13 फ़रवरी 2018

मधेपुरा में एक दल से जुड़े कई युवकों पर अवैध शराब कारोबार में लिप्त होने के आरोप

बिहार में शराब का धंधा जारी है, भले ही सरकार ने शराबबंदी से सम्बंधित कड़े कानून बना दिए हों. पर इसकी सफलता पर अभी भी संशय की स्थिति बनी हुई है. 


यही नहीं, कहा तो यहाँ तक जा रहा है कि शराब माफिया दिन दूनी रात चौगुनी गति से संपत्ति अर्जित कर रहे हैं. शायद यही वजह हो सकती है कि मधेपुरा में पहली बार किसी दल के लोगों के इस काले धंधे में जुड़ने की बात कही जा रही है.

मधेपुरा जिले के मुरलीगंज शराब के अवैध कारोबार के खुलासे में  मुरलीगंज थानाध्यक्ष बी डी पंडित को जब बड़ी सफलता मिली तो इसमें कई और बातें भी खुलकर सामने आने लगी. मुरलीगंज नगर पंचायत के काशीपुर में छापेमारी कर 200 बोतल विदेशी शराब की खेप एक सूखे पड़े नाले से बरामद की गई । थानाध्यक्ष बी डी पंडित ने बताया कि गुप्त सूचना मिली कि शराब की एक बड़ी खेप होली के शुभ अवसर पर बिक्री के लिए लाई गई है। सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष ने त्वरित कार्यवाही करते हुए अपने दल बल के साथ छापेमारी कर विदेशी रॉयल स्टैग 180 एम एल की 200 बोतल बरामद किया।

थानाध्यक्ष ने मधेपुरा टाइम्स को बताया कि शराब माफिया रंजीत मुखिया, पिता गुलाबचंद मुखिया घर नारायणपुर निवासी एवं बजरंग दल से जुड़े आठ-दस लड़कों के द्वारा मुरलीगंज वार्ड नंबर 1 स्थित छोटे से घर से इस कारोबार को अंजाम दिया जा रहा था । हालांकि कारोबारी मौके से फरार होने में सफल रहे । बताया कि सूखे पड़े नाले नाले से चार कार्टून शराब और शराब माफिया रंजीत मुखिया के घर में गढ्ढे खोदकर छुपाये गए शराब को भी बरामद किया गया है । 

थानाध्यक्ष बी डी पंडित ने कहा कि रंजीत मुखिया एवं सभी फरारों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है, जल्द ही उनकी गिरफ्तारी और इस कांड में बड़ा खुलासा किया जाएगा। 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...