05 अप्रैल 2017

उच्च तकनीक से मछली उत्पादन में मधेपुरा का नाम रोशन कर रहा एक किसान

मधेपुरा में पंजाब की तर्ज पर अत्याधुनिक तकनीक से हो रहा है मछली उत्पादन. एक हजार वर्ग मीटर में लगे पॉली हाउस के अन्दर एक्वाकल्चर के सहारे देश के प्रसिद्ध जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय एवं पटना विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा हासिल कर किसान ज्योति मंडल कर रहे है अपने बखरी गाँव में मछली की उन्नत खेती और मछली के जीरा का उत्पादन.

     किसान ज्योति मंडल मछली की उन्नत खेती से तीन महीने में 06 से 07 लाख रुपये कमाने का दे रहे हैं हवाला और लोगों को भी इस ओर जागरूक करने का सफल प्रयास कर रहे हैं. इन्हें  जिला कृषि विभाग से भी भरपूर सहयोग मिल रहा है. जहाँ किसान ज्योति मंडल अपने कृषि कार्य में रहते हैं अधिक व्यस्त हैं, वहीँ इनकी पत्नी श्रीमती सरिता मंडल का भी इन्हें काफी मिलता है सहयोग. पत्नी खुद घर-गृहस्थी एवं बच्चों के पठन-पाठन का खास ख्याल रखती है और लोगों को भी मछली का उत्पादन करने की सलाह दे रही है.
    जानकारी के अनुसार किसान ज्योति मंडल बिहार के पिछड़ों के मसीहा कहे जाने वाले एवं  मंडल कमीशन के जननायक बीपी मंडल के रिश्ते में चचेरे भाई भी हैं. किसान ज्योति मंडल की माने तो मछली की उन्नत खेती से खासकर इस कोसी के पिछड़े इलाकों में हर वर्ष बाढ़ आने से पहले ही छोटे से बड़े किसान मालामाल हो सकते हैं. वहीँ दूसरी ओर मधेपुरा जिले में अब तक मात्र सरकारी स्तर पर मुख्यमंत्री बागवानी मिशन के तहत दो पॉली हॉउस का निर्माण किया गया है. एक जिले के बखरी गाँव में तो दूसरा गम्हरिया प्रखंड मुख्यालय में. इस पॉली हॉउस की खास बात ये है कि ठंड के मौसम की फसल गर्मी के मौसम में भी एक्वाकल्चर के माध्यम से अन्य फसल समेत साग सब्जी के अलावे मछली की उन्नत खेती कर लोग काफी लाभ कमा सकते हैं.
     वहीँ सरकार की महत्वकांक्षी मुख्यमंत्री बागवानी मिशन योजना के तहत इस पॉली हॉउस के मुख्य उदेश्य को दर्शाते हुए जिला कृषि सह उद्यान विभाग के आत्मा निर्देशक राजन बालन बताते हैं कि मुख्यमंत्री बागवानी मिशन के तहत किसानों को संरक्षित उन्नत खेती करने हेतु सरकार पॉली हॉउस निर्माण के लिए विगत वर्ष 2014-15 में 99 प्रतिशत अनुदान की राशि निर्गत करती थी. लेकिन अब सरकार अनुदान की राशि में कटौती कर मात्र 50 प्रतिशत की अनुदान राशि ही दे रही है. अगर इस इलाके में किसान पॉली हॉउस का निर्माण कर उन्नत खेती करते हैं तो उन्हें काफी लाभ की संभावना है. 
      बहरहाल किसान ज्योति मंडल इस कार्य को करते हुए न सिर्फ लाभ कमा रहे हैं बल्कि मछली उत्पादन के मामले में मधेपुरा सहित अन्य जिले के किसानों को भी ये नई दिशा प्रदान कर रहे हैं. 
     खबर से सम्बंधित वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...