18 सितंबर 2017

सर्पदंश के बाद इलाज के दौरान महिला की मौत के बाद अस्पताल में जमकर तोड़फोड़

मधेपुरा जिले के आलमनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में सर्पदंश के बाद इलाज कराने आयी 32 वर्षीय महिला की मौत इलाज के दौरान हो जाने के बाद मृतिका के परिजनों ने अस्पताल परिसर में रविवार की रात्रि तोड़-फोड़ करते हुए जमकर बबाल काटा.
                     
वहीं आक्रोशित परिजनों ने स्वास्थ्यकर्मी अशोक कुमार के साथ भी मारपीट किया. किसी तरह स्वास्थ्यकर्मी अशोक कुमार वहां से अपनी जान बचाकर भागने में सफल रहे. हंगामा कर रहे परिजनों के उग्र तेवर से स्वास्थ्य केन्द्र के सभी कर्मी भाग खड़े हुए. पुलिस द्वारा हंगामा कर रहे परिजनों को शांत किया गया. इस घटना के बाबत आलमनगर थाना क्षेत्र के भागीपुर पंचायत के वार्ड नं०-7 के मृतिका मुमताज खातुन के भाई उल्फत ने बताया कि फूस के घर में छप्पड़ से बीड़ी निकालने के दौरान कोई विषैला जीव काट लिया था. हम लोग यह नहीं देख पाये थे कि वह सांप था. जब तबियत बिगड़ते देखा तो उसे अस्पताल लाया. जहां एक भी डाक्टर मौजूद नहीं था तो कंपाउन्डर के द्वारा पानी चढ़ाया जाने लगा. हम लोगों के द्वारा बार-बार यह कहने पर की इसे सांप काटने वाला सूई पहले दिया जाए तो कोई भी सुन ही नहीं रहा था. 15 मिनट के बाद मेरी बहन की मौत हो गयी. मौत की खबर सुनते ही मृतक के दर्जनों परिजन स्वास्थ्य केन्द्र में जमकर तोड़-फोड़ करने लगे.

घटना की सूचना मिलते ही प्रखंड विकास पदाधिकारी मिन्हाज अहमद, सीओ आलमनगर विकास सिंह, सामुदायिक स्वस्थ्य केन्द्र पहुंच कर समझा बुझा कर मामले को शांत कराया. इस बाबत प्रखंड विकास पदाधिकारी ने बताया कि जब हम लोग अस्पताल पहुंचे तो एक भी डॉक्टर नहीं था. वहीं आक्रोशीत लोगों द्वारा अस्पताल परिसर में तोड़-फोड़ और मारपीट की बात भी सामने आयी है. इस सब की रिर्पोट जिला पदाधिकारी को भेजी जा रही है.

वहीं थानाध्यक्ष सुनील कुमार ने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु मधेपुरा भेज दिया गया है. वहीं प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी बी.के.वर्मा ने बताया कि उस समय डॉ० मिलन की ड्यूटी थी. पेशेंट की हालत बहुत ही खराब था. अस्पताल पहुंचने के तुरंत बाद ही उसका उपचार आरंभ हो गया था लेकिन इलाज के दौरान ही 5 मिनट के बाद उसकी मौत हो गयी. ऐसा अनुमान लगाया जा सकता है कि पहले गांव में झाड़ -फूंक के चक्कर में समय बर्बाद कर दिया होगा. जब हालत ज्यादा खराब हो गया तब उसे अस्पताल लाया गया जहां उसकी मौत हो गयी. वहीं इलाज करा रहे दर्जनों मरीज प्रसव की पीड़ा से कराह रहे थे, जिनके सामने हो रहे इस तरह के हंगामा से उन्हें भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा. वहीं सुबह जब शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया तब जाकर सभी ने राहत की सांस ली.

 (रिपोर्ट: प्रेरणा किरण)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...