12 अप्रैल 2018

BNMU: मुश्किल में हैं पेंशनभोगी शिक्षकेतर कर्मचारी, अनशन को मजबूर

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार अपनी लंबित मांगों के समर्थन में बी एन मंडल विश्वविद्यालय पेंशनभोगी शिक्षकेतर कर्मचारी समाज द्वारा संयोजक श्रीमंत प्रसाद यादव एवं उत्तम लाल यादव के साथ बुधवार को अनशन प्रारंभ किया गया.

बताया गया कि पेंशनभोगियों को सेवांत लाभ, बकाया पेंशन एवं एसीपी तथा एमएसीपी के आधार पर पेंशन पुनरीक्षण नहीं होने के कारण भुगतान नहीं हो पाया था. कई पेंशनभोगी स्वर्ग सिधार चुके हैं, तो कई बीमार होकर पैसे के अभाव में इलाज नहीं करा पाए हैं, बच्चे अधूरे पढ़ाई को छोड़कर वापस घर बैठे हैं, बेटी की शादी रुक गई है. विवश होकर पेंशनभोगी अनशन पर चले गए. 

हालांकि इसी बीच अनशन स्थल पर कुलपति प्रो डॉ अवध किशोर राय एवं प्रति कुलपति प्रोफेसर डॉक्टर फारुख अली के साथ आकर अनशनकारियों से मिलकर समस्या से अवगत होकर समस्या निदान हेतु 15 दिन का समय मांगा. कुलपति ने आश्वासन दिया कि 22 अंगीभूत कॉलेज के मामले में वर्ष 2000 में सत्यापित पद एवं वेतनमान को आधार मानकर तथा नव अंगीभूत कॉलेज के मामले में माननीय अग्रवाल कमीशन द्वारा 6098/97 में पारित आदेश को आधार मानकर वेतन पुनरीक्षण सभी बकाया का भुगतान हो जाएगा. संयोजक श्रीमंत प्रसाद यादव सुमन ने कुलपति पर अपनी आस्था प्रकट करते हुए कुलपति के अनुरोध पर अपना अनशन समाप्त करने की घोषणा की. 

इस मौके पर उपस्थित बिहार राज्य विश्वविद्यालय एवम महाविद्यालय कर्मचारी महासंघ के प्रक्षेत्रीय अध्यक्ष त्रिभुवन प्रसाद सिंह ने संतोष व्यक्त करते हुए कुलपति को साधुवाद दिया.

मुख्य रूप से धरना स्थल पर शैलेंद्र खां, जितेंद्र नारायण मिश्र, ब्रह्मदेव कामत, विजय कुमार झा, कृष्ण कुमार यादव, शंकर पासवान, हीरालाल यादव, जगदीश महतो, नंदलाल मेहता, राजेंद्र यादव, कालेश्वर मंडल आदि पेंशनभोगी उपस्थित थे.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...