21 दिसंबर 2017

तनाव: बंद के दौरान बंद समर्थक और जदयू समर्थक आमने-सामने (देखें वीडियो)

मधेपुरा में राजद के बिहार बंद के दौरन बंद समर्थक द्वारा एक चाय दुकानदार के दुकान की तोड़फोड़ करने और सामान को फेंकने के बाद दुकानदार के समर्थन में जदयू समर्थकों के आने से स्थिति कई घंटों के लिए तरह तनावपूर्ण हो गई.  

लेकिन मौके पुलिस बल के पहुंचने पर बंद समर्थक और जद यू समर्थक के बीच घंटो आरोप-प्रत्यारोप के बाद मामला शांत हुआ ।
राजद के प्रस्तावित बिहार बंद को लेकर आज सुबह से ही बंद समर्थकों ने जिला मुख्यालय में सिंहेश्वर जाने वाली सड़क, मुरलीगंज व उदाकिसशुनगंज जाने वाली सड़क, बस स्टैंड के पास, सहरसा जाने वाली सड़क कर्पूरी चौक को जाम कर दिया. दर्जनों मोटरसायकिल पर सवार होकर बंद समर्थकों ने शहर के दवाईयों की दुकान को छोड़कर बाकी दुकानों को बंद करा दिया और सड़क पर धूमधूम कर खुली दुकान को बंद कराते दिखे .
इसी दौरान मधेपुरा शहर के सेन्ट्रल बैंक के पास एक चाय दुकानदार दुकान खोल कर चाय बेच रहे थे कि बंद समर्थक ने उनकी दूकान को क्षतिग्रस्त कर उनके सामानों को फेंक दिया. घटना की खबर दुकानदार के मुहल्ला जयपालपट्टी मे आग की तरह फैली और फिर दुकानदार के सैकड़ो समर्थक घटना स्थल पहुंचे और बंद राजद समर्थक के खिलाफ नारेबाजी करते नीतीश, नरेन्द्र मोदी और पप्पू यादव जिन्दाबाद का नारा लगाना शुरू कर दिया. इतना ही नहीं जदयू नेत्री गुड्डी देवी के  बंद समर्थक के सुप्रीमो के विरूद्ध आपत्तिजनक नारेबाजी के बाद राजद और जद यू समर्थक आमने सामने हो गये. स्थिति तनावपूर्ण हो जाने पर जद यू समर्थकों ने राजद समर्थक के मोटरसायकिल जूलूस को आगे जाने से रोक दिया. दोनो दलों के समर्थकों के बीच काफी देर तक विरोध का सिलसिला चलता रहा

घटना की सूचना मिलते ही भारी संख्याँ में पुलिस पदाधिकारी, कमांडो और पुलिस के जवान मौके पर पहुंचे और दोनो पक्ष को समझा बुझाकर मामला शांत किया ।

 
हालांकि कड़ी सुरक्षा के बीच राजद का बिहार बंद मधेपुरा में सफल रहा. छिटपुट घटना के बीच कहीं से किसी बड़ी घटना की खबर नहीं है. बंद को लेकर जिले के आलाधिकारी पूरी स्थिति पर नजर बनाए हुए थे और हर पल स्थिति का जायजा लेते रहे ।

बंद को लेकर जिला मुख्यालय में पुलिस काफी चौकस दिखी. शहर में सड़कों पर सुबह से पुलिस गश्त जारी रही और सुरक्षा के मद्देनजर शहर के विभिन्न चौक चौराहों पर दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल तैनात कर दिया गया था. सदर थानाध्यक्ष के बी सिंह सहित अन्य पुलिस पदाधिकारी के साथ कमांडो दस्ता बंद के दौरान शहर घूमते रहे. दूसरी ओर बंद समर्थकों द्वारा शहर के मुख्य सड़क जाम रखने के कारण आम लोगों को भारी परेशानी हुई. इतना ही सदर अस्पताल से रेफर रोगियों को सहरसा ले जा रहे एम्बुलेंस को भारी मशक्कत के बीच किसी तरह पश्चिम बाइपास से ले जाने को विवश होना पड़ा ।

 (बंद से लेकर झड़प तक की वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.
(वीडियो: मुरारी सिंह)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...