08 अप्रैल 2017

सावधान! अपने वाहन की रफ़्तार धीमी करें: मधेपुरा की मुख्य मार्ग पर गायों का है कब्ज़ा

मधेपुरा में प्रवेश करने से पहले अपने वाहन की रफ़्तार धीमी कर लें और जब सड़क पर कब्ज़ा किये गाय बाछा पास न दे तब तक आगे नहीं बढे। जी हाँ, यहाँ की मुख्य सड़क पर गाय बाछे का कब्ज़ा है।

यहाँ सड़क पर सब्जी वालों की सब्जी को लेकर भागने में माहिर इन गायों का रैन बसेरा भी यही मुख्य सड़क है।

आवारा छोड़ रखा है गायों को: अधिकाँश गो पालकों ने अपनी अपनी गायों को छुट्टा छोड़ रखा है। कई गाय इतनी प्रशिक्षित है कि समय पर अपने स्वामी के घर जाकर दूध दे देती है और फिर सड़क पर अपने कुनबे में लौट जाती है। गोपालकों की पौ बारह है कि बिना दाना पानी खिलाये दूध की प्राप्ति हो जाती है।

कभी कभी मचता है हडकंप: सड़क पर गाय बाछो का कभी कभी ऐसा तांडव मचता है कि दुर्घटनाएं हो जाती है। आपस में दो सांडों के लड़ जाने या दौड़ जाने के कारण वाहनों की दुर्घटना होना स्वाभाविक है।घायल यात्री शिकायत भी करे तो किससे। गो स्वामी कौन हैं यह किसी को पता नहीं है।

नगर परिषद् है पंगु: नगर परिषद् पूरी तरह पंगु है और वार्ड पार्षद हैं तमाशबीन। न इन्हें शहर के बर्बाद नाले से मतलब है और न जन सरोकारों से. आजकल तो और भी फुर्सत नहीं है, सभी निकाय चुनाव के लिए महान मतदाता की सेवा में लगे हैं।

नहीं है कहीं अडगरा: शहर में कहीं अड़गरा नहीं होने ले कारण इन गायों को काबू करना भी मुश्किल हो रहा है। लगभग एक सौ गायो का अलग अलग कुनबा हर चौक चौराहे पर अपना कब्ज़ा कर शहर की बड़ी समस्या बन चुकी है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...