण कुमार सिंह तथा पूर्व जिला पार्षद रूबी कुमारी की पुत्री है.मधेपुरा में ही प्रिया की शिक्षा दीक्षा संपन्न हुई. ८ नवंबर १९९३ को जन्मी प्रिया ने वर्ष २००६ में जवाहर नवोदय विद्यालय, मधेपुरा से मैट्रिक की परीक्षा पास की.इंटर पार्वती साइंस कॉलेज से पास करने के उपरान्त वह वर्तमान में बी०ए० प्रथम खंड में है और जाहिर सी बात है ऑनर्स का विषय संगीत ही है.प्रिया की अब तक की उपलब्धियों को विस्तार से जानना चाहें तो कई पन्ने लगेंगे.कुछ महत्वपूर्ण उपलब्धियां इस प्रकार हैं:
१.       कोशी महोत्सव सहरसा २००८ लोकगीत और सुगम संगीत में क्रमश:प्रथम तथा द्वितीय पुरस्कार.
२.      राष्ट्रीय युवा खोज प्रतियोगिता पटना २००९ में लोकगीत में पुरस्कृत हुई.
३.      बी०एन०मंडल विश्वविद्यालय के स्थापना समारोह में पुरस्कृत.
४.     सुशांत स्मृति दिवस प्रतियोगिता में उम्र के चौथे वर्ष से ही हमेशा प्रथम पुरस्कार लाती रही.
५.     जिला प्रशासन मधेपुरा द्वारा बिहार दिवस २०१० में प्रथम पुरस्कार
६.      राष्ट्रीय अखंडता कैम्प पटना में आयोजित संगीत समारोह २००८ में प्रथम पुरस्कार.
७.     एल०आई०सी० की ओर से संगीत समारोह २००८ में पुरस्कृत.
            इसके अलावे स्थानीय तथा आकाशवाणी समेत राज्यस्तरीय अनेक संगीत समारोहों में भाग लीं और प्रशंसा पाई.
         मधेपुरा टाइम्स के प्रबंध संपादक राकेश सिंह से बातचीत में प्रिया से जब ये पूछा गया की सुरसंग्राम में टॉप 4 में आकर उन्हें कितनी खुशी हुई तो इन्होने कहा कि आत्मविश्वास था पर डर भी था. टॉप 12 में सेलेक्शन के बाद लगा कि टॉप 6 नजदीक है, टॉप 4 में आने पर बहुत ही ज्यादा खुशी हुई.सच तो ये है कि मैंने कभी नही सोचा था कि इस मुकाम को हासिल कर पाउंगी. अफ़सोस के सवाल पर प्रिया कहती है कि स्टेज किसी का नही होता,परफोर्मेंस पर ही सब कुछ निर्भर करता है.किसी भी असफलता से यह सीख लेनी चाहिए कि कहीं-न-कहीं कोई कमी जरूर रही होगी.इस छोटे से शहर में बहुत ज्यादा सुविधा नही रहने के कारण सर्वोच्च मंजिल नही पा सकी.पर अब लगता है और ज्यादा परिश्रम कर किसी भी मंजिल को पाया जा सकता है.किसी हार पर अफ़सोस नही करना चाहिए कि सफर वहीं खत्म हो गया बल्कि सफर रूकता नही है.
  मधेपुरा टाइम्स के बारे में प्रिया कहती है कि इसकी एक खास बात मुझे सबसे ज्यादा पसंद है कि ये मधेपुरा के टैलेंट्स को खोजकर दुनिया के सामने रखती है जिससे यहाँ के बाहर रहने वाले तथा दुनिया को पता चलता है कि मधेपुरा कई मामले में बहुत आगे है.
  मधेपुरा टाइम्स की और से प्रिया को उसकी सफलता के लिए हार्दिक बधाई.
   मधेपुरा टाइम्स के पाठकों के लिए प्रिया एक गाना गाकर सुनाती है.प्रिया के इस गाने को सुनने के लिए नीचे के लिंक पर क्लिक करें.

किसने क्या कहा प्रिया के गाने को सुनकर :
१.       मलाईका अरोड़ा,अभिनेत्री :तुम इतना अच्छा गाती हो कि लगता है ये ओरिजिनल से बेहतर है.
२.      सोनाक्षी सिन्हा,अभिनेत्री: बहुत पावरफुल
३.      अरबाज खान,अभिनेता: ओरिजिनल से बेहतर
४.     इस्माइल दरबार: सबसे अच्छी बात है कि माहौल से परे तुम निडर होकर गाती हो,इसे बनाये रखना.
५.     रूप कुमार राठौर: बहुत ही अच्छा.
६.      मनोज बाजपेयी: मैं तुम्हे ४० में से ३९ अंक देता हूँ.बहुत बढ़िया.
७.     आरती छाबरिया: मैं आपके गाने में इतना खो गयी कि मुझे पता ही नही चला कि कब गाना खत्म हो गया.
सुर संग्राम में प्रिया के पहले गाने को सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें. 
यूट्यूब पर प्रिया के चैनल को विजिट करने के लिए यहाँ क्लिक करें.
प्रिया राज: सुरीली आवाज ने दी शोहरत प्रिया राज: सुरीली आवाज ने दी शोहरत Reviewed by Rakesh Singh on November 15, 2010 Rating: 5

12 comments:

  1. jaii bihar jai madhepura......bst...f lck 4 future....:)

    ReplyDelete
  2. Priya raj,congratulations. As Sur nd saraswati are inseperable like nartak nd Nritya ,so you are adorable too.good luck for future endeavours.

    ReplyDelete
  3. congrats priya................keep going.
    madhepura ka nam pure india upar karooooooooo.

    ReplyDelete
  4. sabse pahle priya raj aapko bahoot bahhot subhkamnaye aapke sunahre future ke lia..
    or madhepura ka naam raushan karne ke lia..
    thanks rakesh sir for this interview..
    jai bihar jai madhepura..
    jai hoooo..
    priya.. maam..

    ReplyDelete
  5. nice dear.....keep going on.

    ReplyDelete
  6. keep it up dear...
    aasman abhi chuna baki hai...

    BE SHIKANDAR IN YOUR FIELD...

    ReplyDelete
  7. Have a good carrer in future may you wish to a good career

    Govind Rajput
    (DELHI)

    ReplyDelete
  8. NICE PRIYA........................................
    THANK U............

    ReplyDelete
  9. good PRIYA............
    THANKS...............

    ReplyDelete

Powered by Blogger.