05 मई 2017

एक प्रमाणपत्र पर दो प्रधानाध्यापक मामला और उलझा, जाँच हुई शुरू

एक प्रमाण पत्र पर दो प्रधानाध्यापक मामले में दोनो प्रधानाध्यापकों के प्रमाणपत्रों की जांच मधेपुरा जिले के आलमनगर बीडीओ के प्रभार में चल रहे अंचलाधिकारी विकास कुमार ने शुरू की है.

इस दौरान प्रदीप कुमार पिता भरत सिंह प्रध्यानाध्यापक मध्य विद्यालय खुरहान माल के द्वारा दिये प्रमाण-पत्र मे मैट्रिक का एडमिट कार्ड, शिक्षक प्रशिक्षण का एडमिड कार्ड, शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय का परित्याग प्रमाण पत्र, शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय द्वारा विरमित प्रमाण पत्र सहित अन्य प्रमाण पत्र नहीं दिखाने जाने पर उन्हें शनिवार तक उक्त प्रमाण पत्र देने के लिए कहा गया है ।

दूसरी तरफ प्रदीप कुमार पिता भेरो मंडल तिनटेंगा ,पूर्णियां निवासी जो मध्य विद्यालय चपहरी रूपोली पूर्णियां में प्रध्यनाध्यापक पद पर है उन्होने सभी प्रमाण पत्र की फोटो कॉपी स्व-अभिप्रमाणित समर्पित किया जिसे मूल प्रमाण-पत्र से मिलान कर रखा गया है ।

वहीं प्रदीप कुमार पिता भरत सिंह मध्य विद्यालय खुरहान माल के द्वारा मैट्रिक एवं शिक्षक प्रशिक्षण का प्रमाण-पत्र का भी मूल प्रति से मिलान किया गया परन्तु अंचभित करने वाले इस प्रमाण-पत्र में पिता का नाम छोड़कर दोनों प्रध्यानाध्यापक का प्रमाण-पत्र समान पाया गया है. दोनों प्रध्यानाध्यापकों के मैट्रिक के प्रमाण पत्र में रोल कोड 5313 रोल क्रमांक 0626 जन्म तिथि 09-06-1968 ई0 है एवं वर्ष 1986 में मैट्रिक हाईस्कूल चककिन्दर वेशाली से किया है. वहीं शिक्षण-प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र दोनो प्रध्यानाध्यापकों का राजकीय प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय श्रीनगर पुर्णिया से वर्ष 1987-89 एवं रोल कोड 4201 रोल क्रमांक 37 प्रमाण-पत्र देखने पर अधिकारी भी अचंभित है ।

इस बाबत अंचलाधिकारी ने बताया दोनो प्रध्यानाध्यापक के प्रमाण-पत्र को जांच हेतू भेजा जा रहा है. वहीं प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी नीलम कुमारी ने मध्य विद्यालय खुरहान माल के प्रध्यानाध्यापक प्रदीप कुमार का तत्काल वित्तीय प्रभार ले लिया है । जांचोपरांत कारवाई की जायेगी. एक प्रमाण पत्र पर दो एच एम के प्रमाण पत्र एक मिलने पर लोग आश्र्चयचकित हैं एवं लोगों की आशा भरी निगाह अधिकारी पर लगी हुई है कि आखिर किसका प्रमाण पत्र फर्जी है, और किसका असली? और कोई एक फर्जी प्रमाण-पत्र पर कैसे इतने दिनों से कैसे सरकारी नौकरी कर रहा है?

क्या था पूरा मामला? पढ़ें: अजूबा! एक प्रमाणपत्र पर दो हेडमास्टर, ये रूबी राय का बिहार है!
(रिपोर्ट: प्रेरणा किरण)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...