17 अप्रैल 2018

कार्यक्रम पदाधिकारी की मनमानी के खिलाफ तालाबंदी कर विरोध प्रदर्शन

मधेपुरा जिले के गम्हरिया प्रखंड कार्यालय के मनरेगा भवन कार्यालय में सोमवार को प्रखंड प्रमुख सहित सभी पंसस के द्वारा मनरेगा भवन कार्यालय में कार्यक्रम पदाधिकारी के मनमानी के कारण तालाबंदी कर विरोध प्रदर्शन किया गया.


मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को प्रखंड प्रमुख एवं सभी पंसस के द्वारा मनरेगा भवन पहुंच कर मौजूद कर्मी से कार्यक्रम पदाधिकारी के बारे में जानकारी ली गई और तालाबंदी किया गया. पूर्व के कार्यक्रम पदाधिकारी संजीव कुमार सुमन का गम्हरिया से स्थानांतरण होने के बाद पुनः नए कार्यक्रम पदाधिकारी सौरव कुमार सिंह ने गम्हरिया मनरेगा भवन में 28 मार्च 2018 को योगदान लिया. योगदान लेने के बाद बीते 19 दिनों तक कार्यालय में अपनी उपस्थिति नहीं देने के कारण बार बार पंसस के द्वारा प्रखंड कार्यालय पहुंच कर कार्यक्रम पदाधिकारी के बारे में जानकारी ली गई. मालूम होता था कि कार्यक्रम पदाधिकारी गम्हरिया नहीं आ रहे हैं. यही सिलसिला चलता आ रहा था जिस बात को लेकर प्रखंड प्रमुख के द्वारा बार-बार फोन करने पर भी कार्यक्रम पदाधिकारी के द्वारा कोई जवाब नहीं दिया जा रहा था. साथ ही सभी पंचायत समिति सदस्यों ने कई बार गम्हरिया प्रखंड मुख्यालय स्थित मनरेगा भवन पहुंचकर कार्यक्रम पदाधिकारी के बारे में जानकारी लेना चाह पर उन्हें खाली हाथ निराश होकर लौटना पड़ा. इस संबंध में प्रखंड विकास पदाधिकारी को भी कार्यक्रम पदाधिकारी के योगदान के बात पूछा गया तो उन्होंने बताया कि मुझे इस बात की जानकारी नहीं है कि कार्यक्रम पदाधिकारी गम्हरिया में योगदान किए हैं कि नहीं क्योंकि मुझसे आकर नहीं मिले हैं ना ही कोई जानकारी मिली है  और बार बार  फोन करने पर भी कोई जवाब नहीं देते हैं.

गम्हरिया प्रखंड के सभी पंसस का आरोप है कि कार्यक्रम पदाधिकारी पंचायत रोजगार सेवकों को अपना ढाल बनाकर योजनाओं में कमीशन की बात करते हैं. इसके बावजूद पंचायत रोजगार सेवकों के द्वारा कहा जाता है कि कार्यक्रम पदाधिकारी तो कार्यालय नहीं आते हैं और कार्यालय में पंचायत रोजगार सेवक के द्वारा प्रशासनिक के नाम पर कमीशन मांगा जाता है.

उप प्रमुख दिनेश चौधरी बार बार योजनाओं के बारे में जाकर कार्यालय में पूछने पर बताया जाता है कि 3 पर्सेंट कमीशन प्रशासनिक के नाम पर मांगा जाता है और प्रमुख दिनेश चौधरी बताते हैं कि पूर्व के मनरेगा पीओ के द्वारा किसी भी कार्य में किसी तरह की कोई कमीशन की बात नहीं की जाती थी. जब से सौरव कुमार सिंह गम्हरिया में पदस्थापना किए हैं, ना तो प्रखंड कार्यालय आते हैं नहीं कमीशन के बगैर किसी का काम करते हैं. सभी पार्षदों का आरोप था कि रोजगार सेवक भ्रष्ट हो चुके हैं. सभी का स्थानान्तरण होना चाहिए और जब तक वरीय पदाधिकारी गम्हरिया नहीं आते हैं और भ्रष्ट पदाधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही नहीं करेंगे तब तक तालाबंदी कार्यक्रम जारी रहेगा.
मौके पर प्रखंड प्रमुख शशि कुमार, उप प्रमुख दिनेश चौधरी, पंसस औराही मिथिलेश कुमार, चिकनी फुलकाहा रामकुमार, पंसस  प्रतिनिधि इटवा जीवछपुर सदानंद कुमार, पंसस प्रतिनिधि बभनी प्रमोद प्रभाकर, पंसस गम्हरिया ममता देवी, पंसस भेलवा राजकुमारी देवी, पंसस कौड़िहार तराबे तरुण कुमार राम आदि मौजूद थे.

जबकि कार्यक्रम पदाधिकारी सौरभ कुमार सिंह कहते हैं कि अभी हम नए अये है और हम को किसी बात की जानकारी नही है और जहाँ तक बात कमीसन की है, हमको इसकी जानकारी नही है. हम सभी जनप्रतिनिधियों के साथ एक बैठक कर रहे हैं.
 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...