15 अगस्त 2017

आर एस एस ने मनाया अखंड भारत स्मृति दिवस

मधेपुरा के मंडल विश्वविद्यालय के विश्वविद्यालय प्रेक्षा गृह में सोमवार कॊ राष्ट्रीय स्वँय सेवक संघ द्वारा अखंड भारत स्मृति दिवस का आयोजन कर  अखंड भारत  निर्माण का संकल्प लिया गया ।

इस अवसर पर अखंड भारत की जानकारी देते हुए वक्ताओं ने बताया कि अखंड भारत से सबसे पहले 1876 में अफगानिस्तान , 1904 में नेपाल ,1906 में भूटान, 1914 में तिब्बत , 1937 में ब्रम्ह्देश या वर्मा या म्यांमार, 1939 में श्री लंका , 1947 में पकिस्तान और उससे बना बांग्ला देश ,1948 में पाक अधिकृत कश्मीर और अंत में 1962 में अकसाई चीन कॊ हमसे अलग कर दिया गया । यह पूर्व के शासकों के कारण हुआ । लेकिन अब हम स्वाधीन हैं । स्वाधीनता के बाद अखंड भारत का स्वप्न प्रत्येक देश भक्त देखता रहा है । 

स्मृति दिवस के अवसर पर विद्वान वक्ताओं क्रमशः विभाग संचालक, कोशी डॉ दीप नारायण यादव , डॉ विँदेश्वरी प्र यादव एवम ललन प्र अद्री ने इन विभाजनो का विश्लेषण और कारणों कॊ बताया ।नगर प्रचारक आलोक जी ,सम्पर्क प्रमुख सुनिल सुमन , भाजपा नेता  डॉ विजय कुमार विमल , डॉ अरविन्द अकेला , जिलाध्यक्ष स्वदेश कुमार ,दिलीप कुमार सिंह , गणेश गुंजन ,स् वँय सेवक जीवानँद , श्याम , शिवम , अमरेन्द्र आदि उपस्थित थे जबकि मंच संचालन तरुण जी ने किया ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...