08 जून 2017

शराबी को मिले जमानत तो फौरन करें अपील, घर को करें सील, झोंपड़ियों को तोड़ें

मधेपुरा के जिलाधिकारी मो० की अध्यक्षता में गुरुवार को डीआरडीए सभागार में शराबबंदी कि समीक्षात्मक बैठक में हर संभव उपाय कर शराब बंदी को सफल बनाने के लिए संकल्प लिया गया।

बैठक में जिलाधिकारी मु सोहैल ने स्पष्ट तौर पर कहा कि कोई कितना भी बड़ा पहुंच वाला क्यों न हो, शराब बंदी को तोड़े तो गिरफ्तार कर जेल भेजे।

बैठक में इस बावत मुख्य मंत्री नीतीश कुमार द्वारा दिए गए निर्देश को सभी पदाधिकारियों में वितरित कर उन्हें इस कानून की गंभीरता से अवगत कराया गया।निर्देश के अनुसार शराब का आपूर्तिकर्ता, भंडारण, वितरक आदि को पकड़ने के लिए प्रत्येक स्तर पर एक समर्पित टीम बनाकर आसूचना संग्रह और छापामारी करें।जिलाधिकारी और एस पी बड़े माफिया को पकड़े। मुठ्ठी भर लोग धंधा कर रहे हैं और कुछ लोग सिस्टम खराब कर रहे हैं। कोई सरकारी सेवक शराबबंदी का उल्लंघन कर रहा है या संलिप्त है तो उसके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करें।

बैठक में जिलाधिकारी और एस पी विकास कुमार ने थानावार शराबबंदी से संबंधित कांडो की समीक्षा कर कहा कि जहां भी शराबखोरी हो वहां कच्चा घर है तो तोड़ दो और पक्का घर है तो सील कर दें।

समीक्षा के दौरान यह तथ्य भी सामने आया कि कुछ मामलों में शराबखोरों को 45 दिन के अंदर ही जमानत मिल जाती है। ऐसे मामलों में फौरन उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट कर जमानत खारिज करने के लिए ऊपरी न्यायालय में  अपील की कारवाई करें। उन्होंने सदर थाने के एक अभियुक्त को जमानत दिए जाने पर टिप्पणी करते हुए कहा कि जो शराबखोड़ी को पेशा बना चुका है तो ऐसे माफियाओं के बारे में रिपोर्ट करें तो सी सी ए के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने पदाधिकारियों को भी सख्त हिदायत दी कि वे भी शराबबंदी को सफल बनाने के लिए जागरूक होकर आसूचना संग्रह कर कारवाई करें। पुलिस पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया कि अगर कहीं शराबियों का घर सीलबंद करने या तोड़ने में विरोध किया जाता है तो पर्याप्त पुलिस बल लेकर जाय और कारवाई करें।

बैठक में अन्य अनेक मुद्दों पर निर्देश दिए गए।बैठक में अपर समाहर्ता,उप विकास आयुक्त, दोनों एस डी ओ, भूमि सुधार अपर समाहर्ता, सभी थानाध्यक्ष, सभी बीडीओ आदि उपस्थित थे।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...