12 दिसंबर 2017

मधेपुरा: पड़वा नवटोल के उप मुखिया की नृशंस हत्या के विरोध में एनएच 107 जाम

मधेपुरा जिले के मुरलीगंज प्रखंड अंतर्गत  पड़वा नवटोल पंचायत के उप मुखिया संजय दास पिता - श्री उमेश दास  नवटोल वार्ड नं.-07 की किसी ने तेज धारदार हथियार से सोमवार को उस समय हत्या कर दी जब वे पड़वा नवटोल चौक से शाम सात बजे मोटर साइकिल चलाते हुए वापस घर लौट रहे थे.

मिली जानकारी के अनुसार मोटरसाइकिल पर तीन व्यक्ति सवार थे और संजय खुद चला रहे थे. जबकि सबसे पीछे चंदन दास और बीच में सिन्टु कुमार बैठे हुए थे. पगडंडी पर पर गाड़ी चलाते हुए जैसे ही एनएच 107 से उतरकर उत्तर की ओर 200 कदम आगे बढे होंगे कि वहीँ बांस बिट्टी के पास पहले से घात लगाए अपराधियों ने संजय की हत्या कर दी  । हत्या की सूचना मिलते ही मौके पर मुरलीगंज थानाध्यक्ष  बी डी पडित एवं ए एस पी राजेश कुमार घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की तफ्तीश शुरू की और लाश को पंचनामे के बाद पोस्टमार्टम के लिए मधेपुरा भेज दिया गया. 

आज मंगलवार को मृतक संजय की लाश को लेकर उनके परिजनों ने तथा ग्रामीणों के सहयोग से एनएच 107 को दिन के 9:00 बजे से लेकर के 2:00 बजे तक जाम रखा. जाम में दिन के 2:00 बजे प्रखंड विकास पदाधिकारी ललन कुमार चौधरी एवं मुरलीगंज थाना अध्यक्ष बीडी पंडित ने पहुंचकर अपराधियों की जल्द गिरफ्तारी का आश्वासन दिया और साथ में मृतक को समुचित आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाने के आश्वासन पर जाम खुल सका और ग्रामीण लाश को उठाकर दाह संस्कार के लिए ले गए.

जबकि दूसरी तरफ मृतक उपमुखिया की हत्या पर कोई भी कुछ बताने से इंकार कर रहे हैं .परिजनों की मानसिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है क्योंकि संजय मात्र एक कमाऊ पुत्र था जो पिछले 2 पंचवर्षीय में वार्ड सदस्य के रूप में  निर्वाचित हुआ और एक बार उसकी पत्नी नीलम देवी वार्ड सदस्य बनी थी जबकि इस बार वह स्वयं  वार्ड सदस्य था.

मृतक के साथ मोटरसाइकिल पर सबसे पीछे बैठे चंदन दास ने बताया कि बस बिट्टी के पास कुछ अपराधी पहले से घात लगाकर बैठे थे. जब संजय गाड़ी चलाते हुए वहां पहुंचा क्योंकि वह पगडंडी थी और गाड़ी बहुत ही धीरे जा रही थी तो किसी ने मेरे पीठ पर चाटा मारा तो मैंने पीछे पलटा और संजय की गाड़ी असंतुलित होकर लड़खड़ा गई. तब 3 की संख्या में मौजूद अपराधियों ने गाड़ी के साथ गिरे संजय पर हमला कर दिया. हम लोग अपनी जान बचाकर भाग खड़े हुए और लोगों ने तब चिल्लाना शुरु किया. संजय का एक बड़ा भाई है और एक छोटा भाई भी है. छोटा भाई कैंसर का मरीज बना है जिसका इलाज संजय पिछले 4 वर्षों से दिल्ली के एम्स से करवा रहा था. अब उसका भाई रोगग्रस्त मंजेय ने बताया कि अब उसका ऊपर वाला ही मालिक है.

वहीँ मुरलीगंज राजद के प्रखंड अध्यक्ष जामा स्थल पर मौजूद रुद्र नारायण यादव ने इस हत्या को राजनीतिक हत्या और पूर्वनियोजित हत्या की साजिश की कड़ी निंदा की और कहा कि पुलिस और प्रशासन जल्द से जल्द हत्यारे को गिरफ्तार करें और स्पीड ट्रायल चलाकर दोषी एवं साजिशकर्ता को सजा दे उन्होंने बिहार सरकार को आड़े हाथ में लेते हुए कहा कि कहाँ गया उनका सुशासन? प्रदेश में प्रत्येक दिन दर्जनों हत्या हो रही है.

प्रखंड संघर्ष समिति मुरलीगंज के संयोजक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि मृतक उप मुखिया मनरेगा के कार्य को बखूबी अंजाम देता था. वह एक स्वच्छ छवि का व्यक्ति था और मनरेगा में मजदूरों के उचित मजदूरी दिलवाकर काम करवाया करता था. साजिश के तहत इसकी हत्या की गई है. हत्या की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए तथा दोषियों एवं साजिशकर्ताओं को प्रशासन जल्द से जल्द बेनकाब कर सजा दिलवाने का काम करें.

 मुरलीगंज प्रखंड वार्ड सदस्य संघ के प्रमुख जीवन कुमार ने बताया कि हम प्रखंड के सभी वार्ड सदस्य की ओर से सरकार एवं स्थानीय पुलिस प्रशासन से अनुरोध करते हैं कि बड़ी साजिश का खुलासा जल्द से जल्द कर दोषियों पर न्यायसंगत कार्रवाई तथा जिले में बढ़ रही अपराध की घटनाओं पर जल्द से जल्द अंकुश लगाया जाए।

एनएच 107 पर मृतक उप मुखिया संजय के पत्नी तीन छोटे-छोटे बच्चे और एक लड़की और पत्नी नीलम देवी बिलख-बिलख कर सबके सामने रो रही थी. उन्होंने हत्या की वजह बताने से इंकार किया सिर्फ अपने भविष्य और बच्चों के भविष्य के बारे में सोचकर बदहवास रोए जा रही थी. 

जाम स्थाल पर मौजूद ग्रामीणों के बीच हत्या को लेकर के तरह तरह की बातें सभी की जुबान से कही जा रही थी. इस हत्याकांड  के पीछे गहरी चाल बता रहे थे. उनका इशारा पंचायत की योजनाओं में मनमर्जी नहीं होने देने के कारण हत्या की बड़ी वजह माना जा रहा है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...