09 जनवरी 2018

सुविधाओं का अभाव: आन्दोलन की तैयारी में बी पी मंडल इंजीनियरिंग कॉलेज मधेपुरा के छात्र

बी पी मंडल इंजीनियरिंग कॉलेज, मधेपुरा के बदहाली को लेकर तकनीकी छात्र संगठन आगे आया है. संगठन के प्रदेश मीडिया प्रभारी सनी कुमार का कहना है कि बी पी मंडल इंजीनियरिंग कॉलेज के विकास में ग्रहण लगा हुआ है।


कॉलेज में मूलभूत सुविधाओं का भारी अभाव है। कॉलेज में इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे गुणवत्तापूर्ण शिक्षक, लैब, लैब इंस्ट्रक्टर, लाइब्रेरी में योग्य पुस्तकें, ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल, वाई-फाई, कैंटीनहॉस्टल, चिकित्सा विभाग की कोई सुविधा नहीं है| कॉलेज की  छात्र एवं छात्राओं का कहना है कि छात्रावास  की सुविधा नही होने से  बहुत ही ज्यादा दिक्कतें हो रही है ।
तकनीकी छात्र संगठन कोशी-क्षेत्रीय प्रभारी दयानंद दिलजीत ने कहा कि मुख्यमंत्री के सात निश्चय के तहत सभी कॉलेजों में वाई-फाई लगना था मगर अभी तक कॉलेज  में वाई -फाई की सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाया है। एक तकनीकी कॉलेज में वाई-फाई की सुविधा नहीं होना बहुत ही चिंता का विषय है।

संगठन के मीडिया प्रभारी सन्नी कुमार ने कहा कि  कॉलेज में लगभग  250 छात्र - छात्राओं का नामांकन प्रत्येक वर्ष होता है, नामांकन के वक्त छात्रों से  विभिन्न मदों में अच्छा खासा पैसा लिया जा रहा है मगर सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं. विभिन्न मदों जैसे डेवलपमेंट के नाम पर लगभग 20 लाख रुपये, मेडिकल इंश्योरेंस के नाम पर 2 लाख 50 हजार रुपये, सोसाइटी एवं क्लब के नाम पर 10 लाख  हजार, कॉलेज मैगजीन के नाम पर 75 हजार रुपये, ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट के नाम पर 3 लाख 75 हजार रुपये,स्टूडेंट इंस्ट्रक्टिव  फंड के नाम पर 2 लाख 50 हजार रुपये,आईडी -कार्ड सिलेबस लाइब्रेरी -कार्ड के नाम पर एक लाख 25 हजार रुपये, सेमिनार एवं पर्सनालिटी डेवलपमेंट के नाम पर 2 लाख 50 हजार रुपए, एलुमिनी फंड के नाम पर 2 लाख 50 हजार रुपये, बागवानी एवं साफ सफाई के नाम पर 2 लाख 50 हजार रुपए, कॉलेज एनुअल फंक्शन के नाम पर 6 लाख 25 हजार रुपये, कंप्यूटर -मशीन के मेंटेनेंस के नाम पर 5 लाख रुपये एवं खेलकूद के नाम पर 2 लाख 50 हजार रुपये वर्ष 2017 में छात्रों से लिया गया । काॅलेज की स्थिति जस की तस बनी हुई है ।तकनीकी छात्र संगठन के प्रदेश प्रवक्ता आदित्य प्रताप सिंह ने कहा की इन सभी समस्याओं को लेकर विज्ञान एवं  प्रौद्योगिकी विभाग को पत्र लिखा जाएगा। 

प्रदेश अध्यक्ष मो0 गुलफराज़ ने कहा कि फिर भी अगर एक महीने के अंदर इन सभी समस्याओं का समाधान नहीं होता है तो बीटेक प्रथम एवं तृतीय सेमेस्टर के परीक्षा के बाद फरवरी माह में व्यापक आंदोलन होगा इसके जिम्मेवार कॉलेज के प्राचार्य एवं विभाग होंगे।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...