05 अक्तूबर 2017

भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय में अभिषद् की बैठक में लिए गये कई निर्णय

बी. एन. मंडल विश्वविद्यालय की अभिषद् की बैठक कुलपति प्रोफेसर डॉ. अवध किशोर राय की अध्यक्षता में  गुरुवार को पूर्वाह्न 11 बजे से संपन्न हुई। इसमें गत बैठक में लिए गये निर्णयों की संपुष्टि सहित अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की गयी।


कुलपति ने  उनके कार्यकाल में पहली बार बैठक में आए विधायक नीरज कुमार बबलू का अंगवस्त्र एवं पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया गया। कुलसचिव डॉ के पी सिंह  ने बैठक का कार्यवृत और उसमें लिए गये निर्णय के अनुपालन का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।
ज्ञातव्य है कि वर्तमान कुलपति के कार्यकाल में अभिषद् की यह दूसरी बैठक थी। अभिषद् की पिछली बैठक गत 4 सितम्बर को ठीक एक माह पहले हुई थी। बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये ।

रजत जयंती समारोह के लिए समिति गठित: विश्वविश्वविद्यालय का रजत जयंती समारोह धूमधाम से मनाया जाएगा। इसके आयोजन हेतु एक उच्चस्तरीय समिति का गठन किया गया है। प्रतिकुलपति प्रोफेसर डॉ. फारूक अली इसके अध्यक्ष होंगे। इसके अन्य सदस्य हैं- वित्त पदाधिकारी सी. के. डीगवाल, विश्वविद्यालय अभियंता उमेश कुमार, सामाजिक विज्ञान संकायाध्यक्ष डॉ. शिवमुनि यादव एवं सीनेट सदस्य डॉ. नरेश कुमार बनाये गये ।

अनुमानित बजट प्रस्तुत: विश्वविश्वविद्यालय के 2018-19 का अनुमानित बजट प्रस्तुत किया गया। इसमें व्यय 13 अरब 25 करोड़ 71 लाख 13 हजार 987 रू एवं आय 2 अरब 84 करोड़ 80 लाख 3 हजार 801 दिखाया गया है। सरकार से 10 अरब 40 करोड़ 91 लाख 10 हजार 187 रू की माँग की गयी है।

पेंशन भुगतान को प्राथमिकता: सदस्यों के प्रश्नों के जवाब में कुलपति ने कहा कि सभी सेवानिवृत्त शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है। इस हेतु गत दिनों पहली बार पेंशन अदालत का आयोजन किया गया। अदालत में कुल 253 मामले आए थे। इनमें से कुल 160 मामलों पर सुनवाई हुई।

पेंशन एरियर के प्रायः सभी  मामलों पर विचार करते हुए भुगतान का आदेश प्रदान किया गया। अगली अदालत में सभी एरियर वालों को चेक प्रदान किया जाएगा। अन्य सभी मामलों के भी त्वरित निष्पादन के निर्देश दिये गये हैं। इसे तीन चरण में  बांट कर पूरा किया जाएगा। सर्वप्रथम वर्ष 2000 तक, दूसरा 2001-2007 तक और फिर 2008 से अब तक। इसमें भी बीमारी, लड़की की शादी आदि से संबंधित मामलों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। 

कुलपति ने कहा कि वे विश्वविद्यालय स्तर से पेंशन हेतु राशि की व्यवस्था कर रहे हैं। साथ ही सरकार से भी आवश्यक राशि की मांग की गयी है। यदि सब कुछ सामान्य रहा तो मार्च 2018 तक सभी बकाया पेंशन का भुगतान कर दिया जाएगा।

बैठक में प्रतिकुलपति प्रोफेसर डॉ. फारूक अली, डीएसडब्लू डॉ. अनिल कान्त मिश्र, कुलानुशासक डॉ.अरविंद कुमार, कुलसचिव डॉ. कुमारेश प्रसाद सिंह, विधायक अनिरूद्ध  प्रसाद यादव, विधायक नीरज कुमार सिंह 'बबलू', डॉ. जवाहर झा, डॉ. अरूण मिश्र, डॉ. जवाहर पासवान, डॉ. शब्बीर हुसैन, डॉ. अजय कुमार, डॉ. कल्पना मिश्रा, मो. एम. जेड. आलम  आदि उपस्थित थे।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...