10 जनवरी 2018

कोरेगाँव में दलितों पर हमले के खिलाफ मधेपुरा में विपक्षी दलों का बड़ा प्रतिरोध मार्च

मधेपुरा जिला मुख्यालय में आज  राजद, जदयू शरद गुट, कांग्रेस, भाकपा, माकपा  एवं बसपा ने संयुक्त रूप से मधेपुरा समाहरणालय पर किया प्रतिरोध मार्च. 


दलित अत्याचार के खिलाफ यह मार्च कला भवन परिसर से निकलकर थाना चौक, मस्जिद चौक, कॉलेज चौक, बस स्टैंड होते समाहरणालय पहुंचा.

 प्रतिरोध मार्च में शामिल विपक्षी पार्टी के कार्यकर्ता ‘मनुवादी भाजपा सरकार होश में आओ’, ‘दलित पर अत्याचार बंद करो’ आदि केंद्र एवं महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. समाहरणालय के मुख्य द्वार पर संघर्ष समिति के संयोजक एवं भाजपा राज्य कार्यकारिणी के सदस्य प्रमोद प्रभाकर की अध्यक्षता में आंदोलनकारी एवं उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए जदयू शरद गुट के नेता पूर्व विधायक परमेश्वरी प्रसाद निराला ने कहा कि भीमा कोरेगांव में दलितों पर अत्याचार साथियों द्वारा प्रायोजित घटना है. यह घटना महाराष्ट्र की भाजपा सरकार के संरक्षण में हुआ. पचास हजार दलितों पर भगवा परचम धारी ने कहर ढाया. 

वहीँ राजद के जिला अध्यक्ष देव किशोर यादव ने कहा कि मनुवादी देश भर में दलितों और पीड़ितों पर दमन की कार्रवाई को अंजाम दे रहे हैं.  दादरी, सोलापुर, सहारनपुर, मुजफ्फरपुर, मेरठ और भीमा कोरेगांव में दलितों पर अत्याचार के आखिर कौन जिम्मेवार हैं? राजद के प्रदेश महासचिव इंजीनियर प्रभास ने कहा कि सरकार कांग्रेस मुक्त, कम्युनिस्ट मुक्त, मुस्लिम मुक्त और दलित मुक्त भारत बनाना चाहती है. इन्हें मालूम नहीं कि अगर हिंदू धर्म जिंदा है तो दलितों के कारण. दलित अगर समझ लिया तो इन संधियों को खैर नहीं. कांग्रेस के जिला अध्यक्ष सत्येंद्र सिंह यादव ने कहा कि 1927 में बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने मनुस्मृति की होली जलाया था. अब इन मनुवादियों द्वारा रोज भारतीय संविधान को दहन किया जा रहा है.

 इस मौके पर जयप्रकाश यादव, विजेंद्र यादव, तेज नारायण यादव, डॉ विजय, गजेंद्र राव, अभिनंदन यादव, सुनीला देवी, दीप नारायण यादव, नागेश्वर यादव, भोला यादव, विनय कुमार, डॉ अरुण कुमार, पारो यादव, सूर्यनारायण यादव,  पन्नालाल, अनिल सिंह, बालेश्वर कुमार,  पवन कुमार यादव, रामू यादव, अखिलेश कुमार एवं सैंकड़ों कार्यकर्ता  मौजूद थे.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...