02 दिसंबर 2017

पत्रकार पर हमले के मामले में FIR दर्ज, आरोपी पर कड़ी करवाई की जरूरत

सरकारी योजनाओं में सही ढंग से काम नहीं करने और सवाल पूछने पर संवेदक उया उनके लोगों के द्वारा मीडियाकर्मी पर हमला करना साफ़ दर्शाता है कि योजनाओं की लूट में कोई दखलंदाजी उन्हें बर्दास्त नहीं.


मधेपुरा जिले के मुरलीगंज प्रखंड के रजनी मिलिक टोला वार्ड नं. 16 में एक चबूतरा निर्माण के गलत मैटेरियल के प्रयोग की जानकारी मिलने पर वहाँ कवरेज करने पहुंचे पत्रकार रणजीत कुमार सुमन के साथ मनटन कुमार, पिता- बेचो सिंह, साकिन- रजनी मिलिक टोला, वार्ड नं. 16 के द्वारा पत्रकार का मोबाइल फोड़कर उसपर कुदाल से मारने के प्रयास के मामले में भले मुरलीगंज पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर ली हो, पर इससे ऐसी समस्या का समाधान शायद ही हो.

एक तो जिले भर में सरकारी योजनाओं के तहत होने वाले अधिकाँश कार्यों में स्थल पर विवरण सम्बन्धी बोर्ड नहीं लगाने के साथ ही घटिया मैटेरियल का प्रयोग निर्बाध जारी है. संवेदकों की लूट के किस्से नए नहीं हैं. जनता के लिए कराये जा रहे कार्यों की गुणवत्ता का धराशायी होना दुखद है और इसमें शामिल लोग सिर्फ जिले ही नहीं, सूबे के विकास के लिए कलंक है. मीडियाकर्मियों द्वारा मुद्दे उठाने की कोशिश करने पर उनकी आवाज दबाने वालों के खिलाफ प्रशासन की कड़ी कार्रवाई की जरूरत है ताकि लोगों को ये नहीं लगे कि पूरे मामले में उनकी भी मिलीभगत होती है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...