29 अक्तूबर 2017

...और फ़िर मधेपुरा में फर्जी डॉक्टर का निवाला बनी कंचन


मधेपुरा शहर में सदर अस्पताल, मिशन अस्पताल और दर्जनों अन्य निजी क्लिनिक हैं । लेकिन बावजूद स्थानीय सांसद के लगातार विरोध के यहाँ फर्जी डॉक्टर के नाम पर क्लिनिक खोल कर निरीह ग्रामीणों रोगियों का खून निचोड़ कर मारने का धँधा जारी है । 


कानून कॊ ताक पर रख कर यह सब यहाँ चल रहा है प्रशासन कभी कभार बस कागजी खाना पूर्ति कर चुप लगा जाती है। 

बहरहाल जिले के मधुवन गम्हरीया गाँव की कंचन गर्भवती थी और उनके परिजन बताते हैं कि  छठ से पूर्व कदुआ -भात के दिन कंचन देवी कॊ प्रसव पीड़ा हुई तो उसे मधेपुरा लाया गया और फ़िर दलालों के चक्कर में फँस कर उसे सुखासन रोड स्थित एक फर्जी क्लिनिक में पहुँचा दिया गया ।परिजन बताते हैं कि पहले 25 हजार रुपये और फ़िर खून चढ़ाने के नाम पर सोलह हजार रुपये लिये गये । इस बीच उसे एक पुत्र भी हुआ और शनिवार कॊ जब वह मर गयी तो उसके परिजन कॊ लाश लेकर जाने कहा गया लेकिन परिजनों ने ना नुकुर की तो उन्हें मारपीट कर भगा दिया गया । फ़िर भीड़ जुटी । प्रशासन तक ख़बर गयी । सड़क जाम हुआ तो पुलिस बल आई और फ़िर बीच सड़क पर लाश के साथ सोये उनके परिजनों कॊ हटाने के लिये खूब किचकिच भी हुई । पूर्व मंत्री सह स्थानीय विधायक प्रो चंद्र शेखर आये । उन्होने नीतीश राज़ में पूरे राज्य में  चल रहे इन फर्जी क्लीनिकों कॊ बंद कर इन पर प्राथमिकी दर्ज करने और मृतक के परिजनों कॊ बीस लाख रुपये मुआवजा देने की माँग की । मौके पर ही उन्होने एस पी और डी  एम से मोबाइल पर बात कर फौरन कारवाई की माँग की ।

स्थानीय मुहल्ले वाले बताते हैं कि  यहाँ आये दिन ऐसी घटना होती है और फ़िर मैनेज हो जाता है । ज्योँहि हल्ला गुल्ला हुआ डॉ एस के चौधरी लिखा हुआ बोर्ड क्लिनिक वालों ने हटा दिया । कंचन के परिजन बताते हैं कि ??? यहाँ कभी किसी डाक्टर कॊ नही देखा इलाज और ऑपरेशन तक एक कम्पाउंडर और एक नर्स करते हैं । मृत कंचन के परिजन बताते हैं कि उनका डाक्टरी पुर्जा और मोबाइल भी क्लिनिक वालों ने छीन लिया । घटना स्थल पर कथित क्लिनिक माँ भवानी सेवा सदन का नाम एक घर के ऊपर लिखा देखा गया ।

डी एम के निर्देश पर एस डी ओ ने घटना स्थल पर पहुँच कर उक्त क्लिनिक कॊ सील कर दिया है ।लाश कॊ पोस्ट मोर्टम के लिये सदर अस्पताल भेज दिया गया है । पड़ोस के लोग बताते हैं कि सुदर्शन नामक एक कम्पाउंडर ही यह क्लिनिक चला रहा था । लेकिन अब यह देखना है कि कितने फर्जी क्लीनिकों कॊ सील कर पाती है ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...