20 मार्च 2018

मधेपुरा शहर में हुई महेश गोयल की मौत को परिजन बता रहे हैं हत्या

मधेपुरा में केयर इंडिया के डीएमओ महेश कुमार गोयल के परिजनों ने महेश की मौत को आत्महत्या मानने से इंकार करते हुए उसकी हत्या की आशंका जताते हुए पुलिस पर गंभीर आरोप लगाया है ।


मालूम हो कि केयर इंडिया के डीएमओ गोयल का शव स्टेशन चौक के पास एक किराये के कमरे से एक रड से लटकते पुलिस ने रामद किया था. पुलिस को कमरे से आधार कार्ड मिला जिससे  उसके घर का पता मिलने पर घटना की जानकारी दी और शव का पोस्टमार्टम कराया ।
 
मंगलवार को मृतक महेश के परिवार के लोग 3
बजे अपराह्न सीधे सदर अस्पताल पहुचे जहाँ शव रखा गया था । परिवारवालों ने शव और घटना स्थल का फोटो देखकर घटना पर ही सवाल खड़ा कर दिया । मृतक के भाई इंदौर मे आयकर कमिश्नर जीवन गोयल हैं और अब मामला हाई प्रोफाइल हो गया है । मृतक के पिता रमेश चन्द गोयल ने पुत्र द्वारा आत्महत्या करने की घटना से इंकार करते हत्या की आशंका जताहै ।

उन्होने पुलिस पदाधिकारी पर आरोप लगाते हुए कहा पुलिस को इतनी जल्दबाजी क्या थी कि परिवाले के आने से पहले पोस्टमार्टम करा दिया, जबकि घर वालों को पुलिस ने घटना की जानकारी देने पर आने की बात कही गई थी, फिर भी शव का पोस्टमार्टम किया ?

उन्होने कहा कि ऐसा नियम है युवक की पहचान होने पर शव को 72 घंटे तक रखना है फिर
क्या कारण था परिजन के आने से पहले आनन फानन पोस्टमार्टम कराया गया? उन्होंने मेडिकल बोर्ड के जरिये एक बार फिर से शव का पोस्टमार्टम कराने की बात कही है ।
 
उन्होने कहा कि महेश काफी मिलनसार युवक था
,से किसी का कोई विवाद नहीं हुआ है. इधर 5 से 12 मार्च  वह घर पर था और काफी खुश था. परिवारिक दिक्कत नही थी इससे पहले वह दो कम्पनी में काम किया, यह तीसरी थी, जिसमें अच्छी सैलरी थी, तो आत्महत्या का सवाल नही उठता है । उन्होने केस दर्ज करने के सवाल पर कहा कि एसपी से मिलने के बाद आपस में तय करेंगे
 
मृतक के परिवार के लोग और साथ
में आये सहरसा आयकर पदाधिकारी पुलिस पदाधिकारी की उपस्थित मे घटना स्थल पर गये  और लगभग दो घंटे तक कमरे का मुआयना किया. फिर संदीप अग्रवाल  ने प्रेस को ताया कि यह आत्महत्या का मामला नहीं है. जिस खूँटी से मृतक लटका पाया उसका फर्श से 81 इंच है जबकि मृतक की लम्बाई 68 इंच है. ऐसे में कोई आत्महत्या कैसे होगा? साथ ही मृतक के मुँह में झाग आना संदेह दर्शाता है । अगर कोई इसे आत्महत्या कहते हैं तो तो नाटकीय रूपान्तरण कर दिखाया जाय तो घटना पूरी तरह साफ हो जायेगी
 
उन्होने कहा कि मृतक के हाथ पर लाल निशान दिखा है जो घटना के पहले संघर्ष का को दर्शाता है । यह साजिश है
जो हत्या की ओर इशारा करते हैं, हम इसकी सही तरीके से जांच की मांग करते हैं
सुनिए परिजन ने क्या कहा मधेपुरा टाइम्स से, यहाँ क्लिक करें.
(फोटो व वीडियो: मुरारी सिंह)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...