23 जून 2017

मधेपुरा: सांसद शरद यादव ने दोनों महत्वपूर्ण विकास परियोजनाओं का किया निरीक्षण

राज्यसभा सांसद शरद यादव एक सप्ताह के मधेपुरा दौरे पर हैं और पहले ही दिन उन्होंने शुक्रवार को विद्युत रेल इंजन फैक्ट्री और फिर सरकारी निर्माणाधीन मेडिकल कालेज में जाकर अधिकारियों के साथ बैठकर कार्य प्रगति की समीक्षा की।
   
इंजन फैक्ट्री नवंबर 2018 तक बनकर होगी तैयार: समीक्षा के क्रम में निर्माण एजेंसी टाटा प्रोजेक्ट के अधिकारियों ने उन्हें बताया कि निर्माण कार्य समयबद्ध प्रगति पर है और हर हाल में नवंबर 2018 तक बनकर तैयार हो जाएगा।यहां निर्माण कार्य पूरे जोड़ पर है।अंदर सड़क बनाई जा रही है जबकि फैक्ट्री का वर्क शेड का निर्माण कार्य तेजी से जारी है। समीक्षा के क्रम में जिलाधिकारी ने जहां विद्युत ग्रिड निर्माण के लिए स्थल और कार्य प्रगति की जानकारी ली। यहां शरद यादव ने स्थानीय मजदूरों को काम देने का भी सवाल उठाया तो अधिकारियों ने बताया कि स्थानीय मजदूरों को स्किल डेवलपमेंट का प्रशिक्षण देकर उन्हें काम देने की कार्रवाई चल रही है। शरद यादव ने परिसर में पौधारोपण भी किया। इस अवसर पर उनके साथ एस पी विकास कुमार सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी उपस्थित थे।

मेडिकल कालेज भवन निर्माण में फंड का है टोटा: सबैला में निर्माणाधीन सरकारी मेडिकल कालेज निर्माण कार्य की समीक्षा के क्रम में निर्माण एजेंसी के अधिकारियों ने स्पष्ट तौर पर बताया कि मुख्यमंत्री जी ने शीघ्र अस्पताल भवन और कालेज भवन निर्माण को पूरा करने के निर्देश दिया था, लेकिन सरकार द्वारा राशि निर्गत नहीं करने के कारण यहां फंड की भारी कमी हो गई है, जिसके कारण काम पूरा करने में मुसीबत हो रही है। नवंबर 2016 के बाद कोई भुगतान नहीं हुई है। उन्होंने अन्य भवनों की बावत बताया कि संभव है कि पूर्व निर्धारित इस परियोजना की राशि 744 करोड़ थी जिसे अब सरकार ने कटौती कर 691 करोड़ रू कर दिया है। इसके कारण भवन की कुछ मंजिलों को और ऊपर नहीं बनाया जा सकेगा। यह भी बताया गया कि हॉस्पिटल के पांच भवनों का और कालेज एवम् पुस्तकालय भवन का निर्माण कार्य पूरा कर अंदरुनी फिनिशिंग कार्य जारी है।

जिलाधिकारी ने आश्वस्त किया कि जितने का बिल पेंडिंग है उसके 75 प्रतिशत राशि निकासी के लिए सरकार से आग्रह किया जा सकता है। उन्होंने हेलीपैड निर्माण की बावत जानकारी ली तो बताया गया कि अभी उक्त परियोजना हेतु स्वीकृति नहीं मिली है जबकि मुख्यमंत्री में स्वयं यह प्रस्ताव रखा था। ज्ञातव्य है कि प्रशासनिक भवन के ऊपरी छत्त पर ही हैलीपेड बनाने का प्रस्ताव था ताकि मरीज और ख्याति प्राप्त चिकित्सक पटना, दिल्ली आदि से आ जा सकें। शरद यादव के समक्ष इस परियोजना के बारे में पॉवर प्रेजेंटेशन भी किया गया। उन्होंने भी शीघ्र काम पूरा करने की हिदायत दी ताकि यहां लोगो को इसका लाभ मिल सके। बाद में उन्होंने घूम घूम कर भवनों को देखा।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...