30 मार्च 2017

हादसा: ग्रिल पर झूल कर खेल रही बच्ची की दीवार गिर जाने से हुई मौत


मधेपुरा जिले के चौसा थानान्तर्गत रसलपुर धुरिया ग्राम में आज हुए एक दर्दनाक हादसे में एक बच्ची की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि साथ खेल रहे एक छोटे बच्चे को भी हल्की-फुल्की चोटें आयी है।

         जानकारी हो कि धुरिया ग्राम निवासी अवध यादव की करीब आठ वर्षीय बेटी काजल नित्य दिन की भांति आज भी करीब 3:30 बजे अपने घर के समीप ही बने पुराने पंचायत भवन परिसर में खेल रही थी। खेलते-खेलते ही वो नादान, पंचायत भवन के टूटे हुए गेट में झूल रहे ग्रिल पर लटक गयी और उसके साथ खेल रहे एक बच्चे उस ग्रिल को झुलाने लगा। उस नादान को इतनी समझ नहीं थी कि दीवार पूरी तरह जर्जर हो चुका है और कभी भी गिर सकता है। ग्रील पर लटक कर झूल रहे उस नादान की किलकारी शायद ईश्वर को भी पसंद नहीं आई और उसी समय जर्जर दीवार ग्रिल समेत धाराशायी हो उस नन्हीं सी जान को अपने आगोश में ले लिया।
      दीवार के टूटकर गिरने की आवाज़ सबसे पहले वहीं पास में परचून की दुकान करने वाले स्थानीय निवासी कपिलदेव यादव ने सुना। किसी अनहोनी की आशंका शायद उन्हें हो चुकी थी। कपिलदेव यादव के चिल्लाने की आवाज़ सुनकर आसपास के लोग श्यामल यादव, मनोज यादव, अशोक यादव, प्रभाष यादव आदि दौड़े और आनन-फानन में उनलोगों ने गिरे हुए दीवार के अंदर से बच्ची को बाहर निकाला। लेकिन नन्हीं सी जान ने पहले ही दम तोड़ दिया था।
           घटना की जानकारी पंचायत समेत पुरे प्रखंड में आग की तरह फैल गई। मौके पर सबसे पहले पहुँचे स्थानीय जनप्रतिनिधि पंचायत समिति सदस्य अभिषेक दत्त उर्फ विक्की सिंह ने घटना की जानकारी से स्थानीय प्रशासन अवगत कराया।चौसा प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश बिहारी वर्मा तथा थानाध्यक्ष सुमन कुमार सिंह ने घटना स्थल पर पहुँचकर वस्तुस्थिति का जायजा लिया तथा मृतक के परिजनों को ढाढ़स भी बंधाने का प्रयास किया।खबर लिखे जाने तक बच्ची के शव को पोस्टमार्टम हेतु मधेपुरा भेज दिया गया है।
         जानकारी हो कि रसलपुर धुरिया ग्राम पंयायत में पंचायत सरकार भवन के नवनिर्माण होने के बाद से, पुराने व रिटायर्ड हो चुके जर्जर पंचायत भवन फिलहाल लावारिस ही पड़ा रहता है।सारे ग्रामीण व जनप्रतिनिधि भलीभांती उस जर्जर हो चुके दीवार व गेट के कभी भी गिर जाने के खतरे से भलीभाँति अवगत भी थे। बावजूद इसके किसी भी जनप्रतिनिधि व समाज के बुद्धिजीवियों द्वारा कोई पूर्व पहल नहीं  किये जाने व लापरवाही बरतने की बदौलत ही आज एक अत्यंत ही गरीब परिवार की निसहाय माँ की गोद सूनी हो गया। ग्रामीणों ने बताया कि बच्ची के पिता दो जून की रोटी के उपाय में पंजाब गये हुए हैं।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...