30 दिसंबर 2017

संजय दास हत्याकांड के मुख्य आरोपी मुखिया की हो जल्द गिरफ्तारी: वाम दलों का आक्रोश मार्च

मधेपुरा जिला मुख्यालय के समाहरणालय गेट पर सीपीआई, सीपीएम तथा भाकपा-माले के द्वारा आक्रोश मार्च निकालकर प्रदर्शन किया गया.

सभा की अध्यक्षता करते भाकपा माले के जिला संयोजक रामचंद्र दास ने कहा कि पूरे बिहार में दलित गरीब कमजोर पर जुल्म बढ़ा है.

कहा कि जनप्रतिनिधि भी सुरक्षित नहीं है. मुरलीगंज प्रखंड के परवा नवटोल  के उप मुखिया संजय दास महा दलित वर्ग के युवा थे और प्रतिभावान व्यक्ति थे जिनकी 11 दिसंबर को निर्मम हत्या कर दी गई. पीड़ित परिवार को अभी तक कोई सरकारी मदद नहीं मिली है. संजय हत्याकांड संख्या 374/17 के अनुसंधानकर्ता की कार्यशैली संदिग्ध है. 18 दिनों के बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट दिया गया इसे क्या कहेंगे. मुख्य आरोपी परवा नवटोल के मुखिया की गिरफ्तारी जल्द हो और मामला त्वरित न्यायालय से जल्द निपटाया जाए. संजय के परिजनों को 10 लाख मुआवजा, विधवा को ₹5200 मासिक पेंशन एवं जान माल की सुरक्षा तथा बच्चों की पढ़ाई का सरकारी बंदोबस्त किया जाए. मधेपुरा को अपराध मुक्त किया जाए.

वहीँ जिला मंत्री विद्यासागर मुखिया ने जिले में बढ़ रहे अपराध पर चिंता व्यक्त किया और अपराध पर नियंत्रण की मांग की. उन्होंने साथी संजय दास के हत्यारे को गिरफ्तारी की बात की. इस मौके पर गणेश मानव, शंभू क्रांति, सीताराम रजक, गजेंद्र कुमार, डॉ. शंभू कुमार, भजन दास, राज कुमार दास, राजेंद्र दास, मक्खन दास, ओमप्रकाश दास, नितिन कुमार, बेचन दास, शिवम दास, संजय मंडल, राजीव कुमार, सुनीता देवी, मंजू देवी, संगीता देवी आदि मौजूद थे.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...