24 मई 2017

मधेपुरा: दहेज़ के लिए महिला को लगातार प्रताड़ित कर घर से निकाला, मामला दर्ज

तीन तलाक के मुद्दे पर भले ही देश भर में डिबेट चल रहे हों और तलाक को महिला के लिए अभिशाप कहा जाता है, है भी.
लेकिन तलाक से भी बढ़कर अभिशाप दहेज प्रताड़ना है जिसमें सिर्फ मुस्लिम महिला ही नहीं तमाम समुदाय की महिलाएं प्रताड़ित होती है और कई मामले में तलाक दहेज के ही वजह से होती है।

कई बार प्रताड़ना इस हद तक गुजर जाती है कि महिलाओं को मौत के घाट उतार दिया जाता है  या तो तो उसे इतना दर्द दिया जाता है जिसे वह सहन नहीं कर पाती है जिस की वजह से वो खुद अपने आप को मौत के हवाले कर देती है।

अभी ताजा मामले में मधेपुरा जिला के चौसा थाना अंतर्गत खां टोला की लड़की तमन्ना खातुन रो रो कर कहती है की मेरी शादी पांच वर्ष पूर्व मंजोरा थाना बिहारीगंज जिला मधेपूरा के लतीफ़ उर्फ़ मोहम्मद अनमोल अंसारी पिता इशहाक अंसारी के साथ हुई थी. मेरे पिता ने अपने हैसियत के हिसाब से मोटरसायकिल तथा दान-दहेज भी दिए थे लेकिन बीच बीच में मुझे अपने पिता से चार चक्का गाड़ी मांगने को कहते थे और जब मैं उसका विरोध करती थी तो मुझे मारते पीटते थे। इस बीच मुझे एक औलाद भी पैदा हुआ है पर मेरा पति छह माह पहले मुझे घर से निकाल दिया है। कहता है जब तुम चार चक्का लेकर आओगी तभी तुम को और तुम्हारे बच्चे को घर घुसने देंगे। इस के लिए पीड़ित महिला ने चौसा थाना अध्यक्ष सुमन कुमार सिंह से इंसाफ की गुहार लगाई है और श्री सिंह ने बताया की मामला दर्ज कर लिया गया है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...