02 अप्रैल 2018

मधेपुरा: विदेशी शराब की बड़ी खेप बरामद, एक महिला सहित चार गिरफ्तार


बिहार में पूर्ण शराबबंदी है. इसके बावजूद सूबे में लगातार बड़े पैमाने पर अवैध शराब बरामद होती आ रही है. नया मामला मधेपुरा जिले के पुरैनी  का है जहां पुलिस ने लाखो मूल्य के शराब की एक बड़ी खेप पकड़ने में कामयाबी हासिल की है.  

पुरैनी पुलिस ने शराब कारोबारी के घर छापेमारी कर एक महिला सहित कुल चार को गिरफ्तार किया है.

मिली जानकारी के अनुसार पुरैनी पुलिस ने रविवार की रात्रि में गश्ती के दौरान थाना से महज एक किलोमीटर की दूरी पर गुप्त सूचना के आधार पर मुख्यालय पंचायत के देवी दास टोला निवासी नवल सिंह के घर छापेमारी की तो बडी संख्या में विदेशी शराब की खेप बरामद की एवं साथ साथ उसकी पत्नी और अन्य तीन को गिरफ्तार किया । माना जाता है कि थानाक्षेत्र में शराबबंदी लागू होने के उपरांत शराब बरामदगी में पुरैनी पुलिस द्वारा अबतक का यह सबसे बड़ी सफलता हुई है । थानाध्यक्ष सुनील कुमार भगत के इस कारवाई की थानाक्षेत्र मे जमकर प्रशंसा हो रही है । थानाक्षेत्र में शराब माफिया सक्रिय थे लेकिन पुलिस की पहुँच से दूर थे और प्रशासन को सालो से चकमा देकर शराब कारोबार जमकर कर रहे थे । 

 इस बाबत पुरैनी थाना में शराब की बड़ी खेप की बरामदगी की सूचना पाकर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अरूण कुमार दूबे एवं इंस्पेक्टर मोहम्मद निजामुलहक पुरैनी थाना पहुंचे और प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अरूण कुमार दूबे ने थानाध्यक्ष सुनील कुमार भगत की प्रशंसा की और बताया कि पकड़े लोगों के बारे में पूर्व से ही सूचना मिली थी। ये बार-बार चकमा देकर भाग जाते थे। 

थानाध्यक्ष श्री भगत ने बताया कि देवीदास टोला के नवलकिशोर सिंह के घर से 197 पीस अंग्रेजी और 29 पाऊच महुआ शराब के साथ उसकी पत्नी रेखा देवी, सुदन सिंह, राजेश कुमार और फुलो सिंह को गिरफ्तार किया। बरामद शराब में रायल स्टैग के 750 एम एल के 32 पीस, 375 एम एल के 65 पीस, 180 एम एल के 48 पीस, आफिसर्स च्वाईस के 180 एम एल के 48 पीस, इम्पेरियल ब्लू 375 एम एल के 4 पीस और महुआ शराब के आधा लीटर के 29 पाऊच शराब शामिल हैं। छापेमारी दल में एसआई शत्रुघ्न प्रसाद, एएसआई कामेश्वर प्रसाद सहित पुलिस बल शामिल थे ।

बहरहाल जो भी हो, राज्य में शराब बंदी के दो वर्ष पूरे हो चुके हैं. शराबी और शराब माफिया आए दिन पकड़कर जेल जा रहे है, बावजूद शराब कारोबारी सरकार के इस महत्वाकांक्षी एवं जनसरोकार की मुहिम को ठेंगा दिखाने से बाज नही आ रहे है। आज भी, न तो शराबी शराब पीने से बाज आ रहे हैं,और न ही शराब माफिया शराब बिक्री करने से, चाहे विदेशी शराब हो या देशी या फिर महुआ शराब। तरह-तरह के जुगाड़ टेक्नोलॉजी का प्रयोग कर आज भी शराबी और शराब माफिया चांदी काट रहे है । पुलिस प्रशासन और उत्पाद विभाग तत्परता से कार्य कर रहे पर अबतक पूर्णतः अंकुश नही लग पाना कई सवाल खड़े करते हैं.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...