18 मई 2017

मवेशी हाट के बंदोबस्ती को लेकर सिंहेश्वर मंदिर न्यास समिति सवालों के घेरे में

एक बार फिर मधेपुरा के सिंहेश्वर मंदिर न्यास समिति के कार्यों पर उठा सवाल । जिस मवेशी हाट के बंदोबस्ती को लेकर एसडीओ मधेपुरा को सिहेंश्वर मंदिर न्यास समिति के सचिव पद से हटाया गया, उस मामले में  हाईकोर्ट के निर्देश के बावजूद न्यास के द्वारा ठेकेदार को अनुचित लाभ कराया जा रहा है । कई समाजिक संगठन ने उठाये सवाल ।

तीन साल के लिए हुआ था बंदोबस्ती -   11 -10 -2015 को  सिंहेश्वर मंदिर न्यास समिति की हुई  बैठक में मनोज कुमार मनोरंजन को महिमा मंडित करते हुए 5 प्रतिशत राशि हर साल  की बढोतरी के साथ 35 लाख  21 हजार 207 रूपया में तीन साल के लिए 2016-17, 2017-18, 2018-19 के लिए दिया गया । इस बात का पता लगते ही जन मानस में इस बात का जबरदस्त विरोध हुआ । लोगों का कहना है कि 2010 -11 मे मवेशी हाट का डाक मात्र 12 लाख 28 हजार के आसपास था जो अगले साल यानी 2011 -12 में डेढा होकर 19 लाख 44 हजार हो गया । 2012 -13 में लगभग दोगुना के आसपास 35 लाख साढ हजार 750 हो गया । उसके बाद 2013 -14 में आंशिक बढोतरी के साथ  35 लाख 61 हजार में हुआ तो लोगों को आश्चर्य हुआ । 2014 -15 में भी वही हाल रहा  2015 -16 जब घट कर 35 लाख 21 हजार 207 रूपया हो गया तो लोगों का स्वर विरोध में उठने लगा । उसके बाद तो अध्यक्ष और सदस्यों के मिली भगत से सभी नियमो को ताक पर रखकर बंद कमरे में 5 प्रतिशत की वृद्धि पर 3 साल के लिए ही मनोज दास को दे दिया  । जिसके बाद लोगों ने विरोध किया लेकिन न्यास पर इसका कोई असर नहीं पडा । मजबूरन लोगों ने छातापुर के विधायक निरज कुमार सिंह बबलू से मिलकर न्यास के सदस्यों के मनमानी की जानकारी दी । विधायक श्री सिंह ने बिहार राज्य बोर्ड को जानकारी दी और मामले में कार्रवाई की मांग की ।

बिहार राज्य घार्मिक न्यास पार्षद ने भी माना इसमे अनियमितता है ।  विधायक के निवेदन पर बोर्ड ने 15 -07-16 के पत्र में माना कि वर्तमान में अध्यक्ष और सचिव में समन्वय का अभाव है । जिसके कारण न्यास का कार्य बाधित रहता है और गाज तात्कालीन सचिव पर गिराते हुऐ अगले आदेश तक के लिए एसडीओ को सचिव से हटाते हुऐ डीडीसी को सचिव बनाया गया ।

संवेदक गये हाईकोर्ट -  बोर्ड के एक साल के लिये मवेशी हाट के बंदोबस्ती के आदेश के खिलाफ संवेदक हाईकोर्ट में एक याचिका सीडब्लूजेसी संख्या  15311/16 दायर किया । लेकिन हाईकोर्ट ने 08 अप्रेल 17 को इस याचिका को खारिज कर दिया । लेकिन अभी तक संवेदक अवैध वसूली कर ही रहा है । मामले को लेकर सामाजिक संगठन श्रीकृष्ण सेना के अध्यक्ष राहुल यादव ने डीएम मो. सोहेल को पत्र लिखकर बिहार के गरिमामय शिव मंदिर में फैले कुव्यवस्था के जिम्मेदार सदस्यों पर कारवाई की मांग की तथा पूछा कि हाईकोर्ट के फैसले के बाद भी न्यास कर्मी किस प्रलोभन में मवेशी हाट का बट्टी पूर्व संवेदक को वसूलने दे रहे हैं ? मामला गहन जांच और कड़ी कार्रवाई का बनता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...