23 फ़रवरी 2018

मधेपुरा में भूमि विवाद को लेकर वर्चस्व की लड़ाई में गोली मारकर एक शख्स की हत्या

सभी फोटो: संजय कुमार
मधेपुरा जिले के मुरलीगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत जीतापुर पंचायत के बरियाही गाँव में दिनदहाड़े एक शख्स की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. 


मो. नफील आलम नामक मृतक शख्स अपने बेटे को मोटरसाइकिल पर लेकर मधेपुरा जिला मुख्यालय मैट्रिक की परीक्षा दिलाने जा रहा था. 

बताया कि हत्या से एक माह पूर्व जिले के मुरलीगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत जीतापुर पंचायत के बरियाही गाँव के रहने वाले पवन यादव और प्रिंस यादव नामक अपराधियों ने मृतक शख्स से 01 लाख 70 हजार रूपये हथियार का भय दिखाकर लूट की घटना को अंजाम दिया था, मृतक ने स्थानीय मुरलीगंज थाना में मामला दर्ज करवाया था. लेकिन थानेदार ने अपराधियों पर कार्रवाई के एवज में मांगे थे 20 हजार रुपये की रिश्वत, नहीं देने पर थानेदार ने अपराधियों पर नहीं की थी कोई कार्रवाई. परिजनों ने थानेदार बीडी पंडित पर आरोप लगाया है. परिजनों की मानें तो अगर उस वक्त अपराधी पवन यादव और प्रिंस यादव पर कार्रवाई होती तो आज बे-गुनाह निर्दोष नफील आलम की जान नहीं जाती. 

घटना के बाद आक्रोशित मृतक के परिजन समेत ग्रामीणों ने स्थानीय पुलिस प्रशासन के विरुद्ध सहरसा-पूर्णियां एन एच 107 मुख्य मार्ग को घंटों जाम किया. सड़क जाम के कारण मैट्रिक परीक्षार्थियों समेत आम राहगीरों को घंटों भारी परेशानी उठानी पड़ी. सड़क जाम को लेकर दर-बदर भटकते रहे मैट्रिक परीक्षार्थी. जाँच में जुटी पुलिस मामले की तफ्तीश कर रही है.

बता दें कि आरोप है कि मो. नफील आलम नामक मृतक शख्स की हत्या कर बरियाही के ही पवन यादव और प्रिंस यादव नामक अपराधियों ने आपसी जमीन विवाद के वर्चस्व लड़ाई को लेकर गोली मारकर हत्या कर दी. 

मिली जानकारी के अनुसार गम्हरिया गाँव के रहने वाले मृतक शख्स मो. नफील आलम आज सवेरे 09 बजे के करीब मोटरसाइकिल पर सवार होकर अपने बेटे को मधेपुरा मैट्रिक की परीक्षा दिलाने ले जा रहे थे की पूर्व से घात लगाये बैठे पवन यादव और प्रिंस यादव नामक अपराधी ने नफील को घेरकर गोली मार दी और फरार हो गए. नफील की मौत घटना स्थल पर ही हो गयी. घटना के बाद मृतक के परिजन समेत स्थानीय ग्रामीणों ने मुरलीगंज पुलिस प्रशासन के विरुद्ध सहरसा-पूर्णियां एन एच 107 जामकर कर दिया जिससे मैट्रिक परीक्षार्थी समेत आम राहगीरों को घंटों भारी परेशानी झेलनी पड़ी. घटना की सूचना पाकर मौके वारदात पर पहुंचे एएसपी समेत भारी संख्या में कई थाने की पुलिस भी पहुंची. जहाँ जाँच में जुटी पुलिस ने आक्रोशित लोगों को समझा-बुझाकर काफी मशकत के बाद सड़क जाम हटाया. 

दरअसल लंबे समय से चल रही मो.नफील और वासिल मियां के बीच भूमि विवाद को लेकर ये तीसरी हत्या हुई है. इससे वर्षों पूर्व मो0 वासिल मियां और एक अन्य की भी हत्या हो चुकी है. मृतक के परिजनों की माने  तो एक माह पूर्व बरियाही गाँव के रहने वाले पवन यादव और प्रिंस यादव नामक अपराधी ने मृतक मो०.नफील आलम से हथियार का भय दिखाकर 01 लाख 70 हजार लूट की घटना को अंजाम दिया था और इस मामले को लेकर मुरलीगंज थाना में मामला भी दर्ज हुआ था. लेकिन कार्रवाई के नाम पर थानेदार बीडी पंडित ने 20 हजार रिश्वत की मांग की थी. थानेदार को रिश्वत नहीं देने पर अपराधी के विरुद्ध दर्ज मामले को लेकर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. मृतक के भाई मो०.मस्तान ने थानेदार पर आरोप लगाते हुए बताया कि अगर पूर्व में पवन यादव और प्रिंस यादव नामक अपराधी पर कार्रवाई होती तो मो०.नफील की जान नहीं जाती. 

बहरहाल घटना की जाँच में जुटी पुलिस के अधिकारी मधेपुरा एएसपी दे रहे हैं मुरलीगंज के लापरवाह थानेदार बीडी पंडित पर तत्काल कार्रवाई कर निलंबित करने का भरोसा. उधर मुरलीगंज थानाध्यक्ष बीडी पंडित ने बताया कि मेरे उपर लगा आरोप बे-बुनियाद है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...