28 जनवरी 2018

‘सुन श्याम रे, तेरे ही भरोसे मेरे नाम रे’: श्री श्याम महोत्सव का हुआ भव्य आयोजन

मधेपुरा में शनिवार को जीवन सदन एवं व्यवसायी मंटू शर्राफ के प्रांगण में में भव्य रूप से 12वां श्री श्याम महोत्सव का भव्य आयोजन श्याम सखा संघ, मधेपुरा ने किया। 


कार्यक्रम में देश के प्रसिद्ध भजन गायकों एवं झांकी की टीम ने भाग लिया।

कार्यक्रम में मुख्य कलाकार के रूप में खाटू श्याम की नगरी राजस्थान से आये कई राजस्थानी फिल्मों में बतौर नायक एवं गायक अपनी दमदार प्रस्तुति देने वाले तथा लड्डू गोपाल जैसे फिल्मों के एक्टर एवं डायरेक्टर पप्पू शर्मा ने घंटों श्याम भजन गाकर श्रद्धालुओं को थिरकने पर मजबूर किया। प्रख्यात उद्घोषक पृथ्वीराज यदुवंशी के सञ्चालन में चले कार्यक्रम ने उन्होंने दर्जनों कालजयी भजन गया जिसमें कीर्तन का शौक चढ़ा था अब आदत हो गयी, तेरे चरणों में सावरिया सिल्वर जुबली हो गयी। सांवरिया तेरे नाम पे कुर्बान हो गयी, जब से आप हमसे मेहरबान हो गए। तेरी मुरली की मीठी-मीठी तान रे, मैं तो हो गई कुर्बान रे। साथ ही अपने फिल्म का गीत लड्डू गोपाल मेरा, छोटा सा है लल्ला मेरा जैसे दर्जनों भजन गाकर श्रद्धालुओं की भाव विहोर कर दिया। कार्यक्रम में मेरठ, यूपी से आईं सुबिता तिवारी भी पुरे भजन संध्या में आकर्षक का केंद्र रहीं उन्होंने लब पे तेरा नाम हो, जय-जय श्री राम हो। मौज हो गयी, रोज हो गयी। भक्तों का रखवाला ये मुरलीवाला। होलिया में उड़े रे गुलाल श्याम तेरे मंदिर में समेत दर्जनों भजन गाकर वाहवाही बटोरी। टाटानगर से आये गुलशन बाबरा ने सुन श्याम रे तेरे ही भरोसे मेरे नाम रे। तू कर विश्वास ए प्यारे, सांवरा साथ है प्यारे। श्याम जाने जिगर तूने पहली नज़र, अब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया। कार्यक्रम में विशाल भंडारा वो  श्री खाटू श्याम को 56 प्रकार के व्यंजन से भोग लगाया।

कार्यक्रम में मुख्य रुप से आयोजन समिति के अध्यक्ष आनंद प्राणसुखा के अलावे मनीष शर्राफ, योगेंद्र प्रनसुखा, प्रदीप अग्रवाल, पप्पू सुल्तानियां, संजय जैसवाल उर्फ़ बब्बूजी, हरिश्चंद्र सेठ, राजीव शर्राफ, यिग गुरु डॉ एन के निराला, पारस सोनी, राजेश शर्राफ समेत बड़ी संख्या में महिलाएं एवं अन्य श्रद्धालु उपस्थित रहे।

भावनृत्य की बेहतरीन प्रस्तुति : पूरे कार्यक्रम में भावनृत्य वो आकर्षक झांकी कार्यक्रम में चार चाँद लगा गया। साईं कला नृत्य मंडली, नई दिल्ली से आईं नीता राठौर की टीम ने कई बेहतरीन झांकी वो आकर्षक भाव नृत्य पेश किया। इनके पूरे कार्यक्रम में श्रद्धालु दांत तले अंगुली दबाने पर मजबूर हो गया। नीता राठौर की टीम ने मुख्य रूप से कार्यक्रम के प्रारंभ में गणेश बंदना, राधा-कृष्ण का भाव राश, कृष्ण सुदामा मिलन, बजरंगबली पर आधारित नृत्य, तांडव नृत्य, शंकर-पार्वती मिलन वो विवाह भाव नृत्य, काली माँ का विकराल तांडव नृत्य समेत कई भाव नृत्य वो झांकी प्रस्तुत कर श्रद्धालों का मन मोह लिया। कार्यक्रम में संगत कलाकार के रूप में कोलकाता से गंगा राम एंड पार्टी को बुलाया गया था जिसमे कोंगों पर स्वंय गंगा राम, कीबोर्ड पर मनोज भाई, ढोलक पर सोनू भाई, पंजाबी ढोल पर प्रेम भाई एवं पैड पर आनंद भाई ने संगत किया।

कार्यक्रम में लक्की ड्रा का आयोजन : कार्यक्रम में लक्की ड्रा का आयोजन किया गया जिस्में आज़ाद टोला के प्रवेश कुमार को प्रथम विजेता के रूप में चांदी का बांसुरी, द्वितीय विजेता बने रीचा अग्रवाल जिन्हें चांदी का मोर, तृतीय विजेता पशुपतिनाथ सुल्तानियां के साथ सांत्वना पुरस्कार के रूप में रचना केडिया, श्रवण कुमार, अधिवक्ता रमेश कुमार ठाकुर, व्यवहार न्यायालय के दुर्गा प्रसाद राय, प्रीति शर्राफ, अंकिता कुमारी एवं चार्ली जनप्रिया को सम्मानित किया गया।
(नि. सं.)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...