20 अप्रैल 2017

मधेपुरा: कल से आज तक की आंधी-बारिश-ओलावृष्टि से भारी तबाही, किसान सदमें में

मधेपुरा जिले में कल शाम 6:30 बजे अचानक आई तेज आंधी और जोरदार बारिश ने मुरलीगंज प्रखंड के सभी हिस्सों में फसलों को बहुत ज्यादा बहुत नुकसान पहुंचाया है.
  
   मकई की फसल को तेज आंधी ने तोड़ मरोड़ कर गिरा दिया. बुधवार की शाम आंधी पानी के साथ-साथ ओला गिरने से किसानों को भारी क्षति हुई. ओला गिरने से लीची और टिकोलो को भारी नुकसान हुआ. मौसम के बदले हुए तेवर से किसानों के माथे पर चिंता की गहरी लकीरें आ गई. तेज आंधी के साथ  झमाझम बारिश जब शुरू हो गई तो देर रात तक चलती रही. बारिश के साथ साथ तेज हवाएं भी चल रही थी और सुबह 9:00 बजे से एक बार फिर बारिश शुरू हुई और दोपहर के 12:00 बजे तक चलती रही. इसमें सबसे ज्यादा नुकसान गेहूं की फसल को हुआ. खेतों में गिरे गेहूं की फसल कटाई करने में किसानो को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ेगा. वहीँ किसानो ने कटे हुए गेहूं को खेत में सूखने के लिए रखे हुए थे. तेज आंधी में उड़ कर फसल कहां-कहां चले गए कुछ पता न चला. किसान सर पर हाथ लेकर खेतों में बैठे थे.
     बारिश ने किसानो की कमर तोड़ दी है. लगातार तूफान और बारिश  पिछले कई हफ्तों से  किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया है. गंगापुर भलनी पंचायत के किसान पवन कुमार जिसने पिछले कई वर्षों से बेरोजगारी से तंग आकर इस बार  कर्ज लेकर गेहूं की खेती की थी, वह अपने माथे पर हाथ लेकर अपने खेत में बैठ गया, क्योंकि उसकी गेहूं की कटी हुई फसल आंधियों ने उड़ा कर कहां भेज दिया, कुछ पता नहीं चल सका. दूसरी ओर जो कुछ गेहूं के पौधे कटकर खेत में पड़े थे वह ज्यादा बारिश होने के कारण खेतों में पानी लग जाने पर डूबे पड़े हैं. उन्होंने बताया कि हम तो बरबाद हो गए हैं.
    गंगापुर पंचायत में पवन यादव, ललन यादव ,नारायण यादव, अजय यादव, विशो यादव, कुशेश्वर यादव, हरि यादव, मोहरील यादव की गेहूं की फसल एवं बद्री यादव, सुनील यादव, बम बम यादव, प्रभात यादव, अशोक यादव, जगदीश साह, कन्हैया साह, गोपाल साह, नरेश साह, दिलीप साह, सुदेश यादव की मकई की फसल पूरी तरह तहस-नहस हो गई है. किसी की एक बीघे है किसी के दो बीधे और किसी के 5 बीघे हैं.
     वहीँ दीनापट्टी पंचायत के अभिषेक कुमार ने बताया कि हमारी 5 बीघा फसल   मकई को फसल को पूरी तरह आंधी ने मरोड़कर जमीन पर गिरा दिया. वृंदावन ग्रामीण बबलू यादव अपने खेत में जाकर अपने  पटसन की बुआई दिखाते  देते हुए बताया कि मेरा 12 कट्ठा खेत में लगे  पटसन की फसल इस आंधी बारिश के कारण बोया हुआ पानी में डुबा गया, अब होने का कोई चांस नहीं है. रंजीत कुमार वृंदावन निवासी वार्ड नंबर सात अपने मकई की खेती को दिखाए और बताया कि मेरी  मकई की खेती बर्बाद हो गई है. करीबन पांच कट्ठा मकई आंधी में गिर कर टूट गया, लेकिन अभी तक कोई  देखने तक भी नहीं आया ।
       वही लगे गेहूं की फसल की बर्बादी के बारे में गजेंद्र मेहता वार्ड नंबर 7 ने  बताया कि करीब मेरी 2 बीघा गेहूं की फसल इस आन्धी-पानी उड़ाकर ले गया. वृंदावन निवासी नित्यानंद यादव पिता ज्ञानी यादव वार्ड नंबर 7 ने बताया कि मेरे आम के बगीचा में लगे 25 आम के वृक्ष को तेज रफ्तार से आयी बुधवार को  आंधी पत्थर के कारण वृक्ष में से सभी आम के वृक्ष  का मंजर और टीकोले झर कर  नीचे गिर गए और अब इसकी कोई होने की संभावना नहीं है. इसमे करीबन तीस  हजार से ज्यादा का ही फल होता.
   कुल मिलाकर कल की तबाही ने कितने किसानों को सदमें में डाल दिया है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...