10 अप्रैल 2017

आंगनबाड़ी सेविका-सहायिकाओं के जेल भरो आन्दोलन से अफरातफरी की स्थिति

सभी फोटो: मुरारी सिंह
मधेपुरा में आंगनबाड़ी सेविकाओं के द्वारा अपने वेतनमान समेत अन्य 16 सूत्री मांगों को लेकर आज जिले भर में किये गए जेल भरो आन्दोलन के तहत हजारों की संख्या में उन्होंने समाहरणालय का घेराव किया और इस दौरान शहर में अफरातफरी की स्थिति रही.

    आंगनबाड़ी सेविकाओं और सहायिकाओं ने सहरसा-पूर्णियां मुख्य मार्ग जामकर घंटों सड़क पर बैठकर केन्द्र सरकार और बिहार के नीतीश सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की. कहा कि जब तक सरकार हमारी मांगों पर नहीं देगी ध्यान तब तक चलता रहेगा उग्र आन्दोलन.
    आंगनबाड़ी सेविकाओं के समर्थन में उतरा सीपीआई नेता प्रमोद प्रभाकर ने कहा कि बिहार में आंगनवाड़ी सेविकाओं की है मांग जायज है. जब तक सरकार इनके मांगों पर नहीं देती है ध्यान तब तक आन्दोलन में सीपीआई का भी भरपूर सहयोग रहेगा.
   बता दें कि मधेपुरा जिला मुख्यालय में लगातार आन्दोलन कर रही सेविकाओं ने आज हजारों की  संख्या में एक जुट होकर शहर के विभिन्न मार्ग होते सड़क मार्च किया तथा केन्द्र की मोदी सरकार और बिहार के नीतीश कुमार के विरुद्ध अपनी मांग को लेकर जमकर की नारेबाजी.
    हजारों का हुजूम मधेपुरा के समाहरणालय पर जब पहुंचा तो पुलिस बल और अधिकारियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी. परिसर में न घुसने देने पर उन्होंने ग्रिल पर चढ़कर सरकार विरोधी नारे लगाये. इस दौरान जेल भरो कार्यक्रम के तहत लगभग एक हजार आंगनबाड़ी सेविका और सहायिकाओं ने दी अपनी गिरफ्तारी. गिरफ्तार सेविकाओं को तत्काल पुलिस ने मधेपुरा बीएन मंडल स्टेडियम के कमरे में किया बंद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...