17 अप्रैल 2017

समान काम समान वेतन के लिए प्रारंभिक शिक्षकों ने शिक्षक सत्याग्रह कर दिया धरना

मधेपुरा जिला मुख्यालय के कलाभवन के सामने नियोजित शिक्षक ने एक दिवसीय धरना दिया. नियोजित शिक्षकों ने माननीय सुप्रीम कोर्ट के न्यायादेश समान काम समान वेतन लागू करवाने को गांधी के चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष पर बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के बैनर तले शिक्षक सत्याग्रह कर धरना दिया.

     धरना की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष संजय कुमार ने किया एवं मंच संचालन जिला सचिव भुवन कुमार ने किया. शिक्षक सत्याग्रह को संबोधित करते हुए संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार पप्पू ने  कहा कि सूबे के लाखो प्रारंभिक माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक नियोजित शिक्षक एवं पुस्तकालय अध्यक्ष माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश समान काम का समान वेतन को लागू करवाने को आंदोलन का शंखनाद कर दी है. राज्य सरकार की हठधर्मिता न्यायालय के न्यायदेश को मानने समझने को तैयार नहीं है, जो लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण कार्य है. राज्य की शिक्षा एवं शिक्षक की हालत बिगाड़ने में खुद सरकार अपनी भूमिका निभा रही है जिसे संघ कभी कामयाब नहीं होने देगा. समान काम का समान वेतन, पूर्ण सेवाशर्त, अप्रशिक्षित शिक्षकों को ग्रेड पे, प्रशिक्षित को ग्रेड पे के लिए 2 वर्षों के समय सीमा का शिथिलीकरण एवं राज्य कर्मी की सुविधा की पूर्ति व लागू करवाने को लेकर गांधी के चंपारण सत्याग्रह शताब्दी पर शिक्षक सत्याग्रह कर शपथ लेता है कि 18 अप्रैल को प्रखंडों में मशाल जलाकर सरकार को जगाएंगे और 19 अप्रैल 2017 से राज्य के सरकारी विद्यालयों में तालाबंदी कर हड़ताल पर शिक्षक जाएंगे.
    श्री पप्पू ने स्पष्ट कहा कि 19 अप्रैल से सूबे में शत प्रतिशत शिक्षा व्यवस्था बंद रहेगी.  शिक्षक मांगों की पूर्ति तक शिक्षण एवं गैर शिक्षण कार्य ठप कर अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे.
    मौके पर सुनील कुमार, चंद्रशेखर चंदू, संजय कुमार पुतुल, अमित कुमार, सुनील चौरसिया, नंदकिशोर राम, संजीव कुमार, सुरेंद्र कुमार, अशोक कुमार, विजय कुमार, संजय कुमार राम, विरेंद्र राम, पूनम कुमारी, रेखा कुमारी, बेबी रानी, नीतू कुमारी, पुष्पा कुमारी आदि उपस्थित थे. 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...