04 जुलाई 2017

हत्या के 27 दिन बाद भी पुलिस खाली हाथ, गाँव में दो पक्षों के बीच खूनी खेल जारी

मधेपुरा जिले के शंकरपुर थाना क्षेत्र के रायभीर पंचायत स्थित वार्ड नं-08  में 7 जून की संध्या करीब 5 बजे पाँच मोटरसाइकिल बाइक पर सवार करीब  15 हथियार लैस अपराधियों ने दुर्गा मंदिर में पूजा करने जा रहे एक युवक को घेर कर सीने में गोली मार दी थी.


जिससे उसकी मौके पर मृत्यु हो गयी थी. मामले को लेकर मृतक के पत्नी किरण देवी ने थाना में आवेदन देकर कहा था कि 7 जून की संध्या करीब 5 बजे हम दोनों पति पत्नी घर से थोड़ी ही दूरी पर स्थित दुर्गा मंदिर में पूजा-अर्चना करने के लिए जा रहे थे। मैं मंदिर पहुच गई थी और मेरा पति पीछे से आ रहे थे. जैसे ही मंदिर के समीप रोड पर आए दक्षिण
की दिशा से पांच मोटरसाइकिल पर सवार रायभीर निवासी गुड्डू यादव, लड्डू यादव, रिपुसूदन कुमार, संतोष यादव, सुंदर यादव, नीतीश यादव, प्रमोद यादव, छोटू यादव, सदानंद यादव, दिनेश यादव सहित कुछ अज्ञात अपराधियों ने मेरे पति के सामने आकर गाड़ी रोक कर मेरे पति मंटू यादव को घेर लिया और गाली गलौज करते हुए रिपुसूदन के कहने पर गुड्डू यादव ने थ्रीनट से सीने में गोली मार कर हवा की दिशा में गोली चलाते हुए उत्तर की दिशा में सभी मोटरसाइकिल पर सवार होकर भाग गये।

उक्त मामले में मृतक के पत्नी के आवेदन पर तत्कालीन थानाध्यक्ष सुबोध यादव ने 10 लोगों को नामजद एवं पाँच अज्ञात अभियुक्त बनाते हुए कांड संख्यां 75/17 दर्ज कर अभियुक्त की छापामारी शुरू किया गया था. लेकिन घटना के 27 दिन बीत जाने के बावजूद भी एक भी हत्यारों पुलिस की पकड में नही आने के कारण मृतक के परिवार के लोग के बीच मायूसी छाई हुई है. वही अभी भी रायभीर गॉव में घटना को लेकर किसी ओर अनहोनी की आशंका भी ग्रामीण जताते हैं । पुलिस अधीक्षक विकास कुमार ने गॉव में तनाव को देखते हुए तत्काल पुलिस पदाधिकारी के साथ पुलिस बल को प्रतिनियुक्त कर हरेक गति दिशा निदेंश पर नजर रखने का आदेश दिया था. जो घटना के दिन से अभी तक पुलिस पदाधिकारी ओर पुलिस बल प्रतिनियुक्त ही है. जबकि घटना के दिन ही पुलिस अधीक्षक खुद रायभीर गाँव पहुँचकर मामले की बारीकी से  जांच पड़ताल कर अभियुक्त को जल्द  गिरफ्तार कर लेने का आश्वासन पीड़ित परिवार को दिया था.

मालूम हो कि वर्षो पूर्व से रायभीर गाँव में दो पक्षों के बीच खूनी खेल जारी है, जिसमे अबतक में दोनों परिवार के चार लोगों की जान जा चुकी है. कोई भी इस घटना के संबंध में कुछ भी बोलने के लिए तैयार नही है. दबी जुबान से लोगों म यह चर्चा होती है कि कबतक कितने मांग की सिंदूर मिटती रहेगी, यह कहना मुश्किल है. इस कारण लोग सहमे हुए रहते है और किसी के भी पक्ष में कुछ भी करने से अपने आप को परहेज करते है.

अभियुक्तों की गिरफ्तारी के बारे वर्तमान थानाध्यक्ष प्रसुन्जय कुमार से पूछे जाने पर बताया कि अभियुक्त की गिरफ्तारी को लेकर कोर्ट से वारंट निर्गत हो चुका है. अभियुक्त की गिरफ्तारी को लेकर  जगह जगह छापेमारी किया जा रहा है. जल्द ही नामजद अभियुक्त पुलिस की गिरफ्त में होंगे. गिरफ्तारी नही होने की स्थिति में सभी अभियुक्तो की घर की कुर्की-जप्ती की जायेगी.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...