13 अप्रैल 2018

मधेपुरा में 27 साल पुराने खूनी संघर्ष में अब तक आधे दर्जन लोगों ने गँवा दी है जान

मधेपुरा जिले के शंकरपुर थाना क्षेत्र के रायभीर गांव में करीब 27 वर्ष पुरानी रंजिश के कारण करीब आधा दर्जन लोगों ने अपनी जान गँवा दी है. घटना की शुरुआत वर्ष 1992 ई में हुई थी ।
               
मिली जानकारी के अनुसार उस समय सत्यनारायण यादव एवं जनार्दन यादव (जनसेवक) के बीच विवाद शुरू हुआ था। जिसमें सत्यनारायण यादव का बड़ा पुत्र तीर से घायल हो गया। ईलाज के दौरान उसकी मौत गयी थी। इसके बाद दोनों पक्ष में विवाद बढता गया। 2007 में एक पक्ष के पूर्व मुखिया सत्यनारायण यादव की गोली मारकर उनके दरवाजे पर ही हत्या कर दी गई थी । उसके बाद सत्यनारायण यादव के गुट के लोगों ने जनार्दन यादव के गुट के सत्यनारायण पांडेय नामक व्यक्ति की पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी. उसके बाद जब नई पीढी का जब उदय हुआ तो उनलोगों ने कलम छोड़ बंदूक हाथ में ले लिया और इलाके में दहशत मचाना शुरू कर दिया. इसी क्रम में 2014 ई में जनार्दन यादव के इकलौते पौत्र अनुपम कुमार की गोली मारकर निर्मम हत्या कर दी गई । पुनः इसी पक्ष ने जून 2017 में निर्दोष 30 वर्षीय मंटू यादव की दिनदहाड़े घर घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी।

बताते हैं कि इस घटना के बाद प्रशासन के द्वारा तत्काल वहाँ स्थायी पुलिस कैम्प बनने के बाद भी अक्सर शाम होते ही गोली की आवाज से आसमान गूंज उठता है। लोग डरे सहमे अपने घर में  छिपे रहते है। भय के कारण लोग अपना काम भी सूर्य अस्त होने के बाद नहीं कर सकते हैं । इलाके में मजदूर भी मजदूरी नही करना चाहते हैं।

बताया गया कि पिछले वर्ष जिरवा नहर पर कुछ मजदूर पटुआ छुडा रहे थे, तभी प्रमोद यादव के गुट के लोग हथियार से लैस युवक उस होकर गुजर रहे थे. जल्दबाजी में रास्ता नही मिलने पर उन मजदूरों पर भी हमला किया गया, जिसको लेकर शंकरपुर थाना में लिखित आवेदन देकर प्राथमिकी दर्ज करवाई गई थी । पुलिस प्रशासन कागजी खानापूर्ति कर अपराधी को पकड़ने में  असफल रही । करीब दो महीने पूर्व रायभीर हाट पर दोनों गुटों के बीच जमकर गोलीबारी चली जिसमें किसी के हताहत होने की सूचना नहीं मिली ।

कुल मिलाकर 27 वर्ष पुरानी रंजिश अब खानदानी बन गई है और यदि प्रशासन व जनप्रतिनिधियों के द्वारा पहल कर दोनों पक्षों को मनाया नहीं जाता है तो यह खुनी संघर्ष कब विराम लेगा, कहना कठिन है. 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...