24 फ़रवरी 2017

देश के विद्वानों का लगेगा जमघट: सिंहेश्वर मंदिर के महत्व पर राष्ट्रीय सेमिनार

मधेपुरा के सिंहेश्वर में बाबा के सानिध्य में अवस्थित राम जानकी ठाकुरबाड़ी में सेमिनार के कार्यालय का विधिवत उद्घाटन सेमिनार के आयोजन सचिव राहुल यादव ने  नारियल फोड़ कर किया । 
सिंहेश्वर मंदिर के दार्शनिक और धार्मिक महत्व के दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार के आयोजन को लेकर गुरुवार को सिंहेश्वर के कार्यालय का उद्घाटन से पुर्व मंत्रोच्चारण के साथ विधिवत भगवान गणपति का आह्वान कर सेमिनार की सफलता की प्रार्थना की गयी और सभी देवताओं को कार्यक्रम में आने के लिए आमंत्रण भी दिया गया। पंडित विजय झा, पंडित शशी नाथ झा, पंडित रविंद्र नाथ ठाकुर और मनिष झा ने मंत्रोच्चारण किया। सेमिनार की सफलता के लिए आयोजन समिति श्रीकृष्ण सेना के साथ साथ सिंहेश्वर के धर्मप्रेमी भी तन, मन और धन से सहयोग कर रहे हैं।

देश के विद्वानों का लगेगा जमघट: मधेपुरा के सामाजिक और सांस्कृतिक संस्था श्री कृष्ण सेना द्वारा 3 एवं 4 मार्च को उक्त राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया जा रहा है। आयोजन सचिव राहुल कुमार और सेमिनार के कन्वेनर सह बीएन मंडल विवि उप रजिस्ट्रार, शैक्षणिक नरेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि सिंहेश्वर स्थान का धार्मिक, ऐतिहासिक और सामाजिक महत्त्व के साथ साथ पुरातात्विक महत्व को विश्व पटल पर लाने के लिए सेमिनार का आयोजन किया जा रहा है। इसमें बिहार के विभिन्न विश्वविद्यालय के अलावा बीएचयू, रांची, उड़ीसा, दिल्ली विवि के कई विशेषज्ञ प्राध्यापकों का आगमन होगा। साथ ही सैकड़ों रिसर्च स्कॉलर और जाने माने साहित्यकार भी लोगों को विविध जानकारी देंगे।
   अधिकारी द्वय ने बताया कि बाहर से आने वाले वक्ताओं में अबतक पटना हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज अखिलेश चंद्र, पूर्व डीजीपी अभयानन्द, डॉ आरपी श्रीवास्तव, पूर्व कुलपति सह दर्शन परिषद् राष्ट्रीय अध्यक्ष, ओपी पाण्डेय निदेशक, भागलपुर म्यूजियम, डॉ अमरनाथ सिन्हा, पूर्व कुलपति बीएनएमयू सह पटना विवि हिंदी विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष,  इतिहास संकलन योजना के कई प्राध्यापकों ने आने की सूचने दे दी है। साथ ही भारत सरकार के गंगा समग्र योजना और नेहरू युवा केंद्र का बिहार में काम देख रहे रामशंकर जी भी सेमिनार में आने की स्वीकृति दी है।
      श्री राहुल ने बताया कि धार्मिक न्यास परिषद् के पूर्व मुख्य प्रशासक आचार्य कुणाल किशोर सहित अन्य लोगों से भी बात हो रही है।

तथ्य और साक्ष्य आधारित होगी पुस्तक :-  सेमिनार के संयोजक डॉ. नरेन्द्र श्रीवास्तव बताते हैं कि इस सेमिनार से कई ऐसी बातें सामने आएगी, जिन्हें आम लोग अब तक नहीं जानते हैं। इसी कारण इस सेमिनार में प्रख्यात दार्शनिकों, धर्मशास्त्रियों एवं विद्वानों को आमंत्रित किया गया है। इन विद्वानों की रचनाओं को पुस्तक का रूप देकर प्रकाशित करने की भी योजना है। 25 फरवरी तक सारांश देकर और दो मार्च तक पूर्व व्याख्यान के साथ तीन सौ शब्दों में विद्वानों के आलेख की स्मारिका प्रकाशन के लिए आमंत्रित किया गया।

स्थानीय लोगों बढ चढ कर आ रहे हैं आगे :-  बाबा सिंहेश्वर नाथ पर हो रहे  सेमिनार को सफल बनाने के लिए स्थानीय लोगों में भी गजब का उत्साह देखा जा रहा है। स्थानीय स्वागत समिति के संरक्षक अशोक भगत, अध्यक्ष दिलीप खंडेलवाल, संयोजक राजीव कुमार बबलू, महामंत्री इन्द्रदेव स्वर्णकार, उपाध्यक्ष मो इस्तियाक आलम आदि का कहना है कि इस सेमिनार से बाबा के विषय में लोगो अधिक गहरी जानकारी मिलेगी, साथ ही  सिंहेश्वर की महत्ता देश-विदेश के कोने कोने तक फैलने में यह मील का पत्थर साबित होगा।
     कार्यालय उद्घाटन के मौके पर आयोजन समिति से जुड़े पदाधिकारी और कार्यकताओं के अलावा बड़ी संख्या में शहरवासी भी मौजूद थे। स्वागत समिति के संरक्षक श्री विश्वनाथ प्राणसुखका, श्री हरि प्रसाद टेकरीवाल, श्री रविंद्र ठाकुर, श्री महानंद झा, श्री अशोक भगत, संयोजक राजीव कुमार बबलू, उपाध्यक्ष श्री अरविंद प्राणसुखका, श्री राजेश कुमार झा, मो. ईस्तयाक आलम, श्री अमरनाथ अग्रवाल, श्री पंकज कुमार गिरि, श्री सुरेश प्राणसुखका, श्री रूपेश अग्रवाल, डा अनुराग भगत, श्री पंकज कुमार भगत,  महामंत्री श्री इन्द्रदेव स्वर्णकार, मंत्री श्री संजय कुमार गुप्ता, प्रमोद कुमार जयसवाल, श्री विजय भगत, राकेश कुमार रमानी, श्री राजेश गुप्ता, श्री संजय पाठक, श्री मुकेश यादव, श्री मिलन गुप्ता, लेखा सहायक प्रकाश चंद्र जयसवाल चुने गए हैं । वहीं मौके पर मीडिया एडवाइजरी कमिटी के प्रदीप कुमार झा, राकेश रंजन, आयोजन समिति के डा. जवाहर पासवान, डा. आई सी भगत,  तुरवसू उर्फ बंटी, रवि कुमार शर्मा, डा. ब्रजेश कुमार सिंह, जटा शंकर, राजेश कुमार, सुधांशु कुमार, बिट्टू कुशवाहा, विकास कुमार, दिलीप कुमार मौजूद थे ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...