11 दिसंबर 2017

अपहरण के दो मामले फिर झूठे, दोनों निकले प्रेम प्रसंग में अंतरजातीय विवाह के


जिले में लड़कियों के अपहरण की अधिकाँश बातें झूठी निकल रही है और पुलिस के द्वारा जब उनकी बरामदगी की जाती है तो अधिकांश मामले प्रेम-प्रसंग में उनके घर से भाग जाने के होते हैं. 

मधेपुरा जिले की शंकरपुर थाना पुलिस ने दो अलग-अलग जगहों से दो अपहृता युवतियों को बरामद किया तो कथित अपहृता दोनों युवतियों ने अपहरण की घटना से इंकार करते हुए अपनी मर्जी से अन्तरजातीय  प्रेम विवाह करने  की बात कही है।

मधेपुरा सदर थाना में आज सोमवार को एएसपी राजेश कुमार ने पत्रकार सम्मेलन आयोजित कर जानकारी दी कि एक घटना 27 जून 2017 की शंकरपुर थाना के कजरा गांव की है जहाँ अपहृता के पिता ने शंकरपुर थाना मे आवेदन देकर आरोप लगाया था कि मेरी नाबालिग पुत्री का अपहरण गांव के ही युवक साजन ऋषिदेव ने कर लिया है. जबकि दूसरी घटना 12 नवंबर 2017 को  शंकरपुर थाना क्षेत्र के मघेली गांव की है जहां अपहृता के पिता ने थाना मे आवेदन देकर कहा कि मेरी नाबालिग बेटी का बेगूसराय जिले के साहेबपुर कमाल थाना के चौकी गांव वार्ड 3के सोनू कुमार नामक युवक अपहरण कर लिया है ।
 
मधेपुरा के एएसपी श्री कुमार ने बताया कि दोनो घटना को एसपी विकास कुमार ने गम्भीरता से लेते हुए दो अलगअलग टीका गठन किया. एक टीम का साहेबपुर पुअनि बिन्देश्वर राम को तथा दूसरे टीम की जिम्मेवारी राज कुमार साह को दी गई
 
टीम ने आरोपी के कई सम्भावित
ठिकानों पर छापेमारी की तो एक अपहरणकर्ता साजन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जो पिछले छह माह से जेल में है. लेकिन अपहृता बरामद नहीं हुई थी.  दूसरे मामले में अपहरणकर्ता के मोबाइल को खंगालने पर पता चला कि आरोपी  सोनू का लोकेशन उसके घर बेगूसराय का है. पुलिस टीम सोनू के गांव चौकी में छापेमारी की लेकिन न तो अपहृता और न अपहरणकर्ता हाथ आया. आखिरकार सोनू के पिता को प्राथमिकी अभियुक्त के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया ।
 
पर इसके बाद टीम को सूचना मिली कि एक अपहृता सुपौल जिले के पीपरा में रविवार को देखी गई है. तत्काल सअनि श्री साह ने पुलिस बल के साथ पीपरा से अपहृता को रामद किया जबकि दूसरे को गुप्त सूचना के आधार पर पुअनिस श्री राम ने कोर्ट के बाहर बरामद कर लिया ।
 
कहा कि दोनो अपहृता  एक विशेष समुदाय के हैं और दोनो का न्यायालय मे 164 द.प्र.सं. के तहत बयान कराया जा रहा है। पीपरा से बरामद अपहर्ता ने कहा कि मेरी उम्र 19 वर्ष है और मैं बालिग हूँ. साजन से एक ईंट भट्टा काम करने के दौरान प्रेम हो गया और सिंहेश्वर मंदिर मे शादी कर ली है. अपहरण का आरोप गलत है ।
 
कोर्ट परिसर के आगे से बरामद अपहर्ता ने बताया कि मै इंटर की  छात्रा हूँ और मेरी उम्र 20 वर्ष है. सोनू से प्रेम करती थी. अपनी मर्जी से सोनू के साथ गई और बेगूसराय के काली मंदिर मे शादी की है । दोनों ने अपहरण की घटना से इंकार किया और कहा कि हम अपने पति के साथ ही रहेंगे. 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...