14 अप्रैल 2017

'कार्यपालक सहायकों को नियमित करे सरकार': पुर्नपरीक्षा के निर्णय का विरोध

मधेपुरा जिला मुख्यालय के बी0एन0 मंडल स्टेडियम में बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ, मधेपुरा के बैनर तले बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता संघ के जिला अध्यक्ष प्रणव प्रकाश ने की।

    जानकारी देते हुए संघ के अध्यक्ष प्रणव प्रकाश ने बताया कि सरकार द्वारा हम सभी कार्यपालक सहायक के नियमितीकरण/सम्मानजनक मानदेय निर्धारण के लिए पुर्नपरीक्षा लेने पर विचार कर रही है। हम सभी कार्यपालक सहायकों का चयन जिला पदाधिकारी के नेतृत्व में गठित कमिटि द्वारा लिखित एवं कम्प्यूटर जांच परीक्षा के आधार पर किया गया है। इस स्थिति में पुर्नपरीक्षा आयोजित कर नियमितीकरण/ सम्मानजनक मानदेय निर्धारण करती है, तो हम सभी कार्यपालक सहायक इसका विरोध करगें।
    बैठक में जिला सचिव सौरभ कुमार, कोषी प्रभारी आषीश कुमार, जिला महासचिव प्रम्युदित प्रज्ञ, उपाध्यक्ष ष्याम कुमार, कोषाध्यक्ष कुमार अमरदीप उर्फ मंटू ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसी भी विभाग में संविदा कर्मियों के नियमितीकरण/सम्मानजक मानदेय करने के लिए परीक्षा का आयोजन नहीं किया गया। फिर यह नियम कार्यपालक सहायकों पर लागू क्यों ? इससे स्पष्ट होता है कि सरकार संविदा कर्मियों के साथ दोहरे नीति अपना रही है।
     वक्ताओं ने कहा कि सरकार माननीय उच्चतम न्यायालय, उच्च न्यायालय एवं केन्द्र सरकार के दिये गये निर्देष की धज्जियां उड़ा रही है। निर्देश में स्पष्ट है कि कोई भी संविदा कर्मी अस्थायी नहीं हो सकता है और उन्हें समान काम के लिए समान वेतन उसका हक है। सरकार अगर बिना किसी सर्त नियमितीकरण कर सम्मान काम के लिए समान वेतन का निर्धारण नहीं करती है तो कार्यपालक सहायक हड़ताल करने पर मजबूर हो जायेगा।  
    बैठक में मुख्य रूप से कैलाश कुमार चैधरी, काजल आनंद, बुलबुल, रंधीर, राहुल, कुमार अमरदीप, विजय, पूजा, प्रिंस, कुमारी कृति, सोनम, संतोश, सन्नी, अमरेश, सुरेश, सुभाष, राजा, अवधेश, सुनील, मो0 जसीम, पुनम, अनिता, गोपाल, मीना, सोनू, रश्मि, स्वाति, गुड्डी, संदीप, आशा, निशु, सिंकु, गजाला प्रवीण, नीतू, सुमंत, मनीकांत, मरांडी, सोनू, सुनील सुमन, मनीष राज, विकास, गजेन्द्र, मिथिलेश सहित सैकड़ों कार्यपालक सहायक उपस्थित थे। 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...